JharkhandLead NewsRanchi

सभी घरों को निःशुल्क वाटर टैप कनेक्शन देने की मुहिम पर झारखंड सरकार

Ranchi : राज्य के प्रत्येक शहरी नागरिक के घर तक नल के माध्यम से पानी पहुंचाने का प्रयास राज्य सरकार के स्तर से शुरू है. सीएम हेमंत सोरेन ने नगर विकास एवं आवास विभाग को निर्देश दिया है कि हर व्यक्ति को स्वच्छ पानी पीने का अधिकार है. ऐसे में पानी का कनेक्शन हर घर को निःशुल्क मिले. इसके लिये शहरी जलापूर्ति व्यवस्था में सुधार हो. इसे देखते राज्य सरकार ने झारखंड अर्बन वाटर सप्लाई इम्प्रूवमेंट प्रोजेक्ट शुरू किया है. हाल ही में पेयजलापूर्ति योजनाओं के त्वरित गति से क्रियान्वयन के लिए नगर विकास एवं आवास विभाग ने एशियन डेवलपमेंट बैंक के साथ 1168 करोड़ रुपया का लोन साईन किया है. इससे पेयजल संकट को दूर करने में मदद मिलेगी. लोगों को इधर उधर भटकना नहीं पड़ेगा. इसके लिए बोरिंग पर निर्भरता भी खत्म होगी.

इसे भी पढ़ें : PM मोदी तक पहुंची एलोवेरा विलेज देवरी के कामयाबी की गूंज, ‘मन की बात’ में साझा किया किस्सा

जल नीति 2020 के तहत कनेक्शन

Catalyst IAS
ram janam hospital

राज्य सरकार नें इसके लिए जल नीति 2020 को अधिसूचित किया है. यह जनवरी 2021 से लागू है. इस नीति के तहत सरकार चाहे तो किसी भी आय श्रेणी के शहरी परिवार के आवासीय घर में वाटर कनेक्शन देनें के एवज में कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा. इसी नीति के तहत राज्य सरकार ने सभी शहरी घरों में वाटर कनेक्शन नि:शुल्क कर दिया है. अगर कोई परिवार 5 किलो लीटर प्रति माह पानी का उपयोग करता है और वो गरीबी रेखा से उपर की श्रेणी में है तो भी उसका वाटर यूजर चार्ज नहीं लगेगा.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

बीपीएल परिवारों को नि:शुल्क जलापूर्ति

राज्य सरकार सभी आय वर्ग  के लोगों के घरों में नि:शुल्क वाटर कनेक्शन दे रही है. इसके साथ-साथ बीपीएल परिवारों के लिए नि:शुल्क जलापूर्ति की व्यवस्था राज्य सरकार की ओर से की गयी है. यानि कनेक्शन के बाद गरीब परिवारों को वाटर यूज़र टैक्स नहीं देना पड़ेगा. यही वजह है कि राजधानी रांची में ही तीन महत्वपूर्ण जलापूर्ति योजनाओं के तहत दो लाख दस हजार कनेक्शन का लक्ष्य रखकर तेजी से कनेक्शन देने का काम चल रहा है.

2011 की जनगणना के अनुसार 2,07,000 हजार घरों में कनेक्शन देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था. अभी रांची नगर निगम क्षेत्र में मात्र 1,87,000 हाउसहोल्ड ही होल्डिंग के रुप में चिन्हित हैं. ऐसे में 2 लाख 10 हजार घरों में कनेक्शन के बाद कोई भी घर बगैर मीटरयुक्त कनेक्शन के नही बचेगा. मीटरयुक्त सभी कनेक्शन निःशुल्क दिए जा रहे हैं. यानि रांची के किसी भी घर में वाटर कनेक्शन के लिए शुल्क नहीं लगेगा. अभी रांची में शहरी जलापूर्ति योजना फेज वन के तहत 1,06,935 फ्री कनेक्शन देने का काम शुरु है. रांची शहरी जलापूर्ति योजना फेज 2 बी के तहत 38,143 फ्री कनेक्शन देने का टारगेट है. फिलहाल रांची शहरी जलापूर्ति योजना के तहत फेज 2ए में 60,932 फ्री कनेक्शन देने का काम चल रहा है.

इसे भी पढ़ें : दिल्ली में लालू प्रसाद से मिले हेमंत सोरेन, झारखंड के राजनीतिक हालात पर हुई चर्चा

राजधानी में चल रही हैं 3 बड़ी परियोजनाएं

रांची की बढ़ती आबादी और जनसंख्या, बढ़ते वाटर कनेक्शन की डिमांड को देखते हुए तीन महत्वपूर्ण योजनाएं चलायी जा रही हैं. इसके अंतर्गत कुल 13 इएसआर, 2 जीएलएसआर, एक वाटर ट्रिटमेंट प्लांट लगाने और कुल 1388 किमी पाइप लाइन बिछानें की योजना पर काम चल रहा है. इसमें अबतक कुल 410 किमी पाइप लाइन बिछाया जा चुका है. 5 इएसआर का निर्माण भी हो चुका है. इसी प्रकार, रांची के साथ साथ प्रदेश के दूसरे बड़े नगर निकायों में भी जलापूर्ति योजनाओं पर कार्य चल रहा है.

राज्य सरकार के नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव विनय कुमार चौबे के मुताबिक नगर निकायों में हर नागरिक को स्वच्छ जल मिले, यह राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है. स्वच्छ जल बुनियादी जरुरत है. इसीलिए सरकार हर घर तक निःशुल्क वाटर कनेक्शन और वाटर कनेक्शन के बाद खासकर बीपीएल परिवारों के घर में निःशुल्क पेयजल उपलब्ध करा रही है.

Related Articles

Back to top button