DhanbadJharkhand Vidhansabha Election

झरिया : सुराटांड़ बस्तीवालों ने लगाया बैनर, लिखा- विकास नहीं तो वोट नहीं 

Dhanbad : झरिया की सुरटांड़ बस्ती आज भी बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहा है. बुनियादी समस्याओं से तंग आकर लोगों ने बस्ती के बाहर एक बैनर टांग दिया है. बैनर पर लिखा गया है कि विकास नहीं तो वोट नहीं. ग्रामीणों के इस विरोध को देखते हुए कोई भी प्रत्याशी बस्ती में वोट मांगने जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है.

बस्ती के लोगों ने कहा कि अगर कोई प्रत्याशी वोट मांगने आया, तो उन्हें लोगों के विरोध का सामना करना पड़ेगा. इस बार हमलोग किसी के बहकावे में नहीं आने वाले हैं. हर बार बस्ती में प्रत्याशी आते हैं और तरह-तरह.के लुभावने वादे कर चले जाते हैं. लेकिन इस बार हमलोग ऐसा नहीं करने वाले हैं, हम ऐसी किसी भी बातों में आने वाले नहीं हैं. साथ ही कहा कि अगर हमारा वोट चाहिए तो हमारी समस्याओं का समाधान करना होगा.

इसे भी पढ़ें –#JharkhandElection: खर्च की अधिकतम सीमा है 28 लाख, भाजपा उम्मीदवार सत्येंद्र तिवारी की गाड़ी से पकड़े गये 29 लाख, कार्रवाई हुई तो उम्मीदवारी होगी रद्द 

ram janam hospital
Catalyst IAS

आज तक नहीं मिला पीने के पानी का कनेक्शन

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

बस्ती के लोगों की मानें तो सुराटांड में करीब एक हजार की आबादी है. इस एक हजार की आबादी में एक भी पीने के पानी का कनेक्शन नहीं है. इसे लेकर जनप्रतिनिधियों की भी नींद उड़ गयी है. बस्ती के लोगों ने कहा कि चुनाव के समय जनप्रतिनिधि बस्ती में वोट मांगने आते हैं और कई तरह के वादे करके चले जाते हैं. चुनाव जीतने के बाद 5 साल तक बस्ती में झांकने तक नहीं आते हैं.

इसे भी पढ़ें –#Saryu Rai ने भ्रष्टाचार को उजागर किया, सबूत भी दिये, अमित शाह ने नहीं की कार्रवाई

वर्तमान विधायक ने भी किया था समस्याओं के समाधान का वादा

स्थानीय विधायक ने पिछले चुनाव में वादा किया था, जो भी समस्या है, चुनाव जीतने के बाद समस्या का निदान कर दिया जायेगा. लेकिन आज तक वो वादा पूरा नहीं हुआ है. इससे पहले भी कई नेताओं ने चुनाव के दौरान सारी समस्याओं के समाधान का भरोसा दिलाया, लेकिन आज तक उनकी समस्याएं जस की तस हैं.

चुनाव जीतने के बाद नेता उनकी बस्ती में झांकना उचित नहीं समझते. लेकिन इस बार नेताओं की मनमर्जी नहीं चलने दी जायेगी. पहले हमारी समस्याओं का समाधान हो, फिर हमलोग वोट डालने का काम करेंगे.

इसे भी पढ़ें –कोनार डैम का टूटना क्यों न बने चुनावी मुद्दा? लगभग 25 सौ करोड़ की योजना को चूहों ने कुतरा था!

Related Articles

Back to top button