BiharDeogharJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

Jharkhand News : रिटायरमेंट पर भावुक हुए पूर्व DGP KN Choubey, बोले, खाकी का मान बढ़ाने का ईमानदारी से किया प्रयास

नक्सलियों और साइबर अपराध को चुनौती बताया

Ranchi :  झारखंड के पूर्व  पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) कमल नयन चौबे लंबी सेवा के बाद आज मंगलवार को रिटायर हो गये. कमल नयन चौबे 1986 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. जैप 1 डोरंडा में विशेष समारोह का आयोजन किया गया.

इस मौके पर चौबे ने कहा कि करीब साढ़े 3 दशक खाकी पहने हुए हो गए, आज उससे अलग होते हुए मन भारी हो रहा है. लेकिन खुशी है कि योग्यता के अनुसार खाकी वर्दी की प्रतिष्ठा और इज्जत में आंच न आने दी बल्कि इसका मान बढाने के लिए ईमानदारी से प्रयास किया है.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand News: उपायुक्तों के अधिकार में होगी कटौती, किराया विवादों का निपटारा करेंगे जज

Catalyst IAS
ram janam hospital

नक्सलियों के पांव अब उखड़ रहे हैं लेकिन सावधानी जरूरी

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश को चुनौती भरा माना है. झारखण्ड प्रदेश में करीब 70 हज़ार पुलिसकर्मी है. बड़े राज्यों में 1 से 2 चरण में चुनाव सम्पन्न हो जाते है लेकिन यहां कई चरणों मे होते हैं. वही वर्तमान में उन्होंने नक्सल और साइबर अपराध को चुनौती माना लेकिन साथ ही कहा कि नक्सलियों के पांव अब उखड़ रहे हैं इसके बावजूद पुलिस को सावधान रहने की जरूरत है. इन्होंने झारखंड पुलिस के उज्जवल भविष्य के लिए कामना की. उन्होंने कहा कि पुलिस को आम लोगों के प्रति और ज्यादा संवेदनशील होना होगा.

समारोह में झारखंड पुलिस के कई वरीय अधिकारी मौजूद थे. डीजीपी नीरज सिन्हा ने कमल नयन चौबे के उज्जवल और स्वस्थ भविष्य की कामना की और उनके कार्यों को आदर्श बताया.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand Crime: पलामू में मछली चुराने के आरोप में युवक की पीट-पीट कर हत्या

देवघर, बेगुसराय, अररिया, लखीसराय में एसपी रहे हैं

आपको बता दें कि डीजीपी कमल नयन चौबे की गिनती तेज-तर्रार अफसरों में की जाती है. वे झारखंड के डीजीपी बनने से पहले बीएसएफ में एडीजी ऑपरेशन थे. पूर्व में वे संयुक्त बिहार में देवघर, बेगुसराय, अररिया, लखीसराय जिले में वो एसपी भी रह चुके हैं.

इसे भी पढ़ें :झारखंड पुलिस के एसपीओ नक्सलियों के निशाने पर, अलर्ट जारी, पुलिस चौकस

प्रफुल्ल पटेल औऱ दिग्विजय सिंह के ओएसडी भी रहे

कमल नयन चौबे लंबे समय तक केंद्र में मंत्री रहे प्रफुल्ल पटेल व बांका के पूर्व सांसद दिग्विजय सिंह के ओएसडी भी रहे. केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से लौटने के बाद वर्ष 2014 में जैप के एडीजी बनाए गए.

डीजीपी केएन चौबे की पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय में हुई है. केएन चौबे को भारत-बांग्लादेश और भारत-पाक सीमा की निगरानी का अनुभव भी रहा है.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand Corona Update:  8 जिलों में सक्रिय मरीजों की संख्या शून्य, 13 नये संक्रमितों में 7 Ranchi से

 

 

Related Articles

Back to top button