JharkhandLead NewsRanchi

Jharkhand NEWS :  रूर्बन मिशन से ग्रामीण परिवारों की वार्षिक आय एक लाख रुपये करने का लक्ष्य

केंद्र के निर्देश के बाद मनरेगा आयुक्त ने सभी डीडीसी,डीसी को लिखा पत्र

Ranchi :  मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी ने झारखंड में श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन योजना से अधिक से अधिक आजीविका का अवसर उपलब्ध कराने के लिए सभी उपायुक्त व उपविकास आयुक्तों को पत्र लिखा है.

मनरेगा आयुक्त ने स्पष्ट कहा है कि आजीविका सृजन के लिए ठोस रणनीति बनाने की जरूरत है ताकि चयनित बसावटों में रहने वाले प्रत्येक परिवार की वार्षिक आय कम से कम एक लाख रुपये हो जाये. इस संबंध में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार की ओर से भी झारखंड को निर्देश दिया गया है.

मनरेगा आयुक्त ने कहा है कि मिशन अंतर्गत गतिवधियों को समय पर पूरा कराने के लिए कार्ययोजना तैयार करके काम किया जाये एवं कलस्टरों के विकास में आने वाली बाधाओं पर अनुभव साझा करने के लिए जिला व राज्य के अधिकारियों के साथ निरंतर संवाद भी करने को कहा है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

मनरेगा आयुक्त ने समय पर परियोजनाओं को पूर्ण कराने के साथ एसेट के निर्माण व सर्विस उपलब्ध कराने की दिशा में काम करने को कहा है.उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों को शहरों की तरह विकसित करने के लिए ठोस कार्ययोजना व प्रोजेक्ट लेकर कार्य किया जायेगा ताकि पूरे इलाके को फायदा मिले.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

बता दें कि भारत सरकार ने समयबद्ध तरीके से कार्ययोजना बनाकर काम करने को कहा है,ताकि प्रत्येक कलस्टर में सेंट्ररलाइज्ड तरीके से सुविधाएं उपलब्ध करायी जा सकें. स्थानीय लोगों की भागीदारी बढ़ाने को कहा गया है.

इसे भी पढ़ें :JEE MAIN एप्लीकेशन डेट खत्म होने में बचे हैं सिर्फ 4 दिन, नेगेटिव मार्किंग का होगा प्रावधान

इन जिलों की कुछ बसावटों को रूर्बन मिशन से लिया गया

धनबाद,पूर्वी सिंहभूम,गिरिडीह, बोकारो,खूंटी,गुमला,हजारीबाग, पश्चिम सिंहभूम, चतरा, दुमका,लातेहार, पाकुड़,सिमडेगा, रांची और रामगढ़ जिला की कुछ बसावटों का चयन रूर्बन मिशन से किया गया है,जहां विकास  के कार्य किए जा रहे हैं. शहरीकरण का रूप दिया जा रहा है,केंद्र इसके लिए डीपीआर के अनुसार राशि भी मुहैया कराता है. स्वरोजगार को बढ़ावा देना मुख्य उदेश्य है.

इसे भी पढ़ें :BITSAT 2022 के लिए Application Process शुरू, पिलानी, गोवा और हैदराबाद में मिलेगा Admission

क्या है रूर्बन मिशन

श्यामा प्रसाद मुखर्जी नेशनल रूर्बन मिशन योजना से लोकेशन प्लानिंग पर आधारित कलस्टर विकास मॉडल है. यह देशभर में ग्रामीण समूहों की पहचान करता है जहां शहरीकरण के बढ़ते संकेत जैसे की शहरी घनत्व में वृद्धि, गैर-कृषि रोजगार के उच्च स्तर, बढ़ती हुई आर्थिक गतिविधि और शहरीकरण के लक्षण पाये जाते हैं.

इस मिशन का उदेश्य स्थानीय स्तर पर आर्थिक विकास को एक नई गति प्रदान करना है. बुनियादी सेवाओं को बढ़ाकर और अच्छी तरह से संगठित ग्रामीण समूहों का निर्माण करके इन ग्रामीण क्षेत्रों में व्यापक परिवर्तन करना.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand: अफसरों पर लंबित आरोपों के मामले जल्द निपटायें जाएंगे, मांगी गई रिपोर्ट

Related Articles

Back to top button