न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कला संस्कृति पर बजट बढ़ाए झारखंड सरकार : पार्थसारथी

गिरिडीह में जोनल ड्रामा स्कूल का हुआ उद्घाटन

240

Giridih : अंतर्राष्ट्रीय नाट्य काउंसिल द्वारा गिरिडीह में शनिवार को राज्य के पहले जोनल ड्रामा स्कूल का उद्घाटन किया गया. गांडेय विधायक जयप्रकाश वर्मा, मेयर सुनिल पासवान और एएमसी के निदेशक पार्थसारथी राय ने संयुक्त रूप से स्थानीय मन्नत मॉल स्थित ड्रामा स्कूल की औपचारिक शुरूआत की.

अतिथि को बैज प्रदान करते ड्रामा स्कूल के निदेशक

इसे भी पढ़ेंःकोयलांचल में रंगदारी और कोयले की कमाई पर वर्चस्व को लेकर 29 साल में हुईंं 340 से ज्यादा हत्याएं

hosp3

रोजगारपरक प्रशिक्षण देगा ड्रामा स्कूल

पुणे से आए अंतर्राष्ट्रीय नाट्य काउंसिल के संस्थापक राष्ट्रीय निदेशक पार्थसारथी रॉय ने कहा कि काउंसिल देश के नाट्यकर्मियों के अधिकारों और हितों की रक्षा के लिए कार्य करती आ रही है. साथ ही उभरते और प्रतिभाशाली कलाकारों को प्रशिक्षण देकर उन्हें पेशेवर बनाने के लिए देश में चार जोनल ड्रामा स्कूल खोला जा रहा है. इसी कड़ी में पूर्व क्षेत्र का ड्रामा स्कूल गिरिडीह में शुरू किया गया. इससे इस क्षेत्र के कलाकारों को लाभ मिलेगा. उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार को कला संस्कृति का बजट बढ़ाकर हर जिले में रंगशाला का निर्माण करना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंःजन आंदोलन के रूप में लेकर जिला को कुपोषण मुक्त बनाएं : सुदर्शन भगत

सरकार और प्रशासन से मिलेगा सहयोग

समारोह के मुख्य अतिथि गांडेय विधायक जयप्रकाश वर्मा ने कहा कि गिरिडीह में एएमसी का ड्रामा स्कूल खुलना गर्व की बात है. सरकार की तरफ से इसके संचालकों को हर संभव मदद दिलायी जाएगी. गिरिडीह के मेयर सुनिल पासवान ने कहा कि नगर निगम की ओर से कलाकारों को प्रशिक्षण और रिहर्सल के लिए एक निर्धारित जगह शीघ्र ही  आवंटित कराने का प्रयास किया जाएगा. समारोह को धनबाद से आए डॉ एसएन गोस्वामी, शारदा गिरी, श्रीशेन्दू सेन गुप्ता, दिलीप वर्मा ने भी संबोधित किया. कार्यक्रम का संचालन बलवंत कुमार ने और धन्यवाद ज्ञापन ड्रामा स्कूल के निदेशक महेश अमन ने किया.

इसे भी पढ़ेंःडिजनीलैंड भारी पड़ा पलामू जिला प्रशासन पर, शर्तों को दिखाया जा रहा है अंगूठा

ये थे शामिल

समारोह में बीरेन्द्र राम, रूपेश कुमार, लोकनाथ सहाय, रीतेश, अविनाश, पारस, लवलेश, आदिल, चंद्रशेखर, सतीश, प्रतीक, राहुल समेत धनबाद, गोड्डा, जामताड़ा, कोडरमा, देवघर और गिरिडीह के दर्जनों रंगकर्मी मौजूद थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: