न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड : कई इंजीनियरिंग कॉलेजों को नहीं मिलेगी दो वर्ष की मान्यता, खतरे में सात हजार से ज्यादा छात्रों का भविष्य

13,302

Ranchi : झारखंड के एक दर्जन इंजीनियरिंग कॉलेजों को दो वर्ष की मान्यता सरकार नहीं देगी. बीआइटी सिंदरी और सीआइटी टाटीसिलवे को छोड़ अन्य किसी भी इंजीनियरिंग कॉलेज को 2016-17 और 2017-18 की मान्यता नहीं मिलेगी.

झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी की तरफ से इन कॉलेजों को 2018-19 की मान्यता दे दी गयी है. कॉलेजों की मान्यता नहीं मिलने से 2016-17 और 2017-18 में एडमिशन लेने वाले सात हजार से अधिक छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है.

ये अपने अगले सत्र में प्रमोशन के लिए परीक्षा भी नहीं दे पायेंगे. झारखंड सरकार के उच्चतर और तकनीकी शिक्षा विभाग की तरफ से इन इंजीनियरिंग कॉलेजों की मान्यता सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आलोक में रोकी गयी है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआइसीटीइ) से संबद्धता लेने के अलावा इंजीनियरिंग कॉलेजों को राज्य सरकार की टेक्निकल यूनिवर्सिटी से मान्यता लेना जरूरी है.

इसे भी पढ़ें- समय पर ऑफिस नहीं पहुंचते हैं झारखंड के सीनियर आइपीएस

विश्वविद्यालयों से भी मान्यता लेना जरूरी

झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव एसबी साहू का कहना है कि विभागीय मंत्री डॉ. नीरा यादव के आदेश के आलोक में सभी विश्वविद्यालयों ने मान्यता देने की प्रक्रिया पर रोक लगा दी है. इंजीनियरिंग कालेजों को संबद्ध विश्वविद्यालयों से भी मान्यता लेना जरूरी है.

राज्य में कोल्हान विवि, सिद्धो कान्हू मुरमू विवि, नीलांबर पीतांबर यूनिवर्सिटी, रांची विश्वविद्यालय और विनोबा भावे विश्वविद्यालय से झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी की मान्यता के बाद संबद्धता लेना जरूरी है. इसके लिए तय शुल्क का भुगतान भी जरूरी है.

Related Posts

100 रुपये में #IAS बनाता है #UPSC, #Jharkhand में क्लर्क बनाने के लिए वसूले जा रहे एक हजार

झारखंड में बनना है क्लर्क तो आइएएस की परीक्षा से 10 गुणा ज्यादा देनी होगी परीक्षा फीस.

इसे भी पढ़ें- दुमका : पांच लाख की इनामी हार्डकोर महिला नक्सली पीसी दी समेत 6 नक्सलियों ने किया सरेंडर

इंजीनियरिंग कालेजों को संबंधित विश्वविद्यालयों के कुलपति से यह संबद्धता प्राप्त करनी है. सभी संबंधित विश्वविद्यालयों को 2016-17 और 2017-18 की मान्यता, संबद्धता को लेकर सरकार की अनुमति के बगैर कोई कार्रवाई करने पर रोक लगा दी गयी है. रांची यूनिवर्सिटी से सिर्फ सीआइटी टाटीसिलवे को ही संबद्धता मिली हुई है.

इसे भी पढ़ें- दर्द-ए-पारा शिक्षक: उधार बढ़ने लगा तो बेटों ने पढ़ाई छोड़कर शुरू की मजदूरी, खुद भी सब्जियां बेच…

झारखंड के इंजीनियरिंग कालेज, जिन्हें दो वर्ष की मान्यता नहीं मिलेगी

इंजीनियरिंग कॉलेजदाखिले की सीट
यूसेट हजारीबाग252
राजकीय अभियंत्रण कॉलेज, दुमका315
राजकीय अभियंत्रण कॉलेज, चाईबासा315
राजकीय अभियंत्रण कॉलेज, रामगढ़315
डीएवी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी252
नीलय एजुकेशनल ट्रस्ट, रांची378
रामचंद्र चंद्रवंशी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, पलामू442
आरटीसी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी रांची504
मेरीलैंड इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट160
केके कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग441
आरवीएस कालेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी630
गोविंदराम कटारुका इंजीनियरिंग कॉलेज एंड मैनेजमेंट—-

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: