JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

Jharkhand Politics: पुरानी ताकत को जुटाने की जुगत में राजद, संगठन को धार देने में जुटे तेजस्वी

Ranchi: झारखंड में कभी राजद का व्यापक जनाधार था. बिहार से सटे इलाके में राजद का बोलबाला था, लेकिन अपने जनाधार को ज्यादा समय तक राजद संजोये नहीं रख सका. यही वजह थी कि अलग राज्य बनने के बाद झारखंड में राजद के नौ विधायक थे जो 2014 में आकर शून्य हो गया. पिछले चुनाव में किसी तरह एक सीट से बोहनी हुई है. एक विधायक होने के बाद भी हेमंत सरकार में राजद का विधायक मंत्री है. लालू यादव के समय तो झारखंड को राजद ने भगवान भरोसे छोड़ दिया था लेकिन तेजस्वी झारखंड में पार्टी को लेकर संजीदा दिख रहा है. यही वजह है कि राजद झारखंड में अपनी खोई जमीन को पाने में जुट गया है. राज्य में संगठन को धार देने की जिम्मेदारी खुद तेजस्वी यादव उठाए हैं. वे हर महीने दो दिन झारखंड में बिताएंगे और गहन जनसंपर्क अभियान चलाएंगे. इसकी शुरुआत 23 अक्टूबर को छतरपुर विधानसभा से करेंगे. यहां वे 23 और 24 अक्तूबर को आपके द्वार कार्यक्रम चलाएंगे. इस कार्यक्रम के तहत वे लोगों के घर-घर तक जाएंगे. इसके माध्यम से वे बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत बनाने की कोशिश करेंगे.

इसे भी पढ़ेंःसंविदा पर बहाल सहायक पुलिसकर्मियों ने मोरहाबादी मैदान में फिर डाला डेरा-डंडा, नाकाम रही राज्य पुलिस की रणनीति

तेजस्वी यादव का यह कार्यक्रम छतरपुर से शुरू होकर कोडरमा, चतरा, धनबाद और देवघर तक जाएगा. इन जिलों के सभी विधानसभा क्षेत्र को तेजस्वी नापेंगे. इस कार्यक्रम के माध्यम से ये झारखंड में अपनी खोई जमीन को वापस पाने की कोशिश करेंगे. साथ ही इसके माध्यम से ये झारखंड के हर छोटे और बड़े नेता की राय को जानने की कोशिश करेंगे.

advt

इससे पहले इसी महीने तेजस्वी रांची में शक्ति प्रदर्शन कर चुके हैं. 19 सितंबर को उनकी यहां राज्यस्तरीय रैली हुई थी, जिसमें राज्य भर के सैकड़ों कार्यकर्ता शामिल हुए थे. एक विधायक वाली पार्टी की झारखंड में अपनी छवि को तेजस्वी बदलना चाहते हैं. इसके साथ ही अगामी विधानसभा चुनाव में वे महागठबंधन में ज्यादा सीटों पर दावा कर सकें, इसके माध्यम से वे इसकी तैयारी भी अभी से शुरू कर दिए हैं.

इसे भी पढ़ेंः रांची निगम में हंगामा, अधिकारियों के खिलाफ मेयर के साथ धरने पर बैठे अधिकतर पार्षद

पुराने नेताओं पर है तेजस्वी की नजर

तेजस्वी 2024 के लोकसभा व विधानसभा के चुनाव को ध्यान में रखकर काम कर रहे हैं. तेजस्वी की नजर पार्टी के पुराने नेताओं पर है जो किसी कारणवश दूसरे दल में चले गए हैं. कोशिश यह है कि वैसे नेताओं की घर वापसी कराई जाय. जानकारी के अनुसार इस कार्य में पूर्व विधायक राधाकृष्ण किशोर को महती जिम्मेवारी दी जायेगी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: