न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड की बेटी असुंता लकड़ा बनी हॉकी इंडिया की संयुक्त सचिव

हॉकी झारखंड के अध्यक्ष भोलानाथ सिंह को उपाध्यक्ष बनाया गया है.

178

Simdega : हॉकी इंडिया के आठवें सम्मेलन और चुनाव के दौरान झारखंड की बेटी असुंता लकड़ा को हॉकी इंडिया का संयुक्त सचिव चुना गया है. साथ ही इस 11 सदस्यीय समिति में हॉकी झारखंड के अध्यक्ष भोलानाथ सिंह को उपाध्यक्ष बनाया गया है. इस चुनाव में हॉकी इंडिया के पूर्व महासचिव मोहम्मद मुश्ताक अहमद को हॉकी इंडिया का नया अध्यक्ष चुना गया है. अहमद निवर्तमान अध्यक्ष राजिंदर सिंह की जगह पर पदास्थापित होंगे. उनका चुनाव सर्वसम्मति से हुआ है.

इसे भी पढ़ें : सीएम आवास के पास चलता था अवैध शराब का कारोबार, बेखबर रहा उत्पाद विभाग

11 सदस्यीय समिति

मणिपुर के ज्ञानेंद्रो निंगोमबाम सीनियर उपाध्यक्ष होंगे जबकि जम्मू कश्मीर हॉकी की असिमा अली और हॉकी झारखंड के भोलानाथ सिंह उपाध्यक्ष होंगे. हॉकी जम्मू कश्मीर के राजिंदर सिंह ने मरियम्मा कोशि के रिटायर होने के बाद पद संभाला था. उन्हें नया महासचिव और हॉकी असम के तपन कुमार दास को कोषाध्यक्ष चुना गया है. भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान असुंता लकड़ा और छत्तीसगढ हॉकी के फिरोज अंसारी संयुक्त सचिव होंगे. आर पी सिंह और जायदीप कौर खिलाड़ियों के प्रतिनिधि बने रहेंगे.

हॉकी राजस्थान की आरती सिंह, हॉकी तमिलनाडु की एम रेणुका लक्ष्मी और एसवीएस सुब्रमण्यम गुप्ता कार्यकारी सदस्य चुने गए.

इसे भी पढ़ें : चार दिनों में ही बदल जाता है पाकुड़ डीसी का फैसला, रसूख वाले को दिया बार लाइसेंस दूसरे को कहा नो

परिचय की मोहताज नहीं असुंता

झारखंड की बेटी व भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान असुंता लकड़ा बेहद साधारण परिवार में जन्मी,आभाव में पलि-बढ़ी है. एक साधारण व्यक्तित्व की असुंता जो हॉकी में बड़ा मुकाम हासिल कर चुकी है. 2000 से 2014 तक लगातार 14 वर्षो तक भारतीय टीम की सदस्य रह कर दुनिया के हर कोने में हॉकी खेलने गई तथा कई पदक भी जीते. देश की कप्तानी भी कर चुकी है. असुंता लकड़ा भारतीय महिला हॉकी टीम की चयनकर्ता के साथ-साथ जूनियर भारतीय महिला हॉकी टीम प्रशिक्षक भी है. झारखंड के लिए बहुत गर्व की बात है की हॉकी इंडिया हर वर्ष एक खिलाड़ी को असुंता अवार्ड देती है. लेकिन इतनी उपलब्धियों के बावजूद असुंता जब अपने घर सिमडेगा आती है तो उन्हें जरा भी अहंकार नहीं होता है. वह तो गांव की साधारण महिलाओं के साथ ही अब भी पेड़ के नीचे महुआ चुनने पहुंच जाती है. असुंता झारखंड की अन्य लड़कियों के लिए प्रेरणा स्रोत है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: