Jharkhand Vidhansabha Election

#JharkhandElection2019: कौन होगा हटिया और रांची से बीजेपी का उम्मीदवार, हो रही लॉबिंग, रोज ही कट और जुड़ रहे नाम

Akshay Kumar Jha

Ranchi: झारखंड की सबसे वीवीआइपी सीटों में शुमार राजधानी रांची और हटिया सीट से बीजेपी की तरफ से उम्मीदवार कौन होगा.

हटिया में जेवीएम से बीजेपी में आये नवीन जायसवाल टिकट लेने में कामयाब होंगे या बीजेपी की पुरानी कैडर सीमा शर्मा को सफलता मिलेगी. या फिर किसी तीसरे को बीजेपी वहां से उम्मीदवार बना देगी.

वहीं रांची में क्या सीपी सिंह छठी बार विधायक बनने के लिए ताल ठोंक सकेंगे या फिर बीजेपी के लिए सुरक्षित सीट माने जानेवाली रांची सीट किसी को लॉटरी की तरह मिलनेवाली है.

Sanjeevani

इन दोनों विधानसभाओं को लेकर कई तरह की बातों से राजनीतिक चर्चा गर्म है. उम्मीदवार को लेकर लोगों की नजरें घोषणा पर टिकी हैं, तो वहीं दावेदारी करनेवालों की सांसें रुकी हुईं हैं.

पुख्ता तौर पर कोई भी किसी के नाम पर मुहर नहीं लगा रहा. लेकिन कुछ नाम हैं जो रेस में हैं. जानते हैं उन नामों को और उन नामों से जुड़े समीकरण को.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection 2014 में 1499 उम्मीदवार थे मैदान में, 949 की जमानत हो गयी थी जब्त

कौन बनेगा बीजेपी से रांची का उम्मीदवार

बीजेपी की तरफ रांची का उम्मीदवार कौन होगा. यह अभी तक तय नहीं है. रांची की राजनीति समझ रखनेवालों का कहना है कि सीपी सिंह को टिकट मिल जाये इसकी संभावना 50 फीसदी से कम है.

रांची बीजेपी के लिए एक सुरक्षित सीट है. ऐसे में पार्टी इस सीट पर खुल कर प्रयोग कर सकती है. रांची से टिकट लेने के लिए फिलहाल रेस में दो लाइन में दावेदार खड़े हैं.

पहली लाइन में जो चार नाम आगे चल रहे हैं. उनमें आदित्य साहू, डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय, भानू जालान और प्रतुल शाहदेव शामिल हैं. कहा जा रहा है कि ये चारों नाम सीएम रघुवर दास के काफी करीबी हैं.

आदित्य साहू को लोकसभा में टिकट नहीं मिल पाया था. इसलिए वो विधानसभा में अपनी दावेदारी पुख्ता करने में लगे हैं. संजीव विजयवर्गीय रांची के डिप्टी मेयर से विधायक बनने की प्रबल इच्छा रखे हुए हैं.

लोकसभा चुनाव से ही वो इसकी तैयारी में लगे हुए हैं. भानू जालान सत्ता के गलियारे में ही हर वक्त पाये जाते हैं, तो प्रतुल शाहदेव ने टिकट के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाने में कोई कमी नहीं छोड़ी है.

दूसरी लाइन में जो खड़े हैं उनमें दीपक प्रकाश, परमा सिंह, संदीप वर्मा, सत्यनारायण सिंह, मनोज मिश्रा के अलावा और कई नाम हैं. हालांकि दीपक प्रकाश एक दमदार दावेदार हैं. लेकिन उनका नाम हटिया विधानसभा में भी चलने की वजह से रांची में दूसरी लाइन में कहा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – महाराष्ट्र CM पद पर खींचतान के बीच BJP विधायक दल की बैठक, फडणवीस के नेता चुने जाने की संभावना

कौन होगा बीजेपी से हटिया का उम्मीदवार

जिस तरह से सीमा शर्मा दुर्गा पूजा के वक्त से ही अपने विधानसभा में प्रचार प्रसार में लगीं हैं, उससे ऐसा लग रहा है कि उन्हें बीजेपी के किसी शीर्ष नेता से टिकट मिलने का इशारा मिल गया हो.

होर्डिंग्स तक तो बात ठीक थी. लेकिन अखबारों में भी वो फुल पेज अपना विज्ञापन हटिया विधानसभा के नाम से छपवा रही हैं. ऐसे में नवीन जायसवाल का क्या होगा. क्या उन्हें बीजेपी टिकट नहीं देगी.

अगर ऐसा होता है, तो निश्चित तौर पर बीजेपी उन्हें किसी और तरीके से मनाने की कोशिश करोगी. लेकिन वो रास्ता क्या होगा. दिल्ली भेजने की बात पर वो मानेंगे या फिर रांची शिफ्ट करने की बात पर वो मानेंगे.

दोनों वजह अगर गलत हुई तो उन्हें बीजेपी का बागी नेता बन कर हटिया से चुनाव लड़ना पड़ेगा. ऐसा सीमा शर्मा के साथ भी हो सकता है. शायद वो भी टिकट न मिलने के बाद बागी रुख अख्तियार कर लें.

इधर दीपक प्रकाश को भी हटिया से इस बार चुनाव लड़ने का मौका दिये जाने कि अटकलें तेज हैं.

रांची में कहीं पैराशूट से न उतर जाये कैंडीडेट

रांची विधानसभा सीट के लिए एक और तरह की बात चल रही है. कुछ जानकारों का कहना है कि सीपी सिंह राजनीति में एक भारी भरकम नाम हैं. अगर पार्टी इनका नाम काटती है, तो इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि किसी बड़े नाम को रांची से टिकट दे दिया जाये.

अब यह कौन होंगे यह अभी क्लीयर नहीं है. पार्टी में कई ऐसे नाम हैं, जो हाल ही में पार्टी से जुड़े हैं. या कई ऐसे भी नाम हैं जो पार्टी ज्वाइन करने के बाद सक्रिय नहीं हैं. लेकिन बड़े नाम हैं.

इसे भी पढ़ें – EU सांसदों के कश्मीर दौरे के पीछे कौन है मिस्ट्री वुमेन जिसके NGO ने उठाया सारा खर्च, कही- PM से मिलवाने की बात

Related Articles

Back to top button