न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

झारखंड में आइएएस और राज्य सेवा अफसरों की भारी कमी, 8 अफसर ले चुके हैं वीआरएस

राज्य सेवा से दो अफसर अब तक ले चुके हैं वीआरएस, इसमें लंबोदर महतो और राजेश पात्रो हैं शामिल

4,924

Ranchi: झारखंड में आइएएस अफसरों की भारी कमी है. यहां आइएस के 205 स्‍वीकृत पदों में 162 पद पर नियुक्‍त हैं. वहीं राज्‍य प्रशासनिक सेवा की नियुक्ति की बात करें तो इसके लिए झारखंड में 1295 पद स्‍वीकृत हैं, लेकिन इनमें 875 अफसर नियुक्‍त हैं. वहीं झारखंड गठन से लेकर अब तक 8 अफसर वीआरएस ले चुके हैं. इसमें छह आइएएस और दो राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसर हैं. राज्य सेवा के अफसर डॉ लंबोदर महतो फिलहाल राजनीति में कदम रख चुके हैं. वहीं राजेश पात्रो की वीआरएस भी मंजूर कर लिया गया है. कार्मिक ने इसका आदेश जारी कर दिया है. उन्होंने वीआरएस के लिए स्वास्थ्य और व्यक्तिगत कारण बताया है. वहीं पूर्व आइएएस भी वीआरएस लेने के बाद राजनीति में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

eidbanner

इन अफसरों ने लिया है वीआरएस

अब तक झारखंड के छह आइएएस अफसर विभिन्न कारणों से वीआरएस ले चुके हैं. इनमे मुनीगला, वीके चौहान, विमल कीर्ति सिंह, जेबी तुबिद, संत कुमार वर्मा शामिल हैं. वहीं वर्तमान अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल के वीआरएस को मंजूरी मिल गयी है.

आइएएस अफसरों की भी कमी

झारखंड में आइएएस अफसरों की भी कमी है. राज्य में आइएएस के 205 स्वीकृत हैं. इसमें 162 पद ही अफसर कार्यरत हैं. कुल 43 पद रिक्त हैं. वहीं देशभर में 1987 आइएएस अफसरों की कमी है. देश भर में आइएएस के 6217 पद हैं. इसमें 4230 आइएएस ही कार्यरत हैं. वहीं देशभर में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति के 1345 पद हैं, इसमें 645 आइएएस ही कार्यरत हैं.

Related Posts

दर्द-ए-पारा शिक्षक: उधार बढ़ने लगा तो बेटों ने पढ़ाई छोड़कर शुरू की मजदूरी, खुद भी सब्जियां बेच निकाल रहे खर्च

इंटर तक पढ़ी हैं दो बेटियां, मानदेय नहीं मिलने के कारण आगे नहीं पढ़ा पा रहे

राज्य सेवा के अफसरों की कमी

झारखंड राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसरों की भी कमी है. जेपीएससी अब तक सिर्फ पांच परीक्षा ही ले पाया है. झारखंड में राज्य प्रशासनिक सेवा के 1295 पद स्वीकृत हैं. इसमें 875 पदों पर ही अफसर कार्यरत हैं. इस हिसाब से 420 पद रिक्त हैं.

झारखंड में प्रशासनिक अफसरों की कमी की वजह से दर्जन भर अधिकारियों के जिम्‍मे एक अधिक विभाग की जिम्‍मेदारी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: