JharkhandLead NewsRanchi

Jharkhand News : रिम्स में बढ़ाए जाएंगे 777 बेड, मरीजों को मिलेगी राहत, MBBS की सीटें बढ़ाने की भी तैयारी

रेडियोलॉजी और पैथोलॉजी लैब का संचालन पीपीपी मोड पर करने की हो रही तैयारी

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स में इलाज के लिए झारखंड-बिहार के अलावा अन्य राज्यों से मरीज भी आते है. जहां पर मरीजों की भीड़ अधिक होने के कारण कई विभागों में मरीजों को बेड तक नहीं मिल पाता है.
ऐसी स्थिति से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने हॉस्पिटल में बेड बढ़ाने की योजना बनाई है. जिसके तहत हॉस्पिटल में 777 बेड और जोड़े जाएंगे. इसका सीधा फायदा इलाज के लिए आने वाले मरीजों को मिलेगा. वहीं उन्हें जमीन पर इलाज कराने की नौबत नहीं आएगी. इसके लिए 250 करोड़ आवंटित किए गए हैं.

इसे भी पढ़ें :  साहेबगंज जहाज दुर्घटना पर मरांडी ने लगाया गंभीर आरोप, कहा नियम ताक पर रखकर अवैध कारोबार कर रही है सरकार

मरीजों की अच्छे से होगी देखभाल

ram janam hospital
Catalyst IAS

हॉस्पिटल के इनडोर में हमेशा 1500 से अधिक मरीज एडमिट रहते हैं. वहीं न्यूरो वार्ड की स्थिति ठीक नहीं रहती है. ऐसे में बेड बढ़ाए जाने से जमीन पर इलाज करा रहे मरीजों को बेड मिल सकेगा. इसके अलावा हॉस्पिटल में पढ़ने वाले 130 नर्सिंग स्टूडेंट्स को ट्रेंड किया जाएगा. जो इनडोर में एडमिट मरीजों की देखभाल भी करेंगे.
इतना ही नहीं रेडियोलॉजी और पैथोलॉजी लैब का संचालन पीपीपी मोड पर करने की तैयारी है ताकि मरीजों को बाहर जाने की जरूरत न पड़े.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें : Chaibasa News : मुख्‍यमंत्री तक पहुंची न्‍यूनतम मजदूरी नहीं मि‍लने की श‍िकायत

मरीजों के साथ स्टूडेंट्स को फायदा

रिम्स में फिलहाल 180 सीटों पर ही एमबीबीएस स्टूडेंट्स का एडमिशन लिया जा रहा है. अब सरकार इसे 250 करने की तैयारी में है. जिससे कि हर साल 70 ज्यादा स्टूडेंट्स का एडमिशन होगा. इतनी ही संख्या में हर साल नए डॉक्टर भी तैयार होंगे. इसके अलावा 5.70 लाख मरीजों के इलाज का टारगेट रखा है. जिससे साफ है कि हेल्थ सिस्टम पटरी पर आ गया तो मरीजों को प्राइवेट हॉस्पिटल जाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी.

इसे भी पढ़ें : Sahibganj Cargo Accident की इनसाइड स्टोरी, अवैध कारोबार बनी वजह, 30 लोग अब भी हैं लापता !

Related Articles

Back to top button