JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

हेलिकॉप्टर पायलट और एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर की तलाश में झारखंड सरकार, जानें क्या हैं शर्तें

Ranchi : गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग (झारखंड सरकार) को हेलीकॉप्टर पायलट की जरूरत है. साथ ही उसे एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर और एयरपक्राफ्ट टेक्निशियंस की भी जरूरत है. इसके लिए विभाग ने योग्य कैंडिडेट से आवेदन मांगे हैं. सरकार को खासकर ऐसे पायलट की आवश्यकता है जिसे ध्रुव डिजाइन-मॉडल वाले हेलिकॉप्टर चलाने का तजुर्बा हो. पायलट के लिये आवेदन करने वालों का भारतीय होना जरूरी होगा. इसी तरह से एयरक्राफ्ट मेंटनेंस इंजीनियर और एयरक्राफ्ट टेक्निशियंस को भी ध्रुव मडल हेलिकॉप्टर के रख रखाव की जानकारी होनी चाहिये. सभी पदों पर नियुक्ति कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर होगी. इसके लिये राज्य सरकार की ओर से आकर्षक पैकेज दिये जाने की गारंटी दी गयी है.

क्या है शर्त

गृह विभाग के मुताबिक आवेदक के पास एटीपीएल (ATPL)/ सीएचपीएल (CHPL) होना चाहिये. कम से कम 2500 घंटे तक हेलिकॉप्टर उड़ान का तजुर्बा हो. इनमें से पीइआसी में 1000 घंटा और रात में 100 घंटे मल्टी इंजन प्लस में उडान का अनुभव हो. फिजिकली फिट होना भी जरूरी होगा. ऐसा नहीं होने पर भी आवेदक आवेदन कर सकते हैं. उनके अनुभव और करेंट लाइसेंस स्टेटस के आधार पर विभाग विचार कर सकता है.

ध्रुव हेलिकॉप्टर के लिए एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर (कैटेगरी बी2) के पास डीजीसीए (भारत) से जारी लाइसेंस का होना जरूरी होगा. मल्टी इंजन हेलिकॉप्टर के रख ऱखाव के कामों में 2 सालों का अनुभव होना चाहिये. इसके लिये एक पद ही तय किया गया है. टेक्निशियन के लिये 3 पद तय किये गये हैं. चयनितों को 3 सालों के लिये रखा जायेगा. आवेदक के पास ध्रुव हेलिकॉप्टर के तकनीकी कार्यों से जुड़ी जानकारी में एक साल का अनुभव होना चाहिये.

Sanjeevani

ऐसे करें आवेदन

आवेदक को अपना सीवी (Cirriculam Vitae) हवाई उड़ान (पायलट संबंधी) विवरण, वैध पायलट लाइसेंस और पासपोर्ट, वर्तमान मे जारी किये मेडिकल प्रमाण पत्र (फिटनेस संबंधी) और पासपोर्ट फोटो के साथ विभाग के पास जमा करना होगा. इसी तरह से एयरक्राफ्क्ट मेंटेनेंस इंजीनियर और टेक्निशियन भी जरूरी कागजात के साथ आवेदन करेंगे. धुर्वा, रांची के प्रोजेक्ट भवन स्थित विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेट्री के पास डाक द्वारा या ई-मेल  sec-home-jhr@nic.in  से इसे भेजना होगा. इसके लिये समय सीमा 28 अगस्त 2022 तक तय की गयी है.

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस आलाकमान ने बिहार से दिया संकेत, झारखंड के दिग्गजों पर कभी भी गिर सकती है गाज

Related Articles

Back to top button