JharkhandRanchi

झारखंड न्यूज : देश की संपत्ति बेच रही है मोदी की केंद्र सरकार: रामेश्वर उरांव

Ranchi. कांग्रेस के मुताबिक केंद्र सरकार देश की संपत्ति को बेचने में लगी है. झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और राज्य के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति डॉ0 रामेश्वर उरांव ने असम में चुनाव प्रचार में यह आरोप लगाया. असम विधानसभा दौरे के क्रम में लरसिंगा टी गार्डेन, अरुणाबन टी गार्डेन और नागर टी गार्डेन में कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में चुनावी सभाओं को रविवार को उन्होंने संबोधित किया. कहा कि गांव-देहात में एक कहावत है-‘‘पिता कमाए और कपूत गवाएं’’.

Sanjeevani

देश आज इसी कहावत से रूबरू हो रहा है. कांग्रेस शासनकाल में देश के गरीबों, जरूरतमंद और कमजोर वर्गों के विकास की जो बुनियाद रखी गयी थी, उसे तहस नहस किया जा रहा है. सार्वजनिक संपत्तियों को भाजपा शासनकाल में पूंजीपति मित्रों के हवाले किया जा रहा है. एक के बाद एक  सार्वजनिक कंपनियों को बेचा जा रहा है.

MDLM

डॉ उरांव ने असम के सिल्चर जिले के सोनाई विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस गठबंधन एआईयूडीएफ के प्रत्याशी कमरुद्दीन सोज के पक्ष में भी चुनावी सभा को संबोधित किया.

इसे भी पढ़ेंः Bengal Elections :  TMC नेता छत्रधर महतो  को कोर्ट ने दो दिन की हिरासत में NIA के पास भेजा

चाय बेचने वाला बेच रहा देश

रामेश्वर के मुताबिक चाय बेचने वाले व्यक्ति को कभी किसी ने चाय बेचते नहीं देखा. वह व्यक्ति चाय बेचते-बेचते आज आसाम के चाय बागान को बेचने की कोशिश में जुट गया है. कहा कि कांग्रेस पार्टी सत्ता में आएगी तो चाय बगान में काम करने वाले जनजातीय समुदाय के लोगों को अनुसूचित जनजाति का दर्जा प्रदान किया जायेगा. वे चुनाव के बाद भी क्षेत्र में आएंगे और लोगों की समस्याओं के समाधान को लेकर प्रयास करेंगे.

देश में राजतंत्र खत्म हो गया

अब देश में राजतंत्र खत्म हो गया है, प्रजातंत्र है. जनता पांच सालों में अपने प्रतिनिधि को चुनती है. चुनी हुई सरकार की यह जिम्मेवारी होती है कि वह लोगों की पढ़ाई, रोजगार, सिंचाई और सुरक्षा की जिम्मेवारी का निर्वहन करे. सरकार पांच वर्षों तक अपने घोषणा पत्र के अनुरूप काम करती है, लेकिन असम के लोगों के साथ पिछले पांच सालों में वादाखिलाफी हुई है.

दूसरी तरफ लोगों को भी यह मानना है कि कोरोना संक्रमणकाल में सिर्फ कांग्रेस पार्टी ने ही जनहित और लोगों की मुश्किलों को कम करने का प्रयास किया जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार अपने पूंजीपति मित्रों के लिए काम करते रहे.

इसे भी पढ़ेंः Ranchi में निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर एक अप्रैल को

Related Articles

Back to top button