JharkhandMain SliderRanchi

#Jharkhand: मजदूरों के खाते में सीधे जायेगा पैसा, आर्थिक सहायता एप में 2.12 लाख ने कराया निबंधन

  • राज्य के प्रवासी मजदूर अकेले नहीं, राज्य सरकार उनके साथ: सत्यानन्द भोक्ता
  • 9 लाख 22 हजार 176 प्रवासी मजदूर हैं दूसरे राज्यो में है फंसे

Pravin Kumar

Jharkhand Rai

Ranchi: कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लगाये गये लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों के खातों में डीबीटी के माध्यम से आर्थिक मदद मिलने का सिलसिला जल्द ही शुरू हो जायेगा.

खबर लिखे जाने तक राज्य सरकार ने इसके लिये तैयारी पूरी कर ली है. राज्य से बाहर फंसे 9 लाख 22 हजार 176 लोगों ने सरकार से मदद की गुहार लगायी है.

बीते 16 अप्रैल को सीएम हेंमत सोरन ने आर्थिक सहायता एप लॉन्च किया था. इस एप में अब तक 2 लाख 12 हजार 739 लोग निंबधन करा चुके हैं.

Samford

साथ ही एक लाख 75 हजार लोगों को जिला से अनुमोदन भी मिल गया है. वहीं लगभग 25 हजार के लोगों का जिलों से अनुमोदन होना शेष है.

जिनका जिले से अनुमोदन प्राप्त हो गया है उनके खाते में बुधवार देर शाम या गुरुवार से राज्य सरकार द्वारा खाते में एक-एक हजार की आर्थिक सहायता भेजी जायेगी.

इसे भी पढ़ें : #Corona : लेस्लीगंज के क्वारंटाइन सेंटर में युवक ने की आत्महत्या

किस जिले से कितने लोगों ने कराया निबंधन


आर्थिक सहायता के लिए ऐप में निबंधन कराने वाले प्रवासी मजदूरों में सबसे अधिक गिरिडीह जिले के हैं. यहां के 47642 मजदूरों ने सहायता के लिए आवेदन किया है.

वहीं सबसे कम सिमडेगा जिले के प्रवासी मजदूरों की संख्या है जहां मात्र 2144 लोगों ने सहायता के लिए निबंधन कराया.

जिला निबंधन
वेस्ट सिंहभूम  3275
सिमडेगा 2144
साहिबगंज 3707
रांची 4883
रामगढ़ 3864
पलामू 23650
लातेहार 3418
कोडरमा 8437
जामताड़ा 2487
 हजारीबाग 17551
गुमला 3063
गोड्डा 12 888
गिरिडीह 47642
गढ़वा 18967
ईस्ट सिंहभूम 4967
दुमका 4790
धनबाद 8857
देवघर 10 616
चतरा 7574
बोकारो 13571

 

इसे भी पढ़ें : #CoronaUpdates: रांची से 3 और गढ़वा से 1 कोरोना पॉजिटिव मरीज की पुष्टि, झारखंड में आंकड़ा हुआ 49

किस राज्य से कितने लोगों ने किया आवेदन

आर्थिक सहायता प्राप्त करने के लिए सबसे अधिक महाराष्ट्र में रहने वाले मजदूरों ने आवेदन किया है. जिनकी संख्या 4 7683 है. वहीं सबसे कम त्रिपुरा में रहने वाले प्रवासी मजदूरों ने आवेदन किया है जो मात्र 163 है.

राज्य आवेदकों की संख्या
महाराष्ट्र 47683
ओडिशा 3986
पंजाब 3187
राजस्थान 6196
तमिलनाडु 17707
तेलंगाना 14863
त्रिपुरा 163
उत्तर प्रदेश 8996
उत्तराखंड 794
पश्चिम बंगाल 4920
आंध्र प्रदेश 6685
छत्तीसगढ़ 3145
 दिल्ली 15360
गोवा 1952
गुजरात 32306
हरियाणा 11203
 हिमाचल प्रदेश 1413
कर्नाटक 18961
 केरल 5607
 मध्य प्रदेश 3635

 

प्रवासी मजदूर जहां हैं वहीं रहें :  श्रम मंत्री

श्रम, नियोजन एवं प्रशिक्षण मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा- प्रवासी मजदूर जहां हैं वहीं ही रहें. राज्य के प्रवासी मजदूर खुद को अकेला न समझें, राज्य सरकार उनके साथ है.

प्रवासी मजदूरों के बैंक खाते में राज्य सरकार की ओर से आर्थिक सहायता पहुचायी जा रही है. अब तक राज्य से बाहर फंसे 9 लाख 22 हजार 176 लोगों का आंकड़ा विभाग द्वारा आकड़ा जुटाया गया है.

इसमें एप के माध्यम से सहायता प्राप्त करने वाले लोगों का अब तक जितना आवेदन प्राप्त हुआ है जिसकी संख्या 2 लाख 12 हजार तक है.

सभी मजदूरों का राज्य सरकार की ओर से आने वाले समय में निंबधन और बीमा भी कराया जायेगा. राज्य सरकार दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को राहत पहुंचाने के लिए लगातार प्रयासरत है.

इसे भी पढ़ें : क्या मोदी वाकई कोरोना से लड़ने में नंबर-1 हैं? जान लीजिये, इस सर्वे में अमेरिका में रह रहे 447 लोगों ने भाग लिया है

Advertisement

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: