JharkhandLead NewsRanchi

झार जल मोबाइल ऐप लॉन्च, अब चापानलों पर सरकार की होगी सीधी नजर

Ranchi : पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने गुरुवार को झार जल मोबाइल ऐप लॉच किया. विश्वा सभागार, कांके में आयोजित कार्यक्रम में पेयजल विभाग के सचिव प्रशांत कुमार, एसबीएम डायरेक्टर डॉ. नेहा अरोड़ा, पीएमयू के चीफ इंजीनियर संजय झा, पीएमयू प्रोग्राम मैनेजमेंट के अंडर सेक्रेट्री प्रणव कुमार पाल आदि मौजूद थे.

इस दौरान ऐप के संचालन को लेकर कार्यशाला के आयोजन के अलावा पेयजल विभाग की मासिक पत्रिका झार जल संदेश भी जारी की गयी.

ram janam hospital
Catalyst IAS

प्रशांत कुमार ने मौके पर कहा कि झार जल मोबाइल ऐप में प्रदेश में संचालित जलापूर्ति योजनाओं और चापानल से संबंधित विस्तृत जानकारी उपलब्ध रहेगी. ऐप को अपडेट करने में सभी प्रमंडल के अफसर सहयोग करेंगे.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें:NEWSWING ROUNDUP: 23 DECEMBER

ऐप से होगी चापानल की मॉनिटरिंग

प्रशांत कुमार के मुताबिक राज्य में जल्द ही भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के सहयोग से सैटेलाइट हैंडपंप पर काम होगा. यानी चापानल का सच अब आसानी से पता लगेगा. राज्य के 4 लाख 2 हजार 719 हैंडपंप ज्योलॉजिकल इनफॉरमेशन सिस्टम (G.I.S-GIS) से जुड़ेंगे. ऐप को झारखंड स्पेस अप्लीकेशन सिस्टम (JSAC), पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने मिलकर तैयार किया है.

इसमें प्रदेशभर के सभी हैंडपंप का डिटेल्स अपलोड किया जाएगा. एक क्लिक में हैंडपंप की पूरी हिस्ट्री स्क्रीन पर दिख जाएगी.

इसे भी पढ़ें:प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत खाता खोलने में निजी बैंकों ने दिखायी उदासीनता, 1.59 करोड़ खातों में से खोले सिर्फ 1.60 लाख बैंक अकाउंट

विशेष सॉफ्टवेयर की मदद

संजय झा ने बताया कि पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने JSAC के सहयोग से झार जल मोबाइल ऐप JJMA बनवाया है. इसके लिए JSAC ने एक विशेष सॉफ्टवेयर की खरीदारी की है. उसी सॉफ्टवेयर के सहयोग से हैंडपंप का डिटेल्स किया जाएगा. इसकी मॉनिटरिंग GIS स्पेशलिस्ट करेंगे. पेयजल विभाग GIS स्पेशलिस्ट बहाल करेगा.

इसे भी पढ़ें:रिंग रोड मेंटेनेंस का काम देखने वाली कंपनी पर एक्शन ले पथ निर्माण विभाग और प्रशासन : सीटू

ऐप संचालन में जल सहिया से मदद

राज्य में जल सहियाओं के सहयोग से एक-एक हैंडपंप का सर्वे कराया जाएगा. वे अपनी रिपोर्ट में बताएंगी कि हैंडपंप किस योजना के तहत लगाया गया है. उसकी गहराई क्या है. मरम्मत कब-कब हुई. हैंडपंप सिंगल विलेज स्कीम का है या मल्टीविलेज स्कीम का. ऐसी ही अन्य जानकारियां ऐप पर अपलोड होंगी.

पेयजल विभाग के सभी प्रमंडल अपने अधीन आने वाले एक-एक चापानल का रिकॉर्ड ऐप में अपलोड करेंगे. इसकी ऑनलाइन मॉनिटरिंग जीआईएस स्पेशलिस्ट रांची स्थित प्रोग्राम मैनेजमेंट यूनिट भवन, डोरंडा (PMU, Ranchi) से करेंगे.

इसे भी पढ़ें:GOOD NEWS : अजीम प्रेमजी फाउंडेशन 14 सौ करोड़ रुपये खर्च कर खोलेगा यूनिवर्सिटी, 150 एकड़ में होगा कैंपस

Related Articles

Back to top button