Court NewsJharkhandLead NewsRanchi

Jharkhand High Court : चीफ जस्टिस ने चार नए जजों को दिलाई शपथ, अब जजों की संख्या हुई 19

Ranchi : झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डॉ रवि रंजन ने शुक्रवार को चार नए जजों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. शपथ ग्रहण कार्यक्रम हाईकोर्ट परिसर में हुआ. सभी नए जजों को अपर न्यायाधीश के रूप में शपथ दिलाई गई है. इसके साथ ही झारखंड हाईकोर्ट में अब जजों की संख्या 19 हो गई है,जबकि यहां कुल स्वीकृत पद 25 हैं. सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने झारखंड हाईकोर्ट के लिए पांच नामों की मंजूरी दे दी थी, लेकिन केंद्र सरकार ने चार नामों को ही स्वीकृति दी और उनके हाईकोर्ट जज के रूप में नियुक्त किए जाने की अधिसूचना जारी की. शपथ लेनेवाले जजों में संजय प्रसाद, नवनीत कुमार, अम्बुज नाथ और गौतम कुमार चौधरी शामिल हैं.

राज्य के विधि सचिव थे संजय प्रसाद

आज शपथ लेनेवाले जजों में संजय प्रसाद राज्य के विधि सचिव थे. वह झारखंड राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड के प्रशासक भी हैं. राज्य के कई निचली अदालतों में वह जिला जज रह चुके हैं. वर्तमान में विधि सचिव के साथ साथ सरकार ने धार्मिक न्यास बोर्ड का प्रशासक नियुक्त किया गया था. प्रशासक के तौर पर उन्होंने कई उल्लेखनीय काम किए हैं.

इसे भी पढ़ें : चाईबासा : सड़क किनारे मिला युवक का शव, हत्या की आशंका, पुलिस ने बताया हादसा

advt

रांची के प्रधान न्याययुक्त थे नवनीत कुमार

नवनीत कुमार रांची के प्रधान न्यायायुक्त के पद पर पदस्थापित थे. दिल्ली यूनिवर्सिटी से उन्होंने विधि की डिग्री हासिल की है. 1988 में उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट से प्रैक्टिस शुरू की. वर्ष 2021 में उन्होंने न्यायिक सेवा में योगदान दिया था. राज्यपाल के OSD के पद पर भी वह काम कर चुके हैं.

हाई कोर्ट के रजिस्टार जनरल थे अंबुज नाथ

रांची के रहने वाले अंबुज नाथ ने दिल्ली यनिवर्सिटी से लॉ की डिग्री ली है. वह मई 2021 में हाई कोर्ट के रजिस्टार जनरल बनाए गए थे. वह दिसंबर 2001 में न्यायिक सेवा में आए थे. तीन बार अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धनबाद रहे. इसके बाद अप्रैल 2017 में हाईकोर्ट के विजिलेंस रजिस्ट्रार बनाए गए.

adv

 

कई जिले में प्रधान जिला जज रह चुके हैं गौतम कुमार चौधरी

गौतम कुमार चौधरी हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल के रूप में काम कर रहे थे. इससे पहले ये कई जिलों के प्रधान जिला जज रह चुके हैं. झारखंड ज्यूडिशियल एकेडमी के निदेशक के पद पर भी वो पदस्थापित रहे हैं. इसके अलावा हाईकोर्ट रजिस्ट्रीक के कई पदों पर भी वो आसीन रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : वाहनों की फिटनेस जांच का काम निजी हाथों में सौंपेगी सरकार, पीपीपी मोड पर संचालित होंगे ऑटोमेटेड टेस्टिंग स्टेशन

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: