न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

फाइनेंशियल क्राइसेस से गुजर रहा झारखंड, खजाने में पैसे की किल्लत ! 300 अफसरों-कर्मचारियों का रिटायरमेंट बेनीफिट लंबित

रिटायरमेंट के दिन फुल-न-फाइनल करना होता है सभी बेनीफिट, चार आईएफएस, एक आईपीएस पेंशन के लिये काट रहे चक्कर

1,086

Ranchi: झारखंड फाइनेंशियल क्राइसेस से गुजर रहा है. सरकारी खजाने में पैसे किल्लत हो गई है. वित्त विभाग के सूत्रों के अनुसार, पैसे की किल्लत या फिर तकनीकी पेंच भी बताया जा रहा है. कई देनदारी और नई जीएसटी का भी असर भी कहीं न कहीं सरकारी खजाने पर पड़ा है. अगर पेंशन की बात हो तो 15 नवंबर 2011 से अब तक पेंशन में 36 अरब रुपये का भुगतान हो चुका है. फैमिली पेंशन के रूप में एक अरब 50 करोड़ रुपये का भुगतान हो चुका है.

इसे भी पढ़ेंःCM का आदेश नहीं मानते CS रैंक के अफसर! मुख्यमंत्री ने एक हफ्ते में DFO को हटाने को कहा था, अबतक कार्रवाई नहीं

300 गजेटेड अफसरों का रिटायरमेंट बेनीफिट लंबित

वित्त विभाग के आंकड़ों के अनुसार, 300 गजेटेड अफसरों का रिटायरमेंट बेनीफिट लंबित है. इसमें चार आईएफएस और एक आईपीएस भी शामिल हैं. अधिकांश अफसर राज्य प्रशासनिक सेवा और सचिवालय सेवा के हैं. ये सभी विभाग का चक्कर काट रहे हैं. विभाग में इन्हें तकनीकी पेंच के कारण विलंब बताया जा रहा है. लेकिन हकीकत कुछ और ही है.

पूर्व सीएम हेमंत सोरेन के कार्यकाल में भी बनी थी यही स्थिति

Related Posts

धनबाद : हाजरा क्लिनिक में प्रसूता के ऑपरेशन के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

परिजनों ने किया हंगामा, बैंक मोड़ थाने में शिकायत, छानबीन में जुटी पुलिस

SMILE

पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के कार्यकाल में भी यही स्थिति बनी थी. इस समय भी सरकारी खजाने खाली हो गये थे. यहां तक की मुख्यमंत्री राहत कोष में एक फूटी कौड़ी भी नहीं थी. फिर इसके बाद मुख्यमंत्री राहत कोष में येन-केन-प्रकारेण राशि जमा की गई. फिलहाल मुख्यमंत्री राहत कोष में राशि तो है, लेकिन सरकारी खजाने में देनदारी के कारण राशि की किल्लत हो गई है. इस कारण कहीं न कहीं ट्रेजरी भी रोक लगा रही है.

इसे भी पढ़ेंःसिंदरी कारखाने के 2000 करोड़ मूल्य का स्क्रैप औने-पौने में लेकर सलटा रहे ऊंची पहुंचवाले कारोबारी

क्या कहता है नियम

जो भी अफसर या कर्मचारी रिटायर होने वाले होते हैं, उन्हें रिटायरमेंट से छह माह पहले रिटायरमेंट बेनीफिट से संबंधित सभी कागजात जमा करना होता है. नियमत: रिटायरमेंट से पहले सभी प्रक्रिया पूरी कर ली जानी है. रिटायरमेंट के दिन ही पेंशन सहित अन्य लाभ दिया जाना अनिवार्य है. पेंशन रोकने के लिये यह बहाना नहीं बनाया जा सकता कि पैसा नहीं है. सरकार का दावा है कि सभी को समय पर पेंशन व अन्य लाभ मिल जाता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: