ChaibasaEducation & CareerJamshedpurJharkhand

Jharkhand Education : झारखंड अंगीभूत महाविद्यालय इंटरमीडिएट संघ ने सरकार को द‍िखाया आईना, कह दी बड़ी बात

Jharkhand : झारखंड अंगीभूत महाविद्यालय इंटरमीडिएट संघ ने सरकार को आईना द‍िखाया है. संघ के प्रदेश महासचिव राकेश कुमार पांडेय ने एक बयान जारी कर कहा है कि जैक 12वीं (साइंस, आर्टस, कॉमर्स) के परीक्षा परिणाम जारी कर जहां विद्यार्थियों की सफलता पर सरकार इतरा रही है वहीं जैक भी झूम रहा है. लेकिन हकीकत हैरान करनेवाली है. राज्य के लगभग 60 अंगीभूत कॉलेजों के इंटरमीडिएट से लगभग डेढ़ लाख विद्यार्थी सफल हुए हैं उन विद्यार्थियों पर सरकार का एक रुपया खर्च नही हुआ है. यह स‍िलस‍िला लगभग 22 वर्षों से चल रहा है. झारखंड सरकार सबको शिक्षा प्रदान करने का नारा देते आई है लेकिन इन 60 कॉलेजों में शिक्षा पर शून्य ख़र्च कर रही है. क्या यह अन्याय नहीं है?
राकेश पांडेय ने कहा कि जैक का दोहरा रवैया इन 60 कॉलेजों में इंटरमीडिएट के शिक्षकों के प्रति रहता है. एक शिक्षक प्रायोगिक परीक्षा ले सकता है, आंतरिक परीक्षा का मूल्यांकन कर सकता है, लेकिन 12वीं के जैक द्वारा आयोजित परीक्षा के उत्तरपुस्तिका का मूल्यांकन नहीं कर सकते. इसके लिए जैक इनको अयोग्य मानता है. जैक का यह दोहरा चरित्र नहीं तो क्या है कि 12वीं की उत्तरपुस्तिका का मूल्यांकन ये शिक्षक नहीं करेंगे, लेकिन 11वीं का करेंगे जिसमें पैसा नहीं देना है. अगले सप्ताह इस विषय को लेकर संघ का एक प्रतिनिधिमंडल राज्य के स्कूली शिक्षा मंत्री जगन्नाथ महतो और सचिव राजेश शर्मा से मिलकर इन समस्याओं के समाधान कराने का प्रयाश करेगा. इसके साथ हीं 60 कॉलेजों में चल रहे इंटरमीडिएट के शिक्षकों और शिक्षकेतर कर्मचारियों के लिए अनुदान देने का मांग करेगा|. इसके साथ ही और सारी मांगें भी है जिसे शिक्षा मंत्री झारखंड के समक्ष संघ रखेगा.

ये भी पढ़ें- Dhalbhumgarh Airport Protest: देवशोल में व‍िशेष श‍िव‍िर का ग्रामीणों ने क‍िया व‍िरोध, कहा- एयरपोर्ट के पक्ष में पोटने की हो रही कोश‍िश

Related Articles

Back to top button