JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

Jharkhand : रोजगार और जेपीएससी मामले पर गरमाया रहा सदन, दर्जन भर विधायकों ने लाया कार्यस्थगन प्रस्ताव

Ranchi : झारखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र का दूसरा दिन रोजगार और जेपीएससी मामले पर पुरे दिन सदन गरमाया रहा. भाजपा के साथ-साथ माले और आजसू के विधायकों ने इस मामले पर सरकार को घेरने की कोशिश की. सदन में विपक्ष के हंगामे के बीच कुछ प्रश्न तो आये लेकिन ये सिर्फ गिनती के रह गये.

रोजगार और जेपीएससी के मुद्दे पर दर्जन भर विधायकों ने कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया था. स्पीकर ने उनके कार्यस्थगन प्रस्ताव को पढ़ा लेकिन सभी को अमान्य भी कर दिया.

भाजपा विधायकों के साथ-साथ भाकपा माले विधायक बिनोद सिंह का तेवर भी काफी तल्ख था. वे भी जेपीएससी की पीटी परीक्षा में हुई धांधली की जांच कराने की मांग कर रहे थे.

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

इसे भी पढ़ें:Jharkhand : विपक्ष के हंगामे के बीच 2926 करोड़ रुपये का दूसरा अनुपूरक बजट सदन में पेश

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

साथ ही उन्होंने पंचायत सचिव और हाई स्कूलों में रिक्त पीआरटीसी पर नियुक्ति की भी मांग की. उन्होंने पोषण सखी के 8 माह के वेतन भुगतान नहीं होने का भी मामला उठाया. माले विधायक बिनोद सिंह ने कहा कि रोजगार वर्ष में रोजगार तो नहीं मिल रहा है. अलबत्ता जिनके पास रोजगार है उन्हें वेतन भुगतान नहीं किया जा रहा है.

जेपीएससी मामले पर विधायक भानु प्रताप शाही, मनीष जयसवाल, अनंत ओझा, अमित मंडल, जेपी पटेल, लम्बोदर महतो, बिनोद कुमार सिंह ने कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया था.

इसे भी पढ़ें:आयुष मिशन के लिए केंद्र सरकार ने झारखंड को दिये 15 करोड़, खर्च हुए सिर्फ 4.5 लाख

सरयू राय ने सरकार के उत्तर को गलत करार दिया

निर्दलीय विधायक सरयू राय के तारांकित प्रश्न का सही जवाब स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता नहीं दे सके. सदन में ही विधायक ने मंत्री के जवाब को गलत करार दे दिया. इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने निर्देश दिया कि मंत्री इस प्रश्न का सही जवाब मंगलवार को दें.

सरयू राय का सवाल था कि फरवरी 2020 से जुलाई, 2020 के बीच राज्य में कई असूचीबद्ध अस्पतालों, जिसमें ब्रह्यानंद नारायणा अस्पताल, तामोलिया भी शामिल है, को मुख्यमंत्री गंभीर बीमारी उपचार योजना के तहत बीमारियों के इलाज का लाभ सरकार ने दिया है, जो अनियमित एवं भ्रष्ट आचरण है.

इसे भी पढ़ें:पटना हाइकोर्ट ने कोरोना महामारी पर राज्य सरकार को नये सिरे से पूरे और सही तथ्यों की जांच कर हलफनामा दायर करने का दिया निर्देश

स्वास्थ्य मंत्री ने इसका जवाब दिया है कि ब्रह्यानंद अस्पताल, मुख्यमंत्री गंभीर बीमारी उपचार योजना के तहत बीमारियों के इलाज के लिए सूचीबद्ध है.

इस पर विधायक सरयू राय ने पूरक प्रश्न पूछा कि मंत्री स्पष्ट बतायें कि फरवरी 2020 से जुलाई 2020 के बीच यह अस्पताल सूचीबद्ध था या नहीं. इसका उत्तर मंत्री नहीं दे सके.

इसे भी पढ़ें:पलामू : बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने निभाया अपना वादा, सतबरवा कन्या उवि को भेजवाया 20 सेट बेंच-डेस्क

Related Articles

Back to top button