न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड : प्रदूषण बोर्ड के चेयरमैन व मेंबर सेक्रेटी की नियुक्ति गलत, ताक पर वाटर प्रिवेंशन एंड कंट्रोल ऑफ पोल्यूशन एक्ट

733

Ranchi : झारखंड राज्य प्रदूषण बोर्ड के अध्यक्ष अर मेंबर सेक्रेट्री की नियुक्ति ही गलत तरीके से की गई है. राज्य सरकार ने वाटर प्रिवेंशन एंड कंट्रोल ऑफ पोल्यूशन एक्ट को ताक में रख कर बोर्ड में चेयरमैन और मेंबर सेक्रेट्री की नियुक्ति की है.

वाटर प्रिवेंशन एंड कंट्रोल ऑफ पोल्यूशन एक्ट के सेक्शन(2)(एफ) में स्पष्ट उल्लेख है कि अध्यक्ष और मेंबर सेक्रेटी का पद फुल टाइम (पूर्णकालिक) होगा. जबकि बोर्ड के चेयरमैन एके रस्तोगी वन एवं पर्यावरण विभाग में स्पेशल सेक्रेट्री हैं.

वहीं प्रदूषण बोर्ड के अध्यक्ष के अतिरिक्त प्रभार में हैं. मेंबर सेक्रेट्री राजीव लोचन बक्शी वन विभाग में सीएफ (वन संरक्षक रांची) के पद पर तैनात हैं और प्रदूषण बोर्ड में मेंबर सेक्रेट्री के अतिरिक्त प्रभार में बने हुये हैं.

इसे भी पढ़ें – चारा घोटालाः डोरंडा कोषागार मामले में 85 आरोपियों ने कोर्ट में उपस्थित होकर लगाई हाजिरी

नई नियमावली के तहत नियुक्ति भी नहीं हुई

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में पूर्व अध्यक्ष मणिशंकर के हटने के बाद सरकार ने नई नियमावली बनाई. दो बार 2014 और 2016 में विज्ञापन भी जारी किया गया. दोनों बार 20 से अधिक आवेदन भी आये. पर सरकार ने नियुक्ति की प्रक्रिया ही शुरू नहीं की.

बोर्ड में पूर्णकालिक चेयरमैन और मेंबर सेक्रेट्री नहीं होने के कारण विरोधाभास की स्थिति बन गई है. वजह यह है कि चेयरमैन और मेंबर सेक्रेट्री के बोर्ड और विभाग के विभिन्न दायित्व भी परस्पर विरोधाभासी प्रकृति के भी हैं. दोनों दायित्वों का निर्वहन एक साथ करना कानून के अनुरूप भी नहीं है.

इसे भी पढ़ें –  #पुलवामा हमलाः मुख्यमंत्री शहीदों का करते हैं अपमान और खुद को राष्ट्रभक्त कहते हैं

Related Posts

कसमार के कौशल विकास प्रशिक्षण केंद्र पर लटक रही है बंदी की तलवार

ढाई वर्ष से ग्रामीण क्षेत्र की युवतियों को प्रशिक्षण दे रहा है वेंचर स्किल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड

क्यों हटाया गया था पूर्व चेयरमैन एके पांडेय को

सरकार ने पूर्व चेयरमैन सह पीसीसीएफ रैंक के अफसर एके पांडेय को हटा कर एके रस्तोगी को चेयरमैन बना दिया. इसके पीछे वजह थी कि पांडेय इलेक्ट्रोस्टील को सीओटी (कंसंट टू ऑपरेट) नहीं देना चाहते थे.

इसके लिये उन्होंने वन विभाग के अपर मुख्य सचिव इंदू शेखर चतुर्वेदी को पत्र लिखा कि इस मसले पर महाधिवक्ता की राय लेनी चाहिये. इसपर अपर मुख्य सचिव ने कहा कि खुद डिसिजन लें. इसके बाद पांडेय ने बोर्ड के अध्यक्ष पद से रिजाइन कर दिया. पांडेय को रिटायरमेंट के बाद बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया था.

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT: जांच दल पहुंचा पीड़ित ईसाई परिवारों से मिलने, ग्रामसभा के फैसलों को किया निरस्त, लौटायी जायेगी जमीन और मिलेगा राशन

राज्य के कैबिनेट मंत्री सरयू राय मुख्य सचिव को लिख चुके हैं पत्र

इस मसले पर राज्य के कैबिनेट मंत्री सरयू राय ने 10 जनवरी को पूर्व मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को पत्र लिखा था. पत्र में कहा गया था कि झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद के अध्यक्ष एवं सचिव पद पर नियुक्तियां करते समय विशिष्ट ज्ञानयुक्त पूर्णकालिक पदाधिकारी को ही इन पदों पर पदस्थापित किया जाना चाहिए.

इस संबंध में विधि एवं कानून के प्रावधानों तथा राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण एवं सर्वोच्च न्यायालय द्वारा हाल ही में पारित आदेश के आलोक में आवश्यक कार्रवाई अपेक्षित है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: