JharkhandLead NewsRanchi

झारखंड : अवर उत्पाद निरीक्षक की नियुक्ति प्रक्रिया से साक्षात्कार हटा, ऊंचाई की सीमा भी घटी

  • तीन चरण में परीक्षा होगी, पुरुष को 60 मिनट में 10 किमी व महिला अभ्यर्थी को 40 मिनट में 5 किमी दौड़ पूरी करना अनिवार्य
  • झारखंड उत्पाद अधीनस्थ सेवा संवर्ग (भर्ती एवं सेवा शर्त) (संशोधन ) नियमावली 2021 अधिसूचित

Nikhil Kumar

Advt

Ranchi : झारखंड में अवर उत्पाद निरीक्षक के पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया से साक्षात्कार को हटा दिया गया है. वहीं प्रारंभिक लिखित परीक्षा की जगह अब सबसे पहले लिखित परीक्षा, शारीरिक दक्षता परीक्षा और चिकित्सा परीक्षा ही होगी. पहले प्रारंभिक लिखित परीक्षा, लिखित परीक्षा, साक्षात्कार, चिकित्सा परीक्षा भी होती थी. उत्पाद विभाग ने इस संबंध में झारखंड उत्पाद अधीनस्थ सेवा संवर्ग (भर्ती एवं सेवा शर्त) (संशोधन )नियमावली 2021 अधिसूचित कर दी है. नियुक्ति परीक्षा राज्य कर्मचारीय चयन आयोग के द्वारा ली जायेगी. जारी अधिसूचना के अनुसार शारीरिक योग्यता में भी बदलाव कर दिया गया है.

2013 की नियमावली में सामान्य, पिछड़ा तथा ओबीसी वर्ग के पुरुष उम्मीदवारों की न्यूनतम उंचाई 162 सेमी थी. सभी वर्ग में महिलाओं के लिए 155 सेमी व एसटी-एससी के लिए न्यूनतम उंचाई 152 सेमी थी.

इसे भी पढ़ें :Jharkhand: KG की पांच वर्षीय छात्रा अवनि ने 2 घंटे से कम समय में पूरी की 18 किमी की दौड़, उठा सवाल

इसे अब घटा दिया गया है. वहीं, सीना की न्यूनतम माप बिना फुलाये सामान्य, पिछड़ा, अत्यंत पिछड़ा को सीना बिना फुलाये माप जहां पुरुष वर्ग में 81 सेमी व वहीं एसटी-एससी के लिए 79 सेमी रखा गया है. महिला उम्मीदवारों के लिए सीना का माप नहीं किया जायेगा.

शारीरिक दक्षता परीक्षा में अभ्यर्थियों की ऊंचाईवाले मापदंड के अनुसार सीने व उंचाई की माप की जायेगी. वहीं पुरुष वर्ग के अभ्यर्थियों को 60 मिनट में 10 किमी की दौड़ व महिलाओं के लिए 40 मिनट में 05 किमी की दौड़ पूरी करनी होगी. शारीरिक दक्षता परीक्षा में कोई अंक नहीं मिलेगा, लेकिन इसमें सफल होना अनिवार्य है. यह परीक्षा क्वालीफाइंग प्रकृति की होगी.

शारीरिक दक्षता परीक्षा आयोग तय करेगा. नयी नियमावली अधिसूचित होने के बाद अब उत्पाद विभाग इस पद में नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू करेगा. आयोग को अधियाचना भेजी जायेगी.

इसे भी पढ़ें :अखिलेश यादव की पार्टी के MLA प्रभु नारायण सिंह ने पकड़ा डिप्टी SP का गला, देखें वायरल Video

नयी नियमावली के तहत आयोग के द्वारा लिये जानेवाले साक्षात्कार के बजाए अब लिखित परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर आयोग आरक्षणवार रिक्तियों के विरुद्ध मेघा सूची तैयार कर उतनी संख्या में अभ्यर्थियों की अनुशंसा विभाग को भेजेगा, जितनी संख्या में रिक्तियां प्रतिवेदित की गयी हों. सफल अभ्यर्थी की मेरिट लिस्ट में अभ्यर्थियों का प्राप्तांक होने की स्थिति में (टाइ ) में वरीयता का आधार जन्म तिथि होगी.

यदि दो या अधिक अभ्यर्थियों की लिखित परीक्षा का कुल प्राप्तांक एवं उम्र भी एक समान हो तो पहले स्नातक स्तर से प्राप्त कुल अंक के आधार पर सूची में वरीयता निर्धारित की जायेगी. यदि दोनों अभ्यर्थियों के कुल प्राप्त अंक भी समान होते हैं, तो उनकी ऊंचाई के आधार पर वरीयता निर्धारित की जायेगी.

वहीं अनारक्षित कोटि के अभ्यर्थी जिनका चयन अनारक्षित कोटि के तय मानकों के अंतर्गत हुआ हो तो उनका समायोजन अनारक्षित कोटि की रिक्तियों के अंतर्गत किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें :कार्डधारकों को अक्टूबर से आवंटित नहीं किया गया राशन, अंत्योदय कार्डवालों के खाते से 2 किलो अनाज की हो रही कटौती

भर्ती के किसी भी स्तर पर आरक्षित कोटि के अभ्यर्थी जिन्होंने आयु, शारीरिक मापदंड में छूट का लाभ लिया है, उनका समायोजन आरक्षित कोटि की रिक्तियों के विरुद्ध ही किया जायेगा.

वार्षिक वेतन वृद्धि इस सेवा के पदाधिकारियों को सरकारी सेवक हिंदी परीक्षा नियमावली, 1968 के अंतर्गत हिंदी टिप्पण एवं प्रारूपण परीक्षा में उर्त्तीण होने के बाद प्रथम तथा केंद्रीय परीक्षा समिति द्वारा संचालित जनजातीय भाषा की परीक्षा में निम्न स्तर से उर्त्तीण होने के बाद ही दूसरा वेतन वृद्धि देय होगा. परीक्षा में फेल होने पर असंचयात्मक प्रभाव से वेतन वृद्धि अवरुद्ध रहेगा. परीक्षा पास होने के बाद वेतन वृद्धि होगा पर बकाया नहीं दिया जायेगा.

जारी संशोधन में अनारक्षित वर्ग के अभ्यर्थी को झारखंड के शैक्षणिक संस्थान से मैट्रिक-इंटर पास होना अनिवार्य किया गया है. स्थानीय रीति रिवाज व भाषा ज्ञान भी जरूरी रखा गया है. आरक्षित कोटि के अभ्यर्थी को इससे छूट दी गयी है.

इसे भी पढ़ें :महाराष्ट्र के बाद झारखंड में भी ममता बनर्जी के तीसरे मोर्चे की राजनीति पर लगा ग्रहण

अब ये होगी शारीरिक योग्यता

कैटेगरी उंचाई सीना
सामान्य वर्ग 160 से.मी न्यूनतम 81 से.मी
इडब्लूएस न्यूनतम 160 से.मी न्यूनतम 81. से.मी
पिछड़ा,अत्यंत पिछड़ा न्यूनतम 160 से.में न्यूनतम 81 से.मी
एसटी,एससी न्यूनतम 160 से.मी न्यूनतम 79 से.मी
महिलाएं न्यूनतम 148 से.मी मापा नहीं जायेगा

इसे भी पढ़ें :बिहार : खुसरूपुर स्टेशन पर झाझा-पटना मेमू ट्रेन में गोलीबारी, तीन यात्री घायल

Advt

Related Articles

Back to top button