JharkhandLead NewsPalamu

भाषा के बहाने झारखंड सरकार कर रही अल्पसंख्यक तुष्टिकरण : दीपक प्रकाश

Palamu : पलामू प्रवास पर पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने मंगलवार को कहा कि झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार भाषा के नाम पर वोट बैंक बनाना चाहती है. क्षेत्रीय भाषा की सूची में उर्दू को शामिल कर अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की नीति अपनायी हुई है. उर्दू कभी क्षेत्रीय भाषा नहीं रही. सरकार की मंशा हर मामले में तुष्टिकरण करना है.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष जिला मुख्यालय से सटे चैनपुर गढ़ में पार्टी के प्रदेश मंत्री विवेक भवानी सिंह के आवास पर पत्रकारों से बात कर रहे थे. प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी सभी भाषाओं का सम्मान करती है. इसी कारण केंद्र की मोदी सरकार ने नेशनल एजुकेशन पॉलिसी (एनइपी) लेकर आयी है.

इसके माध्यम से सभी क्षेत्रीय भाषाओं में शिक्षा देने की तैयारी है, लेकिन झारखंड सरकार एनइपी को लागू नहीं कर रही है. बीजेपी झारखंड सरकार से मांग करती है कि भाषा पर एक नीति बनाएं. वोट बैंक की चिंता छोड़ छात्र-छात्राओं का भविष्य तय करें.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढें:HEALTH ALERT: सावधान, बदलता मौसम आपको कर सकता है बीमार, भूलकर नहीं करें ये काम

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

दीपक प्रकाश ने कहा कि झामुमो दिशोम गुरू शिबू सोरेन को अपना आदर्श मानता है. शिबू सोरेन झारखंड में शराबबंदी चाहते हैं, लेकिन झारखंड सरकार शराब बेचने की आकर्षक नीति बनाकर शिबू सोरेन को अपमानित कर रहा है. उन्होंने कहा कि झारखंड में दलीय आधार पर पंचायत चुनाव के वे पक्षधर हैं, लेकिन अभी जो स्थिति है उसके अनुसार दलगत चुनाव संभव नहीं है.

बावजूद बीजेपी ऐसे उम्मीदवार को पसंद करेगी, जो राष्ट्रवादी हो. जिला खनिज फाउंडेशन ट्रस्ट (डीएमएफटी) की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इस ट्रस्ट की लूट का साम्राज्य है.

इसे भी पढें:RANCHI: सांसद संजय सेठ, मेयर आशा लकड़ा, बीजेपी प्रवक्ता प्रतुल समेत 24 लोगों को मिली हाईकोर्ट से जमानत

उन्होंने कहा कि प्रखंड कार्यालय, पुलिस स्टेशन नीलामी व स्थानांतरण व पोस्टिंग यहां एक उद्योग का रूप ले लिया है. मार्च का महीना आने वाला है और इस सरकार ने अपने आवंटित बजट का केवल 43 प्रतिशत ही खर्च किया है. इससे साबित होता है कि यह सरकार विकास विरोधी है.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि मॉब लिंचिंग मामले में भी झारखंड सरकार तुष्टिकरण की नीति अपना रही है. उन्होंने कहा कि इसका झुकाव अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की ओर है. उन्होंने आरोप लगाया कि इस सरकार ने बिचौलियों को अपना रास्ता बनाने की अनुमति देने के लिए प्राथमिक कृषि ऋण समिति को नष्ट कर दिया है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा झारखंड में भेजे गये गरीब कल्याण योजना का खाद्यान्न सड़ने के लिए छोड़ दिया गया है या कालाबाजारी में ले जाया गया है.

इसे भी पढें:BIG NEWS :  राजस्थान हाइकोर्ट का बड़ा फैसला, RAS भर्ती 2021 की PT का परिणाम रद

झारखंड सरकार में सहयोगी कांग्रेस पर वार करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पारस नाथ में कांग्रेस चिंतन शिविर चला रही है. लेकिन कांग्रेस को जनसरोकार की समस्याओं से कोई लेना-देना नहीं रह गया है. कांग्रेस अपने लिए चिंता में डूबी हुई है.

कहा कि झारखंड सरकार की तमाम नीतियां सवालों के घेरे में है. ऐसे में पार्टी कार्यकर्ताओं के सहारे संघर्ष की श्रृंखला खड़ी की जा रही है.

जन मुद्दों पर सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी. बीजेपी का एक-एक कार्यकर्ता झारखंड सरकार को चोट देगा और खतरनाक मंसूबे को कभी सफल नहीं होने देंगे.

इसे भी पढें:Jharkhand Human Trafficking: मानव तस्करी की शिकार झारखंड की 5 बच्चियों को दिल्ली में कराया गया मुक्त

दीपक प्रकाश ने कहा कि पलामू में पार्टी कार्यकर्ता संगठन हित में बेहतर कार्य कर रहे हैं. पलामू प्रवास उनका 20 वां जिला है. कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर जनाधार बढ़ाने का निर्णय लिया गया है. संगठन विस्तार भी किया जायेगा.

चैनपुर के बाद बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष गढ़वा के लिए निकल गये. उनके साथ पलामू के सांसद वीडी राम, महामंत्री आदित्य साहू, बाल मुकुंद सहाय, पलामू प्रभारी विनय जायसवाल, डालटनगंज के विधायक आलोक चौरसिया भी गये हैं.

इसे भी पढें:सारठ पेयजलापूर्ति स्कीम : आपसी खींचतान में वाटर सप्लाई स्कीम पर 6 महीने से फिर रहा पानी, एक बूंद पानी पर भी आफत

Related Articles

Back to top button