न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डॉ अजय कुमार के नेतृत्व में ही कांग्रेस लड़ेगी झारखंड विधानसभा चुनाव

बगावती सुर के खिलाफ सभी जिलाध्यक्षों से मांगी गयी रिपोर्ट

768

Ranchi: झारखंड में होने वाला आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी वर्तमान प्रदेश अध्य़क्ष डॉ अजय कुमार के ही नेतृत्व में लड़ेगी. सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय नेतृत्व ने एक बार फिर डॉ अजय कुमार पर अपना विश्वास जताया है.

mi banner add

कुछ दिन पहले पार्टी में प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ जिस तरह आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हुआ था, उससे बाद से अधिकांश कार्यकर्ता इस बात का कयास लगा रहे थे कि लोकसभा चुनाव में मिली हार से शीर्ष नेतृत्व प्रदेश अध्यक्ष को बदलने पर विचार कर सकता है.

कांग्रेस आलाकमान के निर्देश के बाद पार्टी मुख्यालय में शनिवार को एक आपातकालीन बैठक कर डॉ अजय कुमार ने सभी जिलाध्यक्षों से रिपोर्ट मांगी है. उससे उनका प्रदेश अध्यक्ष बने रहना तय माना जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःएक मरीज लाने पर एंबुलेंस चालक को 1500 रुपया देता है मेदांता अस्पताल

रिपोर्ट में उन्होंने पार्टी विरोधी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है. जिलाध्यक्षों को यह रिपोर्ट एक सप्ताह में देनी है. ऐसे में एक बार फिर डॉ अजय कुमार अपने विरोधी गुट पर हावी दिख रहे है.

प्रदेश अध्यक्ष का हुआ था भारी विरोध

मालूम हो कि लोकसभा चुनाव में हार का सारा ठीकरा डॉ अजय कुमार पर थोपते हुए सुबोधकांत सहाय समर्थक गुट ने गत 8 जून को मुख्यालय परिसर में उनका जोरदार विरोध किया था. उस दौरान लोकसभा चुनाव में हार के कारणों को लेकर एक समीक्षा बैठक बुलायी गयी थी.

भारी विरोध को देखते हुए डॉ अजय ने बैठक से दूरी बनायी थी. लेकिन उनके अनुपस्थिति में भी उनके समर्थकों एवं विरोधी गुट के बीच संघर्ष की स्थिति बन गयी थी. यहां तक की पूरा परिसर जंग के अखाड़े में तब्दील हो गया था.

Related Posts

आयकर विभाग ने आइटीआर एक, दो और चार के लिए ई-फाइलिंग यूटिलिटीज जारी की: संजय

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स की रांची शाखा का बजट पर एक दिवसीय सेमिनार

छवि धूमिल करने वालों पर होगी कार्रवाई

सभी जिलाध्यक्षों से मांगी गयी रिपोर्ट में कहा गया है कि पार्टी की छवि धुमिल करने वालों पर कांग्रेस कार्रवाई करेगी. अध्यक्ष ने कहा है कि लोकसभा चुनाव के पहले और बाद में पार्टी के वरिष्ठ नेता व पदाधिकारी ने शीर्ष और प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ जो बयान दिया है, उसके साक्ष्य सहित उपलब्ध करायें.

इसे भी पढ़ेंःदर्द-ए-पारा शिक्षक: गर्मी की छुट्टियों में दूसरे के घरों की मरम्मत कर चलाना पड़ा परिवार

मालूम हो कि गोड्डा सीट को लेकर जामताड़ा विधायक इरफान अंसारी, पूर्व सांसद फुरकान अंसारी, सुबोधकांत गुट समर्थक सहित कई वरिष्ठ नेताओं ने चुनाव पूर्व और बाद में प्रदेश नेतृत्व पर सवाल खड़े किये थे. इससे राज्य में पार्टी की छवि धूमिल हुई थी.

उपचुनाव में मिली जीत का दे रहे हवाला

पार्टी एक कार्यकर्ता ने बताया कि लोकसभा और विधानसभा की स्थिति में काफी अंतर होता है. कोलेबिरा चुनाव में जिस तरह से विक्सल कोंगाड़ी को पार्टी ने उम्मीदवार बनाया था, उस वक्त भी कई लोगों ने दबे स्वर में उनके नेतृत्व क्षमता पर सवाल खड़े किये थे. आज परिणाम सबके सामने है. ऐसे में सभी जिलाध्यक्षों से मांगी गयी रिपोर्ट के बाद डॉ अजय कुमार का प्रदेश अध्यक्ष बना रहना, तय माना जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःलापरवाहीः 17 कॉलेजों में हैं मात्र 65 शिक्षक, टीचर्स की संख्या बढ़ाने की बजाय बढ़ा दी छात्रों की सीटें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: