न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड : इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक संस्थानों के 2500 छात्रों का हुआ कैंपस सेलेक्शन, मगर परीक्षा पर रोक से अंधेरे में भविष्य

अगस्त 2019 तक चयनित छात्रों को जमा करना है उत्तीर्ण होने का प्रमाण पत्र

322

Deepak

mi banner add

Ranchi : झारखंड के एक दर्जन से ज्यादा इंजीनियरिंग कॉलेजों और पॉलिटेक्निक संस्थानों के अंतिम वर्ष के 25 सौ छात्रों को अब नौकरी नहीं मिल पायेगी. राज्य सरकार ने कैंपस इंटरव्यू में चयनित छात्रों के भविष्य को अंधकारमय कर दिया है, क्योंकि लास्ट इयर की परीक्षा पर सरकार की ओर से  रोक लगा दिया गया है. कॉलेजों के एफ्लीएशन के मामले में पेंच आने की वजह से 2016-17 बैच के छात्र ही नहीं, बल्कि उनके अभिभावक भी परेशानी में फंस गये हैं.

परीक्षा के स्थगित करने के आदेश की कॉफी –  PDF के लिए यहां क्लिक करें

झारखंड :  इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक संस्थानों के 2500 छात्रों का हुआ कैंपस सेलेक्शन, मगर परीक्षा पर रोक से अंधेरे में भविष्य
परीक्षा स्थगित करने की कॉपी

दरअसल इन छात्रों को चयनित कंपनियों में अगस्त 2019 तक बीटेक अथवा इंजीनियरिंग डिप्लोमा का उत्तीर्ण होने का प्रमाण पत्र जमा करना है. लेकिन झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव ने 17.6.2019 , पत्रांक 1162 के आधार पर कार्यालय आदेश निकालकर 24 जून से होनेवाली परीक्षा को अगले आदेश तक स्थगित कर दिया है. 24 जून से चौथे सेमेस्टर और छठे सेमेस्टर (दूसरे और तीसरे वर्ष) की परीक्षा होनी थी.

इसे भी पढ़ें – झारखंड : कई इंजीनियरिंग कॉलेजों को नहीं मिलेगी दो वर्ष की मान्यता, खतरे में सात हजार से ज्यादा छात्रों का भविष्य

Related Posts

रांची यूनिवर्सिटी में शुरू हुई बीएड की काउंसिलिंग, 485 छात्रों की हुई फिजिकल काउंसिलिंग

12,614 छात्रों की होनी है फिजिकल काउंसिलिंग, 27 जुलाई तक रांची यूनिवर्सिटी में की जायेगी काउंसिलिंग

मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है : निदेशक

राज्य के उच्च तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास विभाग के निदेशक प्रो अरुण कुमार का कहना है कि, मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है. इसलिए सरकार की तरफ से परीक्षा लेने संबंधी किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की जा सकती है. साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार के नीतिगत फैसले से एफिलिएशन और अस्थायी एफिलिएशन की प्रक्रिया पूरा करने पर ही संस्थानों अथवा कॉलेजों को परीक्षा लेने की अनुमति दी जायेगी.

ऐसे में जो संस्थान अथवा कॉलेज एफिलिएशन नहीं लेते हैं, उन्हें सरकार की तरफ से किसी तरह का रिलैक्सेशन नहीं दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि सभी संस्थानों को 15 मई 2019 तक एफिलिएशन  लेने का मौका दिया गया था. कोई तय तिथि तक टर्न अप नहीं हुआ. यदि किसी ने समय से पहले आवेदन दिया होगा, तो उनके आवेदनों पर सरकार की उच्च स्तरीय समिति उचित निर्णय लेगी.

इसे भी पढ़ें – Police Housing Colony: पूर्व DGP डीके पांडेय की पत्नी पूनम पांडेय की जमीन की CBI जांच को लेकर PIL

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: