न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड इंजीनियरिंग कॉलेज : #AcademicSession 2020-21 में भी JEEMain से ही होगा नामांकन

960

Ranchi : झारखंड के इंजीनियरिंग कॉलेजों के वर्तमान शैक्षणिक सत्र 2019-20 में जेइइ मेन परीक्षा की रैकिंग के आधार पर नामांकन लिया गया था. नामांकन की यह प्रक्रिया अगले शैक्षणिक सत्र यानी 2020-21 में भी जारी रहेगी. इस बाबत झारखंड संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता पर्षद-झारखंड कंबाइंड ने वेबसाइट पर इससे संबंधित सूचना भी जारी कर दी है.

गौरतलब है कि जेइइ मेन की परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी – एनटीए लेती है. यही इस परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों की ऑल इंडिया रैंक जारी करती है.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें –13 महीने के वेतन पर बोले पुलिस कर्मी- हमें सरकारी कैलेंडर में जितनी छुट्टी है दे दें और कुछ नहीं चाहिए

सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों में होगा नामांकन

झारखंड कंबाइंड की ओर से जारी सूचना में कहा गया है कि राज्य में स्थित विभिन्न सरकारी, गैर सरकारी व पीपीडी मोड पर संचालित इंजीनियरिंग संस्थानों में जेइइ मेन के रिजल्ट के आधार पर ही स्टेट मेरिट लिस्ट के आधार पर नामांकन लिया गया था. अब शैक्षणिक सत्र में भी नामांकन के लिए मेरिट लिस्ट जेइइ मेन के रैंक के आधार पर की जायेगी.

नोटिस में यह भी बताया गया है कि चयनित उम्मीदवार जब संस्थान में नामांकन लेने जायेंगे, तब उनके पास 12 वीं में न्यूनतम 45 फीसदी अंक होने के साथ अन्य शैक्षणिक दस्तावेज भी होने चाहिए. इसके अलावा स्थानीय निवासी प्रमाणपत्र भी होने चाहिए.

WH MART 1

इसे भी पढ़ें – भूल गयी सरकार : CM ने 2 हजार वनरक्षी के पदों पर नियुक्ति का किया था वादा, एक साल से इंतजार में युवा

फीस में छूट के लिए आय प्रमाणपत्र जरूरी

राज्य सरकार की ओर से शैक्षणिक संस्थानों में लगने वाली फीस में छूट प्रदान की जाती है. यह छूट आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को दी जाती है. वैसे उम्मीदवार जो इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिले में ट्यूशन में फीस में छूट चाहते हैं, उन्हें आय प्रमाणपत्र जमा करना होगा.

सबसे जरूरी बात यह है कि आय प्रमाणपत्र में अधिकतम आय 8 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए. आय प्रमाणपत्र उपायुक्त या एसडीओ स्तर का होना चाहिए. नामांकन प्रक्रिया सहित अन्य जानकारी झारखंड कंबाइंड के वेबसाइट से ली जा सकती है.

इसे भी पढ़ें –  SC के सीनियर वकील हरीश साल्वे ने #EconomicSlowDown के लिए सुप्रीम कोर्ट के कुछ फैसलों को जिम्मेदार ठहराया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like