न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

 झारखंड राज्य कर्मचारी चयन आयोग : 21 हजार बेरोजगार नहीं भर सके शुल्क, तो नौकरी वाले आवेदन हो गये  रद्द

झारखंड राज्य कर्मचारी चयन आयोग के द्वारा विशेष शाखा आरक्षी क्लोज कैडर पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किये गये थे. कुल पदों की संख्या 1012 थी.

1,616

Ranchi : झारखंड राज्य कर्मचारी चयन आयोग के द्वारा विशेष शाखा आरक्षी क्लोज कैडर पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किये गये थे. कुल पदों की संख्या 1012 थी. योग्यता के साथ आवेदन शुल्क भी तय किये गये थे. सामान्य और ओबीसी वर्ग के बेरोजगारों के लिए नौकरी पाने के लिए 800 रुपये देने थे. पर अधिक शुल्क के कारण पहले चरण के फार्म भरने के बाद 21 हजार, 118 लोग अपना शुल्क नहीं दे सके और उनके आवेदन को कैंसिल कर दिया गया है.

eidbanner

इसे भी पढ़ेंःरामचंद्र सहिस होंगे आजसू कोटे से मंत्री, कल पांच बजे राजभवन में लेंगे शपथ

दोबारा शुल्क देकर प्रक्रिया पूरी करने को कहा, फिर भी…

झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने इन पदों के लिए 4 जनवरी से 8 फरवरी के बीच आवेदन प्राप्त किये थे. आवेदकों को बाद में आयोग ने स्पष्ट कर दिया था कि आवेदन शुल्क, वर्तमान का फोटो और हस्ताक्षर अपलोड किये बिना आवेदन पूरा नहीं माना जाएगा. ऐसा नहीं करने पर आयोग द्वारा  अभ्यर्थिता रद्द कर दी जायेगी. उस सूचना के बाद भी 21,118 लोग प्रारंभिक चरण को पूरा नहीं कर सके और परीक्षा शुल्क का भुगतान नहीं किया. अब आयोग ने उनकी अभ्यर्थिता को रद्द कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंः14वें वित्त आयोग से मिले 4214.33 करोड़ का ऑडिट टेंडर होगा रद्द 

Related Posts

ट्विंकल शर्मा कांड : धनबाद में कैंडल मार्च निकाला गया, आरोपी को कठोर सजा देने की मांग

बच्ची ट्विंकल शर्मा के साथ हुए आपराधिक यौनाचार के विरोध में रविवार की देर शाम कैंडल मार्च का कार्यक्रम रखा गया.

क्या कहते हैं छात्र

छात्रों की राय जानने के लिए हमने छात्रों से बातचीत की,  लाईब्रेरी में  लगातार सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले विकास सिंह कहते हैं कि एक तो फार्म का शुल्क अधिक है. हम कुछ करते नहीं. 800 रुपया ज्यादा हो जाता है. दूसरा अगर दे भी देते हैं तो परीक्षा अमूमन या तो पूरी नहीं होती है या कैंसिल कर दी जाती है. हम बेरोजगार हैं.  किसी तरह घर से पैसा लेकर पढ़ाई करते हैं, पर आवेदन शुल्क लगातार बढ़ता जा रहा है.

अन्य छात्र गौरीशंकर सिंह का कहना था कि कि पैसा रहता ही नहीं. अधिकतर मामलों में जेएसएससी की परीक्षाएं या तो रद्द कर दी जाती हैं या फिर परीक्षा देर से होती है. कई बार हमारे पैसे जेएसएससी के लिए डूब चुके हैं. परीक्षाएं कैंसिल कर दी जाती हैं.  800 रुपया हम बेरोजगारों के लिए बहुत अधिक है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: