JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

Jharkhand: कांग्रेस कोटे को छोड़ 14 जिलों में 20 सूत्री समिति का खाका लगभग तैयार, जिले में होगी 10 लोगों की टीम

Ranchi: झारखंड में हेमंत सोरेन की अगुवाई वाली सरकार के दो साल बीतने को है. गठबंधन की सरकार 20 सूत्री समिति का गठन जमीनी स्तर पर नहीं कर सकी है. समिति के नाम पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अध्यक्ष तो कार्यकारी अध्यक्ष स्टीफन मरांडी हैं. इसके अलावा फिलवक्त जिला स्तर पर ना ही उपाध्यक्ष और ना ही प्रखंड स्तर पर कोई सदस्य बन पाया है. 20 सूत्री समिति के लिए सबसे ज्यादा हाय-तौबा करने वाली कांग्रेस ही कन्फ्यूज है कि समिति में किन्हें शामिल किया जाए और किसे नहीं. इस बीच जो खबर सूत्रों के हवाले से आ रही है कि जेएमएम ने सदस्य और उपाध्यक्ष को लेकर करीब-करीब मामला सुलझा लिया है, लेकिन कांग्रेस की वजह से आगे का रास्ता रुका हुआ है. जबकि 20 सूत्री समिति को लेकर सबसे ज्यादा गंभीरता कांग्रेस ही दिखा रही थी.

इसे भी पढ़ेंःदुर्गापूजाः 139 साल पुराना है रांची के दुर्गाबाड़ी का इतिहास, 1883 में पहली बार की गई थी पूजा

14 जिलों में हो सकती है समिति की घोषणा

20 सूत्री समिति तैयार नहीं होने की वजह से जेएमएम और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में काफी नाराजगी है. जिला और प्रखंड स्तर के कार्यकर्ताओं का कहना है कि शीर्ष स्तर के पदाधिकारी चाहते ही नहीं है कि जिला और प्रखंड स्तर के कार्यकर्ताओं को सम्मान मिले. खास कर कांग्रेस इस पूरे मामले को लेकर शिथिल है. कहा जा रहा है कि जेएमएम और राजद ने 20 सूत्री समिति का फॉर्मूला तैयार कर लिया है. गठबंधन सरकार ने यह तय किया था कि जेएमएम को 13, कांग्रेस को 10 और राजद को एक जिला दिया जाएगा. जेएमएम और राजद की तरफ से उपाध्यक्ष समेत सदस्यों के नाम लगभग तय कर लिए गए हैं. पूजा के बाद कभी भी कांग्रेस कोटे को छोड़ जेएमएम और राजद के टीम की घोषणा हो सकती है. बताया जा रहा है कि जिला स्तर पर करीब 10 लोगों की टीम होगी. उपाध्यक्ष को छोड़ चार जेएमएम, चार कांग्रेस और एक सदस्य राजद को होगा.

इसे भी पढ़ेंःराजधानी में डोर टू डोर कूड़े का उठाव ठप, कई जगहों पर नहीं रही स्ट्रीट लाइट, सैकड़ों कंप्लेन

राजेश ठाकुर के अध्यक्ष बनने से बढ़ी थी उम्मीद, लेकिन मिली निराशा

20 सूत्री टीम के गठन के लिए कांग्रेस की तरफ से एक टीम बनायी गयी थी. टीम में रामेश्वर उरांव, आलमगीर आलम, राजेश ठाकुर और केशव महतो कमलेश को शामिल किया गया था. इन दिग्गज नेताओं से 20 सूत्री का खाका तैयार नहीं किया जा सका. केंद्रीय स्तर से निर्देश आने के बाद टीम में बदलाव किया गया. आलमगीर आलम और रामेश्वर उरांव के बदले शमशेर आलम और अमूल नीरज खल्को को टीम में शामिल किया गया. फिर भी अभी तक कांग्रेस 20 सूत्री की गुत्थी नहीं सुलझा पायी है. जिस राजेश ठाकुर को बतौर कार्यकारी अध्यक्ष प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह ने 20 सूत्री मामले का निदान करने का जिम्मा दिया था. वो अभी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष हैं. लेकिन फिर भी मामला नहीं सुलझ पाया है.

Related Articles

Back to top button