न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JharkhandElection: सी-वोटर सर्वे के अनुसार बीजेपी को बहुमत नहीं, भाजपा को 33 तो गठबंधन को 30 सीटें मिलने का अनुमान

2,566

New Delhi/Ranchi:  महाराष्ट्र में तगड़ा झटका खाने के बाद झारखंड में भी बीजेपी को अच्छा खासा नुकसान उठाना पड़ सकता है. ऐसा सी-वोटर के सर्वे में सामने आया है.

सी वोटर के प्री पोल सर्वे में यह बात सामने आ रही है कि सत्तारूढ़ बीजेपी बहुमत तक नहीं पहुंच पा रही है. सर्वे के मुताबिक विपक्षी गठबंधन (झामुमो, राजद औऱ कांग्रेस) और बीजेपी की सीटें करीब-करीब बराबर होंगी.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

किंगमेकर की भूमिका में आजसू औऱ झाविमो

सी वोटर के सर्वे में बताया गया है कि बीजेपी को करीब 33 सीटें मिलेंगी वहीं गठबंधन करीब 30 सीटों पर जीत दर्ज करेगा. बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा और सुदेश महतो की पार्टी आजसू दोनों को 6-6 सीटें मिलने का अनुमान है. ऐसी स्थिति में झाविमो औऱ आजसू किंगमेकर की भूमिका निभा सकती हैं.

इसे भी पढ़ें – #Jamshedpur: अभय सिंह का आरोप-CM के इशारे पर उनके OSD के भाई ने JVM नेत्री के साथ की छेड़खानी

अगर वोट प्रतिशत की बात करें तो सी-वोटर ने बीजेपी को 33.3 फीसदी औऱ गठबंधन को 31.2 फीसदी वोट मिल सकते हैं. जेवीएम, बीजेपी और गठबंधन दोनों के वोट प्रतिशत को काफी नुकसान पहुंचा रहा है. सी-वोटर के मुताबिक जेवीएम को 7.7 फीसदी वोट मिल सकते हैं. वहीं आजसू को 4.6 फीसदी वोट मिलने का अनुमान जताया गया है.

रघुवर दास को पसंद नहीं कर रहे झारखंडवासी

सी-वोटर के अनुसार झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास एंटी इनकंबेंसी का सामना कर रहे हैं. सर्वे की मानें तो नवंबर महीने में 60 फीसदी लोगों का कहना है कि तत्काल प्रभाव से झारखंड का मुख्यमंत्री बदला जाये. वहीं सितंबर महीने में 53.4 फीसदी लोगों ने कहा था कि रघुवर दास को मुख्यमंत्री पद से हटा दिया जाये. सितंबर माह से नवंबर महीने तक मुख्यमंत्री रघुवर दास को हटाने की चाहत रखनेवालों की संख्या में 7.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand के 5 विवि के 167 कॉलेजों पर हर साल 500 करोड़ खर्च, फिर भी घटते गये प्रति छात्र शिक्षक

25 फीसदी लोगों का मुद्दा है बेरोजगारी और घटता व्यापार

सी वोटर के सर्वे के मुताबिक बीजेपी को बहुमत नहीं मिलने के कारण कई हैं. 26 फीसदी लोगों ने सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. वहीं 11.2 फीसदी लोगों ने सीधा मुख्यमंत्री को वजह बताया है. 6.5 फीसदी लोगों ने केंद्र सरकार की रणनीति और 4.5 फीसदी लोगों ने प्रधानमंत्री को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है. 15.8 फीसदी लोगों ने बहुमत न मिलने का ठीकरा स्थानीय विधायक पर फोड़ा है. 25 फीसदी लोगों ने बीजेपी के बहुमत से दूर रहने की वजह बेरोजगारी और राज्य में व्यापार की स्थित को बताया है.  17.5 फीसदी लोगों ने पानी, बिजली और सड़क को चुनाव का मुख्य मुद्दा माना है. जिससे बीजेपी की सीटें घटती हुई नजर आ रही हैं.

घटी है रघुवर दास की लोकप्रियता

जहां तक मुख्यमंत्री के चेहरे की बात है सी-वोटर के सर्वे के मुताबिक रघुवर दास की लोकप्रियता घटी है, तो वहीं पिछले दो महीने में अर्जुन मुंडा की लोकप्रियता में इजाफा हुआ है. हालांकि रघुवर दास अब भी मुख्यमंत्री की पहली पसंद बने हुए हैं. लेकिन बाबूलाल मरांडी और हेमंत सोरेन की लोकप्रियता में तेजी से इजाफा हो रहा है. ऐसा देखा जा रहा है कि बीजेपी का ही एक धड़ा अर्जुन मुंडा को सीएम के तौर पर पेश कर रहा है. खास कर वैसे समय में जब बीजेपी खुद के दम पर सरकार बनाने से पीछे रह जाये.

28 फीसदी लोगों की पसंद हैं रघुवर दास

सी-वोटर के सर्वे में 28 फीसदी लोगों ने सीएम के तौर पर रघुवर दास को पसंद किया है. वहीं पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को दोबारा सीएम की कुर्सी पर 22.7 फीसदी लोग देखना चाहते हैं. राज्य के पहले मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी को 21.9 फीसदी लोग एक बार फिर से सीएम बनता देखना चाहते हैं. वहीं अर्जुन मुंडा को 8.2 फीसदी, सुदेश महतो को 3.2 फीसदी और शिबू सोरेन को 2.6 फीसदी लोग सीएम के तौर पर देखना चाहते हैं.

इसे भी पढ़ें – #Corruption: भ्रष्टाचार के मामले में झारखंड देश भर में तीसरे नंबर पर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like