न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड : पिछले 60 दिनों में हुई 303 हत्या और 226 दुष्कर्म की घटनाएं

92

Ranchi : झारखंड में दिन प्रतिदिन अपराधियों का मनोबल बढ़ता ही जा रहा है. वो अपराधिक घटनाओं को ऐसे अंजाम दे रहे हैं जैसे कि उनके अंदर किसी का खौफ ही बाकी ना रहा हो. पिछले सात दिनों में युवतियों के साथ दुष्कर्म और हत्या के कई खौफनाक मामले लगातार सामने आए हैं.

वहीं, झारखंड पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक झारखंड में हर दिन पांच हत्याएं और चार दुष्कर्म की घटनाएं घटती है. अगर बात की जाए पिछले 60 दिनों की तो पूरे झारखंड में इस दौरान 303 हत्याएं और 226 दुष्कर्म की घटनाएं हुई है.

इसे भी पढ़ें- चुनाव नतीजे घोषित होने के अगले ही दिन ही मायावती छोड़ देंगी अखिलेश का साथ : नरेश अग्रवाल

जमीन विवाद को लेकर हुई सबसे ज्यादा हत्याएं

झारखंड में जितनी भी हत्याएं होती है उसने से सबसे अधिक हत्याएं जमीन विवाद को लेकर होती है. एक ही जमीन की रजिस्ट्री कई लोगों के नाम पर कर दी जाती है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में कई पीढ़ी के बीच कानूनी बंटवारा नहीं हो पाता है. ऐसे में जमीन का कोई भी हिस्सेदार किसी भी भूखंड को बेच देता है. जब खरीदार उस पर कब्जा लेने जाता है तो, अन्य हिस्सेदार विरोध करने लगते हैं. इसके बाद विवाद बढ़ जाता है और नौबत हत्या तक पहुंच जाती है.

प्रेम प्रसंग और आपसी विवाद भी ले रही जान

प्रेम प्रसंग और आपसी विवाद के चलते भी लोगों की हत्या हो रही है. जमीन विवाद में हो रही हत्या के बाद देखा जाए तो प्रेम प्रसंग, अवैध संबंध और आपसी विवाद के कारण सबसे ज्यादा जान गयी है.

इसे भी पढ़ें – पार्टी में प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेश प्रभारी ही सर्वोपरिः ददई दुबे

नाबालिग बच्चियां हो रही शिकार

आंकड़ें कहते हैं कि दुष्कर्म जैसी हैवानियत में नाबालिग बच्चियां सबसे ज्यादा शिकार हो रही हैं. पिछले 60 दिनों में  झारखंड में 226 दुष्कर्म की घटनाएं हुई. इनमें से ज्यादातर दुष्कर्म की घटनाएं नाबालिग बच्चियों के साथ घटी है. वहीं, राज्य के शहरी क्षेत्रों की तुलना में ग्रामीण क्षेत्रों में नाबालिक लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है.

जान पहचान के लोग ही दे रहे हैं दुष्कर्म की घटना का अंजाम

जितनी भी दुष्कर्म की घटनाएं घटती हैं इन सबके पीछे कहीं ना कहीं जान पहचान के लोग ही शामिल होते हैं. आंकड़ों के मुताबिक दुष्कर्म की घटनाओं में 90% लोग जान पहचान के होते हैं. हाल के दिनों में देखे तो दुष्कर्म के बाद हत्या की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है. साक्ष्य छुपाने की नियत से आरोपी दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने के बाद पीड़िता की हत्या कर देते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: