JharkhandJharkhand PoliticsRanchi

दो सप्ताह में राजद की झारखंड प्रदेश कमिटी का होगा विस्तारः श्याम रजक

Ranchi : झारखंड प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश कार्यालय में सोमवार को कर्पूरी ठाकुर की जयंती मनाई गयी. इस दौरान बिहार के पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं राजद के राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक ने कहा कि झारखण्ड में 15 दिनों के अंदर प्रदेश कमिटी का विस्तार किया जायेगा. इसके बाद पूरे प्रदेश में जोरदार कार्यक्रम चलाया जाएगा.
उन्होंने कहा कि पिछली बार नेता प्रतिपक्ष (बिहार) तेजस्वी यादव रांची आये थे. पलामू के छतरपुर में भी ऐतिहासिक कार्यक्रम हुआ था. इसके बाद भंग कमिटी एवं कोरोना के कारण कार्यक्रम प्रभावित हुआ है. जल्दी ही कमिटी विस्तार के बाद फिर से कार्यक्रम की शुरुआत होगी.

रजक ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर ने पिछड़े, दलित, आदिवासियों, अल्पसंख्यक वर्ग एवं उच्च वर्ग के गरीबों की लड़ाई के साथ साथ पिछड़ों के लिए नौकरी में 27 प्रतिशत आरक्षण दिलाने की लड़ाई को अमलीजामा पहनाने का काम किया था.

इसे भी पढ़ें:CAA के खिलाफ भड़काऊ भाषण मामले में शरजील इमाम पर देशद्रोह का आरोप तय

SIP abacus

रजक ने कहा कि समाजवादी विचारधारा और सामन्तवादी विचारधारा के बीच अभी भी कटूता है लेकिन सामन्तवादी शक्तियां आज भी विभिन्न तरीके से सभी जगहों पर, संस्थाओं पर एवं व्यावसायिक गतिविधियों के हथकंडों को अपना कर वर्चस्व बनाने में सक्रिय हैं.

Sanjeevani
MDLM

इस दौरान पार्टी के निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष अभय कुमार सिंह, पूर्व मंत्री राधा कृष्ण किशोर, पूर्व प्रवक्ता डॉ. मनोज समेत अन्य कई नेता व कार्यकर्ता उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें:मुख्यमंत्री ने 14 राइस मिल का किया शिलान्यास, कहा- राज्य में और मिल की जरूरत

कर्पूरी ठाकुर ने मंडल कमीशन को किया लागूः अभय

अभय सिंह ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर को सामंतवादी शक्तियों ने उनकी जाति को आधार बना कर अपमानित किया था. बाद में सभी लोगों को, सभी वर्ग को एक मंच पर वे लाये. बिहार के मुख्यमंत्री बने. बिहार में मंडल कमीशन को लागू किया. उनके अधूरे कार्यों को राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद ने आगे बढ़ाया.

मंडल कमीशन को धरातल पर उतारने का प्रयास किया. उनकी लोकप्रियता को कम करने के लिए उन्हें साजिश करके मुकदमे में फंसा कर जेल भेजने का काम किया गया.

इसे भी पढ़ें:निगम ने पुलिया नहीं बनायी, पार्षद के सहयोग से अब लोग खुद से करायेंगे निर्माण

Related Articles

Back to top button