न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेसीएनएल ने देवघर में कॉमन टेलीकॉम डक्ट बनाने की निविदा निकाली

पहले टेंडर में हो चुका है विवाद

1,930
  • सूचना प्रावैधिकी विभाग के स्पेशल परपज वेहीकल के रूप में निकाला गया 40 करोड़ का टेंडर

Ranchi: झारखंड कम्युनिकेशन नेटवर्क लिमिटेड (जेसीएनएल) ने अब देवघर में कॉमन टेलीकॉम डक्ट बनाने की निविदा आमंत्रित की है. जेसीएनएल की तरफ से निकाला गया यह दूसरा टेंडर है. सूचना प्रावैधिकी और ई-गवर्नेंस विभाग के स्पेशल परपज वेहीकल (एसपीभी) के रूप में जेसीएनएल ने देवघर जिले के 337 वर्ग किलोमीटर में ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क बिछाने के लिए डक्ट बनाने की निविदा निकाली है. जेसीएनएल की तरफ से 490 करोड़ की लागत से 11 जिलों के सुदूरवर्ती इलाकों तक ब्राड बैंड की सुविधा उपलब्ध कराने की निविदा आमंत्रित की गयी थी. निविदा को लेकर भारतीय औद्योगिक महासंघ (सीआइआइ) की ओर से सरकार को शिकायत की गयी. इसमें कहा गया था कि जेसीएनएल के सीइओ ने निविदा में सीवीसी के नियमों का अनुपालन नहीं किया है.

तीन वर्ष बाद फिर निकाली गयी निविदा

hosp3

सूचना प्रावैधिकी विभाग की तरफ से तीन वर्ष बाद फिर यह टेंडर प्रकाशित किया गया है, वह भी जेसीएनएल के नाम से. 40 करोड़ से अधिक की लागत वाली निविदा में 40 लाख रुपये आवेदकों से टेंडर का अग्रधन जमा (अर्नेस्ट मनी) जमा करने को कहा गया है. कहा गया है कि देवघर जिले के 2.90 लाख की आबादी में से 1.45 लाख लोगों तक ब्राड बैंड और 20 हजार घरों तक वायरलेस ब्राड बैंड की सुविधाएं दी जायेंगी.

निविदा में सभी तरह के आवेदन सीइओ के नाम से मांगे गये हैं

निविदा में जेसीएनएल के सीइओ यूपी शाह के नाम से सभी तरह के आवेदन और औपचारिकताएं पूरा करने को कहा गया है. जेसीएनएल के सीइओ के अनुसार तीन चरणों में कॉमन डक्ट बनाने का काम होगा. इसमें 150 किलोमीटर तक ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के लिए डक्ट और अन्य सुविधाएं विकसित की जायेंगी. 125 किलोमीटर तक चैंबर बनाये जायेंगे.

दावे एक से बढ़ कर एक

कॉमन टेलीफोन डक्ट के जरिये टेलीकाम कंपनियों को लीज अथवा सभी तरह की ऑनलाइन सुविधाओं के लिए डक्ट खरीदने का दावा किया गया है. जेसीएनएल की तरफ से ब्राड बैंड हाइवेज, यूनिवर्सल एक्सेस, मोबाइल कनेक्टिविटी, पब्लिक इंटरनेट एक्सेस प्रोग्राम के अलावा वीडियो ऑन डीमांड, मोबाइल एप की सुविधाएं, ई-कामर्स, मोबाइल कामर्स, टेली मेडिसीन, टेली एजुकेशन, क्लाउड कंप्यूटिंग, ऑनलाइन नेवीगेशन, इ-वोटिंग, ऑनलाइन न्यूज, टीवी सीरियल देखने की सुविधा, ऑनलाइन गेमिंग और ऑनलाइन मीटिंग की सुविधाएं देने का दावा किया गया है.

इसे भी पढ़ेंः खरीफ फसल के लिए हर साल पांच हजार डीबीटी के माध्यम से मिलेंगे : डीसी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: