DhanbadJharkhand

धनबादः सीएम की सभा से पहले बंटी अखबार की कतरन, लोगों को बताया- रघुवर दास ने ही झरिया को उजाड़ देने की घोषणा की थी

Dhanbad : झरिया में मुख्यमंत्री रघुवर दास की आमसभा बुधवार की शाम को होगी. इससे पहले झरिया के लोगों ने एक अखबार की कतरन लगभग पूरे शहर में बंटवायी.

यह उस खबर की कतरन है, जिसमें मुख्यमंत्री ने कहा है कि झरिया को हर हाल में खाली करायेंगे. मुख्यमंत्री की सभा को देखते हुए आम लोग एक-दूसरे का यह याद दिला रहे हैं कि यह वही सीएम है, जिसने झरिया को उजाड़ देने की बात कही थी.

झरिया के लोगों को मुख्यमंत्री का यह बयान पसंद नहीं आया और वे लगातार इस बयान की निंदा कर रहे हैं. इसी को लेकर मुख्यमंत्री की सभा का भी विरोध करने का मन बनाया है.

इसे भी पढ़ें – आखिर क्यों धनबाद के झरिया में सीएम रघुवर दास के आने से पहले पुलिस ने किया फ्लैग मार्च !

अब यह तो शाम को स्पष्ट हो पायेगा कि मुख्यमंत्री की सभा में विरोध के स्वर गूंजते हैं या नहीं.

कई लोगों को घर खाली करने का मिल चुका है नोटिस

आपको बता दें कि झरिया शहर के चंद मुहल्ले ही ऐसे बच गये हैं,  जिसे बीसीसीएल ने असुरक्षित घोषित नहीं किया है. प्रबंधन ने एक-एक कर झरिया के कई मुहल्ले और आसपास के क्षेत्रों को असुरक्षित घोषित कर दिया है.

बीसीसीएल प्रबंधन अब तक 15 बार झरिया और आसपास की जनता को नोटिस देकर खाली करने की अपील कर चुका है. कई कॉलोनियां पहले ही खाली हो गयी हैं.

ऐसे में झरिया को खाली करने का बयान भाजपा के लिए सिरदर्द साबित हो सकता है.

लोगों ने कहा – नहीं रह गया है किसी भी नेता पर भरोसा

झरियावासी आग के नाम पर पहले ही बहुत कुछ गवां चुके हैं. झरिया से गुजरने वाले रेल मार्ग पर ट्रेनों का परिचालन बंद होने की टीस अभी भी उनके दिल में है.

झरिया की धरोहर आरएसपी कॉलेज छिन जाने का भी मलाल है. उनसे थोक मंडी भी छीनी जी चुकी है. ऐसे में झरिया की जनता ने झरिया के अस्तित्व बचाने की लड़ाई सीधे अपने हाथों में ले ली है.

उनका कहना है कि अब उन्हें किसी भी नेता पर विश्वास नहीं. और यही कारण है कि आम लोग खुद से अखबार की कतरन आपस में बांट रहे हैं और विरोध कर रहे हैं. प्रशासन ने इसी को देखते हुए मंगलवार की शाम फ्लैग मार्च निकाला था.

इसे भी पढ़ें – गढ़वाः महिला थानेदार व एएसआइ का घूस लेते वीडियो वायरल, जांच शुरू-कार्रवाई जल्द

बीसीसीएल की नजर में ये क्षेत्र हैं असुरक्षित

एक आंकड़े के अनुसार लोदना क्षेत्र के कुजामा कोलियरी प्रबंधन ने झरिया के इंदिरा चौक, लिलोरी पथरा, सुराटांड़, धसकापट्टी, नयी दुनिया, सब्जी बागान, चार नंबर बस स्टैंड आदि स्थान असुरक्षित घोषित किया है. इन स्थानों पर  बीसीसीएल प्रबंधन लगातार नोटिस चिपका कर लोगों को झरिया खाली करने के लिए आगाह करता आया है.

वहीं मुख्यमंत्री ने भी झरिया खाली करने की बात कही. दूसरी तरफ झरिया से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने  की उम्मीद जगाये बैठीं रागिनी यह कहती हैं कि झरिया किसी भी कीमत पर खाली नहीं होगा. ऐसे में जनता इस क्या समझे.

रागिनी सिंह क्या मंच साझा करेंगी रघुवर के साथ

हालांकि झरिया विधनसभा के विधायक संजीव सिंह की पत्नी सह भाजपा नेत्री रागिनी सिंह ने झरिया के कुछ क्षेत्र और आसपास के इलाके को असुरक्षित घोषित करने के बाद बीसीसीएल प्रबंधन को खुली चुनौती भी है.  उन्होंने कहा है कि किसी भी कीमत पर झरिया को खाली होने नहीं दिया जायेगा.

लोक सभा चुनाव के दौरे के क्रम में मुख्यमंत्री ने कहा था झरिया को हर हाल में खाली करना होगा. ऐसे में झरिया की चिंता करनेवाली झरिया के वर्तमान विधायक संजीव सिंह की पत्नी सह भाजपा नेत्री रागिनी सिंह का क्या रुख होगा यह आज की सभा के बाद पता चलेगा. क्या रागिनी सिंह सीएम रघुवर दास के साथ मंच साझा करेंगी यह भी एक सवाल है.

इसे भी पढ़ें – #SupremeCourt ने कहा,  #JammuKashmir प्रशासन संचार व्यवस्था पर प्रतिबंध लागू करने संबंधी आदेश पेश करे

Related Articles

Back to top button