JharkhandLead NewsRanchi

Jharkhand News: विदेशी शराब से बराबरी के लिए देशी शराब की बिक्री को बढ़ावा, लागत भी होगा कम

Special correspondent

Ranchi: झारखंड में देशी शराब की आपूर्ति के लिए झारखंड उत्पाद देसी शराब के विनिर्माण बोतलबंद एवं भडारण संशोधन नियमावली 2022 के गठन का प्रस्ताव पर कैबिनेट से स्वीकृति मिल गई है. छत्तीसगढ़ की कंपनी के सुझाव पर पर्यावरण के दृष्टिकोण से अब राज्य में पेट बोतल और सैसे का उपयोग बंद होगा. देशी शराब की क्वालिटी और बेहतर किया जाएगा. केन पैक में भी शराब की बिक्री बंद होगी.

इसे भी पढ़ें :  Madhubani में पति पत्नी ने मिलकर प्रेमी को उतारा मौत के घाट, 4 दिन में ही धराये दोनों

Sanjeevani

वहीं, 25 डिग्री यूपी, 50 डिग्री यूपी, 75 यूपी देसी शराब की ड्यूटी एवं लागत में कमी करते हुए इसे कम कीमत में उपलब्ध कराया जाएगा. ऐसा महुआ की बिक्री में कमी लाने के लिए किया जाएगा. विदेशी शराब के समकक्ष एवं एकरूपता लाने के लिए 200 एमएल, 300 एमएल ,600 एमएल पैक के स्थान पर अब 180 एमएल, 375 एमएल और 750 एमएल का पैक शराब उपलब्ध कराया जाएगा. असली शराब की बोतल की पहचान के लिए हर एक बोतल में जेएसबीसीएल का लोगो होगा. शराब की मात्रा के अनुसार सफेद लाइट क्रीम और डार्क ब्राउन बोतल में शराब की बिक्री होगी.

तीन वित्तीय वर्ष से देशी शराब की बिक्री काफी कम

राज्य में विगत कई सालों देशी शराब से प्राप्त होने वाले राजस्व का प्रतिशत कुल राजस्व से काफी कम रहा है. उत्पाद विभाग के अधिकारियों के अनुसार विगत तीन वित्तीय वर्षो के दौरान देशी शराब के राजस्व प्रतिशत कुल राजस्व के प्रतिशत से काफी कम है. 2021-22 में तो सिर्फ 5.32 फीसदी राजस्व ही देशी शराब से मिला है. चूंकी 25 डिग्री यूपी की शक्ति लगभग विदेशी शराब के समतुल्य होती है, ऐसे में इसकी खपत में वृद्धि के लिए बदलाव किया जायेगा. बिक्री की पूरी चेन भी डेवलप की जायेगी.

इसे भी पढ़ें : चाईबासा : सरहुल और रामनवमी पर्व को लेकर शांति समिति की बैठक आयोजित

Related Articles

Back to top button