न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

49वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में ‘फोकस स्टेट’ होगा झारखंड, यहां बनीं सात फिल्में की जायेंगी प्रदर्शित

गोवा में 21 से 28 नवंबर तक आयोजित होगा 49वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव, झारखंड फिल्म एडवाइजरी कमिटी का किया जायेगा पुनर्गठन, अभी अनुपम खेर हैं अध्यक्ष

42

Ranchi : 21 से 28 नवंबर तक गोवा में आयोजित होनेवाले 49वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में झारखंड को फोकस राज्य के रूप में चुना गया है, यह राज्यवासियों के लिए गर्व की बात है. इस महोत्सव में पहली बार किसी राज्य को फोकस स्टेट के रूप में शामिल किया जा रहा है. मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल ने कहा कि फिल्म महोत्सव का आयोजन मैनक्विंज पैलेस इनॉक्स, पणजी, गोवा में होना सुनिश्चित हुआ है. डॉ वर्णवाल एवं पर्यटन, कला एवं खेलकूद विभाग के सचिव राहुल शर्मा मंगलवार को सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सभागार में आयोजित प्रेस वार्ता को संयुक्त रूप से संबोधित कर रहे थे. अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में 68 से अधिक देशों की विभिन्न भाषाओं की 212 फिल्मों का प्रदर्शन किया जायेगा, जिसमें झारखंड में बनीं सात फिल्में एमएसडी द अनटोल्ड स्टोरी, डेथ इन द गंज, रांची डायरी, बेगम जान, मोर गांव मोर देश, पंचलेट, अजब सिंह की गजब कहानी भी अन्य फिल्मों के साथ प्रदर्शित की जायेंगी. फिल्म महोत्सव में 24 नवंबर को झारखंड दिवस के रूप में मनाया जायेगा.

झारखंड फिल्म एडवाइजरी कमिटी का किया जायेगा पुनर्गठन

झारखंड राज्य में फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने झारखंड फिल्म एडवाइजरी कमिटी का गठन किया था. इसका अध्यक्ष बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर को बनाया गया था. अनुपम खेर अपनी व्यस्तता को लेकर झारखंड को समय नहीं दे पाते हैं. सीएम के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल ने कहा कि इस बोर्ड का पुनर्गठन करने की तैयारी की जा रही है. इसमें ऐसे व्यक्ति को अध्यक्ष बनाया जायेगा, जो झारखंड में समय दे सके और यहां के शूटिंग स्पॉट को बढ़ावा दे सके.

फिल्म स्टूडियो का निर्माण करनेवाले को सरकार देगी जमीन

जो भी झारखंड में फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए राज्य में फिल्म स्टूडियो का निर्माण करना चाहेगा, राज्य सरकार उद्योग नीति के तहत फिल्म स्टूडियो के लिए जमीन उपलब्ध करायेगी. जमीन के साथ फिल्म निर्माण नीति के तहत सब्सिडी भी देगी. इसको लेकर भोजपुरी स्टार रवि किशन ने दिलचस्पी दिखायी है. इसके अलावा पोस्ट प्रोडक्शन इक्विपमेंट लगाने के लिए भी सरकार सब्सिडी देगी.

झारखंड फिल्म पॉलिसी का प्रचार-प्रसार करना मुख्य लक्ष्य

वर्णवाल ने कहा, “हमारा मुख्य लक्ष्य झारखंड फिल्म पॉलिसी का प्रचार-प्रसार करना है, ताकि फिल्मकार और फिल्म उद्योग से जुड़े लोग झारखंड की ओर आकर्षित हों और यहां फिल्मों की शूंटिग हेतु पधारें. इससे झारखंडी कलाकारों को भी रोजगार मिलेगा और झारखंड के पर्यटन स्थल भी प्रसिद्ध होंगे. इस तरह धीरे-धीरे फिल्म उद्योग के जरिये रोजगार के नये अवसर भी प्राप्त होंगे.” उन्होंने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में झारखंड फिल्म नीति को प्रोत्साहित करने के लिए एक स्टॉल भी लगाया जा रहा है, जिसमें झारखंड फिल्म पॉलिसी से जुड़ी हर तरह की जानकारी दी जायेगी.

झारखंड की कला-संस्कृति को देश और दुनिया के लोग जान सकेंगे

पर्यटन, कला एवं खेलकूद विभाग के सचिव राहुल शर्मा ने बताया कि इस महोत्सव में झारखंड दिवस के दिन  सांस्कृतिक दल द्वारा झारखंडी लोकनृत्य की प्रस्तुति दी जायेगी, जिसमें नागपुरी, पाइका और छाऊ नृत्य शामिल हैं. सांस्कृतिक कार्यक्रम के जरिये झारखंड की कला-संस्कृति को देश और दुनिया के लोग जान सकेंगे. उन्होंने बताया कि फिल्म महोत्सव में शामिल होने के लिए अनेक फिल्मकारों को आमंत्रण भी भेजा गया है, जिसमें विद्या बालन, मुकेश भट्ट, रवि किशन, विजय स्वामी, अश्विनी कुमार, यशपाल शर्मा, राजेश सहित अन्य फिल्म से जुड़े गणमान्य लोग शामिल हैं. प्रेस वार्ता में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के निदेशक रामलखन प्रसाद गुप्ता, पर्यटन, कला एवं खेलकूद विभाग के संयुक्त सचिव राजीव रंजन सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- भंवर में फंस सकता है महागठबंधन, वामदलों के बाद झामुमो का एक खेमा अकेले मैदान में उतरने का भर रहा दंभ

इसे भी पढ़ें- मोहन भागवत ने कार्यकर्ताओं को चेताया- सिर्फ हवा-हवाई नारों और वायदों से चुनाव की नैया पार नहीं होगी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: