JharkhandKhas-KhabarNEWS

झारखंड पुलिस के कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए 40 बेड का अस्पताल बनाने का काम शुरू

Ranchi: झारखंड पुलिस के कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए 40 बेड का अस्पताल बनाने का काम शुरू हो गया है. झारखंड आर्म्ड फोर्स 10 मुख्यालय में पुलिसकर्मियों के लिए बनाए गए 80 बेड के अस्पताल को कोविड सेंटर के तौर पर विकसित करने की मांग झारखंड पुलिस एसोसिएशन ने पुलिस मुख्यालय से की थी. 31 जनवरी को News wing ने खबर को प्रमुखता से छपा था. जिसका शीर्षक था “अस्पताल अब तक चालू नहीं हुआ है.”

झारखण्ड पुलिस ने अपने जवानों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए पुलिस लाइन में 80 बेड की क्षमता वाले अस्पताल का निर्माण कराया था. लेकिन अब इस अस्पताल को लेकर ना तो पुलिस अधिकारी गंभीर थे और न ही स्वास्थ्य महकमा. लेकिन कोरोना महामारी में केंद्रीय पुलिस अस्पताल अब चालू होने जा रहा है

advt

एसोसिएशन के पत्र के आधार पर मुख्यालय ने स्वास्थ्य विभाग से पत्राचार किया था:

इस मामले में एसोसिएशन के पत्र के आधार पर मुख्यालय ने स्वास्थ्य विभाग से पत्राचार किया था. स्वास्थ्य विभाग के पत्राचार के आधार पर जैप 10 में 40 बेड के कोविड अस्पताल को बनाने की मंजूरी मिल गई है.

इसे भी पढ़ें: INDIAN ARMY ने देश के कई हिस्सों में कोविड मैनेजमेंट सेल का गठन किया

जरूरी सामानों की खरीद का आदेश जारीः

आईजी प्रोविजन ने इसके लिए जरूरी सामानों की खरीद का आदेश जारी किया है. जल्द ही पुलिसकर्मियों के लिए जैप 10 में अस्पताल की व्यवस्था हो जाएगी. इससे पहले राज्य पुलिस मुख्यालय की पहल पर रांची के कुटे में संक्रमित होने वाले पुलिसकर्मियों के लिए आइसोलेशन सेंटर बनाए गए हैं.

राज्यभर में अब तक 24 से अधिक पुलिसकर्मियों की मौत हो चुकी हैः

कोरोना संक्रमण के कारण राज्यभर में अब तक 24 से अधिक पुलिसकर्मियों की मौत हो चुकी है. पुलिसकर्मियों की मांग है कि कोरोना ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मियों को 50 लाख का बीमा दिया जाए. साथ ही ड्यूटी के दौरान कोरोना संक्रमित होने के कारण मरने वाले पुलिसकर्मियों को शहीदों के बराबर सुविधाएं दी जाएं. एसोसिएशन के इस डिमांड पर भी सरकार की ओर से विचार करने की सहमति दी गई है.

इसे भी पढ़ें: CORONA UPDATE: लगातार दूसरे दिन संक्रमितों की संख्या चार लाख के पार, मौत के मामले में अमेरिका,ब्राजील को पीछे छोड़ा

झारखंड सरकार की ओर से पुलिसकर्मी और उसके आश्रिता के लिए 2010 में जैप-10 परिसर में जी प्लस वन अस्पताल का भवन तैयार किया गया था. इस भवन के निर्माण में करीब दो करोड़ रुपए खर्च किए गए थे. पुलिस हाउसिंग की ओर बनाए गए इस अस्पताल में 2013 में जैप टेन में हैंडओवर भी लिया था. इसके बाद जैप टेन की ओर से पुलिस मुख्यालय को लगातार अस्पताल शुरू करने की दिशा में पत्रचार किया गया, मगर  कोई कार्रवाई नहीं हुई. लेकिन अब इस अस्पताल को कोविड अस्पताल  बनाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें: झारखंड हाईकोर्ट के पूर्व एक्टिंग चीफ जस्टिस एमवाई इकबाल नहीं रहे

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: