JharkhandRanchi

#Jharkhand_Congress : नये सदस्यों को 2 साल तक पार्टी में पद नहीं, 3 सालों तक नहीं मिलेगा टिकट,15 लाख नये सदस्य बनाने का लक्ष्य

Ranchi : दूसरे राजनीतिक दलों को छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए नेता अब 2 साल तक पार्टी के किसी पद के हकदार नहीं होंगे. यह फैसला प्रदेश कांग्रेस अध्य़क्ष रामेश्वर उरांव की अध्यक्षता में पार्टी मुख्यालय में आयोजित जिलाध्यक्षों, विधानसभा प्रभारियों, अग्रणी मोर्चा संगठन के अध्यक्षों के साथ हुई बैठक में लिया गया है. इसके अलावा दूसरे दलों से पार्टी में शामिल हुए नेता शामिल होने की तारीख से 3 साल तक पार्टी के टिकट पर चुनाव भी नहीं लड़ सकेंगे.

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि पारित प्रस्ताव से अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी को अवगत कराया जायेगा. बैठक में विधायक दल के नेता सह कैबिनेट मंत्री आलमगीर आलम, कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश, राजेश ठाकुर, मानस सिन्हा, संजय लाल पासवान, सांसद गीता कोड़ा, मंत्री बन्ना गुप्ता, मंत्री बादल, विधायक ममता देवी, दीपिका पांडेय सिंह, अम्बा प्रसाद, भूषण बाड़ा, पूर्णिमा नीरज सिंह उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : निर्मल हृदय में शिशुओं को बेचे जाने के मामले  में सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड सरकार को नोटिस जारी किया

चुनाव से पहले पार्टी छोड़ने वाले 6 साल तक पार्टी से रहेंगे बाहर

बैठक में इस बात पर भी निर्णय हुआ कि विधानसभा चुनाव के ठीक पहले पार्टी छोडने वाले नेता अगले 6 वर्षों तक पार्टी में शामिल नहीं हो पायेंगे. वहीं किसी भी दल के इच्छुक नेता व कार्यकर्ता को पार्टी में शामिल करने से पहले प्रदेश कांग्रेस कमिटी से पूर्व अनुमति ली जायेगी. उसके बाद ही जिला कांग्रेस कमिटी उसे पार्टी में शामिल कराने का काम करेगी. बैठक में जिला कांग्रेस कमिटी के अध्यक्षों ने सर्वप्रथम प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व विधायक दल के नेता को विधानसभा चुनाव में विजय दिलाने एवं सरकार के निर्माण के लिए बधाई दी.

इसे भी पढ़ें :44 दिनों से IAS सुनील बर्णवाल वेटिंग फॉर पोस्ट, 46 दिनों से CMO बगैर सचिव के

15 लाख सदस्य बनाने का अभियान शुरू

जिला अध्यक्षों की बैठक को सम्बोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सदस्य बनाने के क्रम में कार्यकर्ता राज्य के सभी जिलों का दौरा करें और पार्टी में समर्पित लोगों को संगठन से जोड़ें. उन्होंने कहा कि बुधवार को शुरू हुए सदस्यता अभियान में 15 लाख सदस्य बनाये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. अभियान को सफल बनाने में जिला, प्रखंड और पंचायत स्तर के अध्यक्षों की भूमिका अहम होगी.

इसे भी पढ़ें : कोर्ट के दखल दिहानी के आदेश के बाद भी आदिवासी जमीन पर दबंगों का कब्जा, दिव्यांग परिवार की हेमंत सोरेन से गुहार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button