Sports

उत्तर प्रदेश को 4-0 से हरा झारखंड सबजूनियर महिला टीम ने क्वार्टर फाइनल में जगह बनायी

Ranchi: राष्ट्रीय महिला हॉकी सबजूनियर चैंपियनशिप में राज्य की महिला टीम लगातार जीत दर्ज कर रही है. तीसरी जीत दर्ज करते हुए शनिवार को टीम ने क्वार्टर फाइनल में जगह बनायी. शनिवार को चैंपियनशिप के आखिरी लीग मैच का आयोजन किया गया था. क्वार्टर फाइनल में राज्य की महिला सबजूनियर टीम का उत्तर प्रदेश की टीम के साथ मुकाबला हुआ, जिसमें राज्य की टीम ने उत्तर प्रदेश को 4-0 से मात दी. इसके पूर्व लीग मैचों के दौरान टीम ने आंध्र प्रदेश को 9-0 से, वहीं हॉकी कुर्ग को 25-0 से शिकस्त दी थी. लीग मैचों के दौरान भारतीय खेल प्राधिकरण की टीम को भी राज्य की टीम ने 2-1 से हराया. चैंपियनशिप का आयोजन हिसार हरियाणा में किया गया है. जिसका फाइनल पांच जून को खेला जायेगा.

इसे भी पढ़ें – मोदी सरकार ने शहीदों के बच्चों की बढ़ायी स्कॉलरशिप और रघुवर सरकार ने पुलवामा शहीदों को ठगा

एलिन डुंगडुंग का रहा शानदार प्रदर्शन

इस दौरान झारखंड टीम से एलिन डुंगडुंग ने 22 वें और 49 वें मिनट में दो गोल किये. हालांकि इसके पहले मैच उतार चढ़ाव भरा रहा. राज्य की टीम ने उत्तर प्रदेश की टीम पर दबाव बनाते हुए गोल करने से रोका. दीपिका सोरेंग ने 52 वें मिनट में एक गोल और निक्की कुल्लू ने 54 वें मिनट में एक गोल करके झारखंड को क्वार्टर फाइनल में जगह दिलायी. इस चैंपियनशिप में अन्य राज्यों की टीमों भी शामिल हुई हैं. हॉकी झारखंड के उपाध्यक्ष मनोज कोनबेगी ने कहा कि राज्य की महिला टीम लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रही है. पहले भी राज्य से अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी उभरी हैं. भविष्य में भी ऐसा हो इसके लिए हॉकी झारखंड प्रयासरत है.

advt

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT: DC रांची ने बनायी पूर्व DGP डीके पांडेय की पत्नी की जमीन जांचने के लिए कमेटी, मंत्री ने कहा-कोई भी हो कानून से ऊपर नहीं

ये खिलाड़ी हैं टीम में

झारखंड की टीम में सोनामति कुमारी, दीपिका सोरेंग, दीप्ति कुल्लू, महिमा टेटे, रजनी केरकेट्टा, रोपनी कुमारी, काजल बाड़ा, प्रमोदिनी लकड़ा, प्रीति कुल्लू, नीरू कुल्लू, अंकिता डुंगडुग, किरण बड़ा, एली तिर्की, एडलिन बागे, निक्की कुल्लू, एलिन डुंगडुंग, निराली कुजूर और रश्मि होरो हैं. कोच के रूप में अनिता होरो और मैनेजर के रूप में सुभिला मिंज हैं.

इसे भी पढ़ें – बिजली वितरण व्यवस्था निजी क्षेत्र को सौंपने पर ही निर्बाध बिजली संभव: महेश पोद्दार  

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button