न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जदयू की घोषणा : पार्टी सात सीटों पर लड़ेगी चुनाव, कार्यकर्ता झांकने लगे इधर-उधर

घोषणा के बाद पार्टी कार्यकर्ताओं में सुगबुगाहट शुरू हो गयी

182

Ranchi : जनता दल यूनाइटेड की ओर से आयोजित प्रेस वार्ता में राष्ट्रीय सचिव रामसेवक सिंह कुशवाहा की ओर से ये घोषणा करते ही कि पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए राज्य में सात सीटों को चिन्हित किया है. इस घोषणा के बाद पार्टी कार्यकर्ताओं में सुगबुगाहट शुरू हो गयी. वहां मौजूद कार्यकर्ताओं ने आपस में ही पार्टी के खिलाफ बोलना शुरू कर दिया. राष्ट्रीय सचिव प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे और पीछे बैठे कार्यकर्ता पार्टी की कमजोरी की बात कर रहे थे. कई नेताओं ने तो मीडिया के सामने ही कह दिया कि पार्टी कभी भी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगी. क्योंकि पार्टी के पास न ही इतने कार्यकर्ता हैं और ना ही पार्टी अंदर से मजबूत है. कुछ कार्यकर्ताओं को तो यह भी कहते सुना गया कि हवा में बातें हो रही हैं. पार्टी में सही से सदस्य नहीं हैं और चुनाव कहां से संभव है. हालांकि पार्टी की ओर से चिन्हित सीटों के नाम और प्रत्याशियों का नाम नहीं बताया गया.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव में 2,20,753 मतदाता पहली बार डालेंगे वोट, थर्ड जेंडर वोटर्स की संख्या 29

सदस्य भागे नहीं इसलिए की गई घोषणा

पार्टी से जुड़े कई वरीय सदस्यों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि राजनीति और राज्य में पार्टी की छवि खराब न हो इसके लिए ऐसी घोषणा की गई है. साथ ही बताया कि पार्टी अंदर से मजबूत नहीं है. ऐसे में यदि पार्टी लोकसभा चुनाव में उतरने की घोषणा नहीं करती है तो कुछ कार्यकर्ता इधर-उधर भाग सकते हैं या पार्टी बदल सकते हैं. इसलिए ऐसी घोषणा की गई. इन कार्यकर्ताओं ने कहा कि पार्टी की ओर से सात सीट बस कही गयी है. इसके लिए कोई तैयारी नहीं है.

इसे भी पढ़ें – वकील खान हत्याकांडः 12 नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी

जमीनी स्तर पर पार्टी की पहुंच नहीं

Related Posts

आंगनबाड़ी आंदोलन : हेमंत के समर्थन से कांग्रेस के बदले बोल, प्रदेश अध्यक्ष ने कहा “ बड़े भाई की भूमिका में रहेगा JMM”

पूर्वोदय 2019  में  झारखंड कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा “ लोकसभा चुनाव में बना गठबंधन अभी भी जारी“.

इसके अलावा कार्यकर्ताओं ने यह भी जानकारी दी कि पार्टी की पहुंच जनता तक नहीं है. ग्राम स्तर पर इसके सदस्य हैं नहीं. ऐसे में चुनाव में सफलता कहां से मिलेगी. पार्टी की मजबूती के लिए जरूरी है कि जनाधार हो, लेकिन पार्टी के साथ ऐसा नहीं है. हालांकि चुनाव से राज्य के संबध में निर्णय राष्ट्रीय अध्यक्ष की ओर से लिया जाएगा.

योजनाओं में सक्रिय नहीं रहते सदस्य

राज्य कार्यकारिणी की बैठक के दौरान जानकारी हुई कि पार्टी की ओर से सदस्यों को जोड़ने के लिए अभियान समेत अन्य कार्यक्रम चलाएं जाते हैं. लेकिन पार्टी के सदस्य इसमें सक्रिय भूमिका नहीं निभाते. जिससे पार्टी का जनाधार मजबूत नहीं हो पाया है.

इसे भी पढ़ें – धनबादः तालाब में तब्दील सड़क, नाले के गंदे पानी से आना-जाना हुआ मुहाल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: