Jharkhand Vidhansabha Election

#JharkhandElection: खूंटी-तोरपा में बीजेपी और जेएमएम के बीच चल रहा शह-मात का खेल

Ranchi : झारखंड विधानसभा के दूसरे चरण में तोरपा और खूंटी सीट को लेकर बीजेपी और जेएमएम के बीच शह-मात का खेल देखने को मिल रहा है.

पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन और केंद्रीय अध्यक्ष शिबू सोरेन का क्षेत्र का दौरा इस बात को बयां करने के काफी है कि पार्टी की इन दोनों सीटों पर विशेष नजर है. तोरपा जेएमएम की सीटिंग सीट है.

हेमंत सोरेन ने क्षेत्र में तीन चुनावी जनसभाएं की हैं. वहीं शिबू सोरेन ने बुधवार को खूंटी के जलटंडा बाजार में जनसभा को संबोधित किया था. इससे उलट तोरपा सीट से सीटिंग विधायक का टिकट काटा जाना और खूंटी सीट पर भाजपा के मजबूत प्रत्याशी के रूप में कैबिनेट मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा का चुनाव लड़ना झामुमो के लिए परेशानी भी है.

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

बता दें कि तोरपा सीट वर्तमान में जेएमएम के खाते में है. सीटिंग विधायक पौलुस सुरीन का टिकट काट कर पार्टी ने यहां से सुदीप गुड़िया को प्रत्याशी बनाया है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें – नौकरी घोटाला : सरयू राय ने रिकॉर्ड जारी कर कहा, रघुवर ने 26 हजार युवकों को रोजगार देने का झूठा दावा किया

मजबूती से टक्कर दे रहे हैं सुदीप गुड़िया

बात अगर तोरपा विधानसभा की करें, तो सीटिंग सीट पर पार्टी नेता और प्रत्याशी यहां मजूबती से बीजेपी प्रत्याशी कोचे मुंडा को टक्कर दे रहे हैं. वहीं सीटिंग विधायक पौलुस सुरीन ने पार्टी से बगावत कर निर्दलीय चुनावी मैदान में हैं. उनके चुनाव मैदान में उतरने से मुकाबला रोचक हो गया है.

इस सीट पर हेमंत सोरेन ने गत 30 नवंबर को विधानसभा के तपकरा हाई स्कूल और 1 दिसम्बर को बानो के जयपाल सिंह मैदान में अपने प्रत्याशी के पक्ष में लोगों से वोट देने की अपील की है. दूसरी और सुदीप गुड़िया और उनके समर्थक लगातार इलाके के विभिन्न क्षेत्रों में जनसंपर्क अभियान चला चुके हैं. लोगों से मिल कर अपील की है कि गुरुजी व हेमंत सोरेन के सपने को साकार करने के लिए वे जेएमएम उम्मीदवार को वोट दें.

इसे भी पढ़ें – पीएम को चिट्ठी लिख कर कहा था, न करें विधानसभा का उद्घाटन, अगजनी की हो सीबीआइ जांचः सरयू

खूंटी सीट पर जीतना जेएमएम के लिए बड़ी चुनौती

खूंटी सीट पर बीजेपी की जीत के तिलस्म को तोड़ना जेएमएम के लिए एक मजूबत चुनौती से कम नहीं है. रांची विधानसभा की तरह खूंटी सीट भी पिछले 20 साल से बीजेपी के गढ़ के रूप में जानी जाती है.

पिछले दो दशकों से स्थानीय विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा (वर्तमान में कैबिनेट मंत्री) इस सीट पर अपनी पैठ बना चुके हैं. ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा पर विश्वास को कायम रखते हुए पार्टी ने उन्हें पांचवीं बार इस सीट से चुनावी दंगल में उतारा है.

दूसरी तरफ जेएमएम ने यहां से सुशील कुमार लौंग को मैदान में उतारा है. हालांकि मुंडा की स्थिति को देख यह नहीं कहा जा सकता है कि जेएमएम प्रत्याशी उन्हें कड़ी टक्कर दे पायेंगे. लेकिन हेमंत सोरेन ने पिछले एक सप्ताह में यहां तीन जनसभा को संबोधित कर सुशील के पक्ष में माहौल बनाने का प्रयास किया है.

बता दें कि 30 नवंबर को उन्होंने मारंगहादा के एसपीजी मीडिल स्कूल मैदान में, 1 दिसम्बर को डकेला मीडिया स्कूल मैदान और 4 दिसम्बर को खूंटी के हारूहासा हाई स्कूल मैदान में चुनावी जनसभा को संबोधित किया था.

इसे भी पढ़ें – कॉलेज को अपग्रेड कर बनाया विवि, सरकार दावा कर रही- राज्य को मिले नये विवि

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button