Jharkhand Vidhansabha ElectionMain Slider

झारखंड में आचार संहिता की नहीं है अधिकारियों को परवाह, धड़ल्ले से निकल रहे हैं टेंडर

Ranchi: क्या झारखंड में अधिकारियों को राज्य में आदर्श आचार संहिता की परवाह है. जिस तरह से सारे नियम और कानून को ताक पर रख कर झारखंड के कई विभाग के अधिकारी टेंडर निकाल रहे हैं. उससे तो नहीं लगता कि आदर्श आचार संहिता की परवाह झारखंड में विभाग के अधिकारियों को है.

Sanjeevani
पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, गुमला जिला द्वारा निकाला गया टेंडर नोटिस. दो केवीए पावर ट्रांस्फार्मर और दूसरे उपकरण लगाने का कार्य.
MDLM

एक नवंबर को चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही आचार संहिता लागू हो चुकी है, बावजूद दूसरे ही दिन चार बड़े विभागों ने टेंडर नोटिस जारी किया. बिना रोक-टोक टेंडर निकालने का सिलसिला लगातार जारी है.

नगर विकास विभाग, पथ निर्माण विभाग, भवन निर्माण विभाग, पशुपालन विभाग, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग समेत कई विभागों ने विभिन्न कामों को लेकर टेंडर जारी किया है, जो आदर्श आचार संहिता का सरासर उल्लंघन है.

नगर पंचायत हुसैनाबाद, पलामू जिला द्वारा नाली, सड़क निर्माण, पेवल ब्लॉक, पीसीसी सड़क आदि बनाने के संबंध में निकाला गया टेंडर.

इसे भी पढ़ें – संदर्भ महाराष्ट्रः यह भाजपा के स्वर्णिम वक्त में अभूतपूर्व पराजय है

इन विभागों ने निकाला है टेंडर

नगर विकास एवं आवास विभाग लोहरदगा ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए टेंडर निकाला है. बिड जमा करने की तिथि 22 नवंबर है और टेंडर 23 नवंबर को खोला जाना है. वहीं लघु सिचाई विभाग गुमला ने दस दिसंबर तक टेंडर जमा करने की अंतिम तिथि निर्धारित की है.

कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग की तरफ से 10 हजार चारा काटने की मैनुअल मशीन और 5हजार बिजली से चारा काटनेवाली मशीन की खरीद के लिए निकाला गया टेंडर.

कार्यालय नगर परिषद चतरा ने एलईडी फ्लड लाईट के लिए टेंडर आमंत्रित किये हैं. नगर परिषद कार्यालय चतरा ने चापाकल मरम्मती के लिए टेंडर मंगाया है. टेंडर आज ही 8 नवंबर को खोला जाना है.

नगर पंचायत हुसैनाबाद पलामू ने पीसीसी पथ निर्माण, नाली निर्माण सहित कई कामों के लिए सात नवंबर तक टेंडर आमंत्रित किये गये थे. यह भी टेंडर 7 नवंबर को ही खोला जाना था. इसके अलावा पेयजल एवं स्वच्छता विभाग पथ निर्माण विभाग ने भी कई लाभकारी योजनाओं के लिए टेंडर मंगाये हैं, जो आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है.

इसे भी पढ़ें – विपक्ष का गठबंधन तय : JMM 43, कांग्रेस 31 और RJD 7 सीटों पर उतारेगी प्रत्याशी, हेमंत होंगे चेहरा

क्या विभाग के सचिवों को नहीं है इस बात की जानकारी

सवाल यह है कि जिले में विभाग की तरफ से टेंडर धड़ल्ले से निकाले जा रहे हैं, तो ऐसे में विभाग के उच्च अधिकारी यानी सचिव स्तर के अधिकारी को इस बात की जानकारी नहीं है. दूसरी तरफ विज्ञापन पीआरडी की तरफ से अखबारों तक पहुंचता है.

नगर परिषद चतरा की तरफ से चापाकलों की मरम्मति के लिए निकाला गया टेंडर.

तो क्या पीआरडी को इस बात की जानकारी नहीं है कि आचार संहिता के वक्त विकास कार्य के लिए टेंडर नहीं निकाला जाता है. या फिर सबकुछ जानते हुए भी आचार संहिता की परवाह किसी को नहीं है.

चुनाव आयोग से अनुमति लिये बगैर नहीं हो सकती टेंडर की प्रक्रियाः मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी

टेंडर के मामले पर न्यूज विंग ने झारखंड के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे से बात की. उन्होंने कहा कि कोई भी विभाग टेंडर की प्रक्रिया में नहीं जा सकता है. ऐसा करने से पहले उन्हें चुनाव आयोग से अनुमति हर हाल में लेनी होगी.

पथ निर्माण विभाग कोडरमा की तरफ से पीसीसी सड़क एवं सड़क मरम्मित के संबंध में निकाला गया टेंडर.
ज्यूडको की तरफ से 340 ड्वेलिंग यूनिट्स प्रधानमंत्री आावास योजना के तहत लोहरदगा में बनाने के संबंध में टेंडर.
कार्यपालक अभियंता भवन निर्माण विभाग रांची की तरफ से रांची परिसदन में वीआइपी सूट और परिसदन में दूसरी मरम्मति के लिए निकाला गया टेंडर.
जिला कृषि पदाधिकारी गढ़वा की तरफ से थ्रेसिंग फ्लोर के निर्माण के लिए निकाला गया टेंडर.
कार्यपालक नगर परिषद, चतरा की तरफ से सोलर पावर हाईमास्ट स्ट्रीट लाइट लगाने के संबंध में निकाल गया टेंडर.

इसे भी पढ़ें – एक साल में दस जिलों में बस स्टैंड बनाने की थी योजना, ढाई साल में एक ईंट भी नहीं जोड़ पायी सरकार

Related Articles

Back to top button