Khas-KhabarRanchi

झारखंड बीजेपी को है मजबूत नेतृत्व की दरकार, पार्टी किस नेता को थमायेगी कमान ?

Akshay Kumar Jha

Ranchi: झारखंड से सत्ता विहीन हो चुकी बीजेपी को एक ऐसे नेतृत्व की जरूरत है, जो पार्टी को वापस अपनी जगह दिला पाए. 2024 में होने वाले चुनाव जीतने की तैयारी पार्टी को अभी से ही करनी पड़ेगी, क्योंकि विधानसभा चुनाव में पार्टी को एक अप्रत्याशित हार का सामना करना पड़ा है.

इसे भी पढ़ेंः#Dhullu: मामूली अंतर से मिली जीत पर भड़के भाजपा विधायक ढुल्लू महतो, अपने समर्थकों को लगायी फटकार

लिहाजा पार्टी को एक मजबूत प्रदेश अध्यक्ष की तलाश है. मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ अपना इस्तीफा सौंप चुके हैं. संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह दिल्ली की उड़ान भर चुके हैं. एक-दो दिन में पार्टी अपने नए प्रदेश अध्यक्ष का ऐलान कर देगी.

लेकिन वो नाम कौन होगा जिसपर पार्टी दांव खेलेगी, फिलहाल चर्चा का विषय यही बना हुआ है. प्रदेश अध्यक्ष के पद पर कौन आसीन होगा इसे लेकर बीजेपी का दो-तीन ग्रुप काम कर रहा है. सभी चाह रहे हैं कि उनका उम्मीदवार अध्यक्ष पद पर काबिज हो.

जाने कौन-कौन हैं अध्यक्ष बनने की रेस में

छह से सात नाम ऐसे हैं जो अध्यक्ष बनने के लिए लॉबिंग कर रहे हैं. जो ग्रुप टिकट बंटवारे को लेकर चुनाव से पहले सक्रिय था, उस ग्रुप की डिमांड आदित्य साहू हैं. लेकिन इस नाम के खिलाफ कई लोग लगे हुए हैं.

इसे भी पढ़ेंःसरयू राय की मुख्य सचिव को चिट्ठी, कहा- विभाग मिटा रहा है सबूत और सूचनाएं, तत्काल लगाये रोक

कहा जा रहा है कि चुनाव में पार्टी की हार की वजह यही ग्रुप था. वहीं पार्टियों का पदाधिकारियों वाला ग्रुप चाह रहा है कि पार्टी के महामंत्री दीपक प्रकाश को अध्यक्ष पद की कुर्सी मिले. पदाधिकारियों के साथ अच्छी ट्यूनिंग की वजह से पदाधिकारी ऐसा चाह रहे हैं.

वहीं पार्टी के कोषाध्यक्ष और राज्यसभा के सांसद महेश पोद्दार का नाम भी लिया जा रहा है. कहा जा रहा है कि पोद्दार एक कुशल प्रशासक की तरह पार्टी चलाने का माद्दा रखते हैं. तो वहीं 2014 के लोकसभा चुनाव में शिबू सोरेन को हरा कर आदिवासी नेता के तौर पर उभरने वाले सुनील सोरेन भी इस रेस में हैं.

इन नामों के अलावा भी दो-तीन और नाम हैं जो अंदर ही अंदर लॉबिंग का काम कर रहे हैं. देखने वाली बात होगी कि पार्टी की ऐसी स्थिति में आलाकमान किस पर भरोसा जताते हैं.

इसे भी पढ़ेंःजीएम गोपाल सिंह हत्याकांड: पीएलएफआइ के नाम फर्जी चिट्ठी जारी कर पुलिस को गुमराह करने की रची जा रही थी साजिश

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: