Jharkhand Vidhansabha Election

#JharkhandElection : 32 सालों तक छत्रुराम व माधवलाल के इर्द-गिर्द घूमती रही गोमिया की राजनीति, इस बार अलग है सीन

Bermo : वर्ष 1977 से लेकर 2009 तक गोमिया विधानसभा क्षेत्र की राजनीति क्षेत्र के दो कद्दावर नेताओं छत्रुराम महतो व माधवलाल सिंह के इर्द-गिर्द ही घूमती रही.

लेकिन 2014 में इस मिथक को यहां पहली बार झामुमो ने तोड़ा तथा जीत दर्ज की. इसके बाद 2018 के उपचुनाव में दुबारा झामुमो इस सीट पर विजयी रहा.

इस बार के विधानसभा चुनाव में झामुमो के गढ़ को ध्वस्त करना यहां आजसू व भाजपा के साथ-साथ निर्दलीय प्रत्याशी माधवलाल सिंह के लिए चुनौती भरा कार्य होगा.

इसे भी पढ़ें : #Unemployment: सफाई कर्मचारियों के 549 पद के लिए 7000 इंजीनियर, ग्रेजुएट और डिप्लोमा होल्डर ने किया आवेदन

इस बार निर्दलीय उतरे हैं माधवलाल

झामुमो से पुनः विधायक बबीता देवी, आजसू से डॉ लंबोदर महतो, भाजपा से लक्ष्मण कुमार नायक तथा निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में माधवलाल सिंह इस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं.

2018 के उपचुनाव में मात्र 12 सौ मतों के अंतर से डॉ लंबोदर महतो पराजित हुए थे.

1985 के गोमिया विधानसभा चुनाव में घोड़ा चुनाव चिन्ह लेकर माधवलाल सिंह ने निर्दलीय चुनाव लड़ा तथा भाजपा के कद्दावर नेता छत्रुराम महतो को पराजित किया था.

वर्ष 1990 का चुनाव भी बतौर निर्दलीय प्रत्याशी जीत दर्ज की थी.

वह वर्ष 2000 का चुनाव जीतने के बाद वे कांग्रेस में चले गये तथा कांग्रेस के टिकट पर 2009 का चुनाव जीता. एकीकृत बिहार सरकार में सिंह पर्यटन मंत्री रहे जबकि झारखंड सरकार में परिवहन व नगर विमानन मंत्री रहे. झारखंड धार्मिक न्यास बोर्ड के चेयरमैन भी रहे.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandElection : टिकट बंटने और दल-बदल की भागम-भाग के बाद जानें,  कहां बीजेपी हुई मजबूत और कहां कमजोर

जनसंघ से लेकर भाजपा तक से जीतते रहे छत्रुराम

वहीं पूर्व विधायक छत्रुराम महतो 1972 में भारतीय जनसंघ से, 1977 में जनता पार्टी से तथा 1980,1995 एवं 2005 में भाजपा के टिकट पर गोमिया विस से चार बार विधायक बने.

वह एकीकृत बिहार सरकार में वित्त राज्य मंत्री के अलावा विधानसभा में मुख्य सचेतक भी रहे. साथ ही बिहार प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष भी रहे जबकि झारखंड सरकार में मार्केटिंग बोर्ड के चेयरमैन रहे.

2014 के विधानसभा चुनाव में झामुमो प्रत्याशी योगेंद्र महतो ने भाजपा प्रत्याशी माधवलाल सिंह को पराजित किया. बाद में योगेंद्र महतो के कोयला चोरी के एक मामले में कोर्ट द्वारा सजा सुनाये जाने के बाद उनकी विधायकी समाप्त हो गयी.

2018 में यहां उपचुनाव हु्आ जिसमें झामुमो ने योगेंद्र महतो की पत्नी बबीता देवी को पार्टी प्रत्याशी बनाया. बबीता देवी ने आजसू प्रत्याशी डॉ लंबोदर महतो को पराजित किया.

 

कुल मतदाता- 2 लाख 73 हजार 481

पुरुष मतदाता- एक लाख 44 हजार 415

महिला मतदाता- एक लाख 28 हजार 873

ट्रांसजेंडर मतदाता- 02

सर्विस मतदाता- 191

नये मतदाता- 391

तीन काम जो हुए

  • घघरी व कानीडीह (दामोदर नदी) पर उच्चस्तरीय पुल की स्वीकृति और निर्माण कार्य की शुरुआत, इससे गोमिया प्रखंड सीधे रजरप्पा मंदिर (रामगढ़) व गोला प्रखंड से जुड़ेगा.
  • डीएमएफटी से स्वीकृति बाद गोमिया में करीब 10 ग्रामीण पेयजलापूर्ति योजनायें (निर्माणाधीन).
  • गोमिया में सरकारी डिग्री कॉलेज की स्वीकृति (निर्माणाधीन), उच्च शिक्षा को छात्रों को नहीं जाना होगा बाहर

तीन काम जो नहीं हुए

  • पलायन रोकथाम को कोई कल-कारखाना स्थापित नहीं हुआ
  • आइटीआइ कॉलेज तेनुघाट चालू नहीं हो सका
  • किसानों के लिये कोल्ड स्टोरेज नहीं बना

इसे भी पढ़ें : सभी पार्टियों के घोषणापत्र में क्या-क्या है समान, किन खास मुद्दों को दिया है अलग से स्थान, पढ़िये रिपोर्ट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: