JharkhandLead NewsRanchi

DMF मद में झारखंड को मिले 6533 करोड़ रुपए, धनबाद को सबसे ज्यादा 1633 करोड़ का आवंटन

Ranchi : DMF यानी डिस्ट्रिक्ट मिनरल फण्ड में झारखंड को 6533 करोड़ रुपये मिले हैं. संसद में सांसद संजय सेठ ने बुधवार को तारांकित प्रश्नकाल में डीएमएफ से जुड़ा मामला उठाया था. इस पर केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बताया कि जनवरी 2021 तक झारखंड में डिस्ट्रिक्ट मिनरल फण्ड के तहत 6533 करोड़ रुपए का संग्रह हुआ है. इसमें 5169 करोड़ का आवंटन हुआ. 2983 करोड़ रुपए की निधि का उपयोग किया गया. झारखण्ड में सबसे अधिक निधि धनबाद को 1633 करोड़ रुपए मिली. वही सबसे कम राशि गढ़वा को 1.85 करोड़ रुपए मिली. रांची को DMF मद में 93.31 करोड़ रुपए की राशि प्राप्त हुयी.

Advt

इसे भी पढ़ें:मुख्यमंत्री हेमंत का एलान, अब डीएमएफटी की राशि भी खर्च कर सकेंगे विधायक

कोरोना काल में अब तक 519.85 करोड़ खर्च

प्रह्लाद जोशी ने बताया की कोरोना काल में DMF का भी उपयोग हुआ. कोरोना प्रभावित लोगों के ईलाज, जांच और अन्य आवश्यक चिकित्सा उपायों के लिए DMF के 30% की राशि के उपयोग की इजाजत दी गयी थी. इस मद में 15 मार्च 2021 तक 519.85 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं. संजय सेठ ने मैक्लुस्कीगंज (रांची) के लिये चिंता जाहिर करते हुए कहा कि मैक्लुस्कीगंज रांची लोकसभा क्षेत्र का एक छोटा सा गांव है. इसे मिनी लंदन के नाम से जाना जाता है.

इसे भी पढ़ें:दलबदल मामला: बाबूलाल के वकील ने कहा- नेता प्रतिपक्ष मामले में हाइकोर्ट के फैसले तक न हो सुनवाई

यह खनन प्रभावित क्षेत्र में ही आता है. वर्तमान समय में इसकी स्थिति बहुत खराब है. खनन प्रभावित क्षेत्र में होने के कारण इनके विकास की योजनाएं अब तक नहीं बन पायी. सरकार इसके विकास की योजना बनाये. इस पर जोशी ने बताया कि यह काम डीएमएफ के द्वारा हो सकता है. कई मामलों में डीएमएफ से योजनाएं बनाने और उसका अनुपालन सुनिश्चित करने का काम राज्य सरकारों का है. झारखंड की सरकार को इस पर गंभीरता बरतनी चाहिए.

पर्यावरण को संरक्षित करने को डीएमएफ का उपयोग

खनन क्षेत्र में पर्यावरण को भी बड़ा नुकसान होता है. राज्य सरकार चाहे तो उसकी भरपाई के लिए डीएमएफ के माध्यम से कार्य कर सकती है. केंद्र के अनुसार डीएमएफ का क्रियान्वयन डीएमएफ कमेटी को करना है. अपने क्षेत्र के अनुसार योजनाएं तैयार की जा सकती है. इस राशि का अधिक से अधिक उपयोग खनन क्षेत्र के प्रभावित लोगों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें:कोविड-19 संक्रमण काल के दौरान अपने कर्तव्यों का बखूबी निर्वहन कर रहा सीसीएल

Advt

Related Articles

Back to top button