RanchiTop Story

बिलिंग सिस्टम में बदलाव करेगा JBVNL लेकिन उपभोक्ताओं को नहीं करना होगा अतिरिक्त खर्च

विज्ञापन

विद्युत नियामक आयोग की सहमति के बाद होगी नयी व्यवस्था लागू

मीटर खरीद में ही किया जायेगा बदलाव, उपभोक्ताओं को नियामक आयोग की ओर से तय दर में ही देना होगा बिल

Ranchi: झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड बिलिंग सिस्टम बदलने वाला है. इसके लिये मीटर खरीद में ही जेबीवीएनएल बदलाव करेगा. बिलिंग सिस्टम में बदलाव का असर उपभोक्ताओं पर नहीं होगा. न ही इसके लिये उपभोक्ताओं को अतिरिक्त बिल देना होगा.

advt

जेबीवीएनएल की ओर से बस मीटर के पैटर्न में बदलाव किया जायेगा. फिलहाल जेबीवीएनएल किलोवाट हॉवर में मीटर रीडिंग करता है. वहीं बिलिंग सिस्टम में बदलाव के बाद जेबीवीएनएल किलोवोल्ट में मीटर रीडिंग करेगा. हालांकि, बिजली दर वहीं रहेंगी जो झारखंड राज्य विद्युत नियामक आयोग की ओर से तय की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंः जिस BRGF फंड से पूरा करना था पुराना काम, तत्कालीन चाईबासा DDC आदित्य रंजन ने शुरू कर दी तीन करोड़ की नयी योजनाएं

जेबीवीएनएल की मानें, तो बिलिंग सिस्टम में बदलाव से वितरक कंपनियां बिजली खपत समेत अन्य मानकों को मेंटेंन कर सकती है. बिलिंग सिस्टम में बदलाव एलटीआइएस, आरटीएस और एमईएस लाइसेंसियों के लिये किया जायेगा. हालांकि नियामक आयोग की ओर से इसकी सहमति दी जायेगी. तभी जेबीवीएनएल की ओर से ये बदलाव किया जायेगा.

पिछले साल भी टैरिफ प्रस्ताव में शामिल था

हालांकि बिलिंग सिस्टम में बदलाव संबंधी प्रस्ताव पर जेबीवीएनएल पिछले साल से काम कर रहा है. पिछले साल जेबीवीएनएल ने टैरिफ पिटिशन में इस बात का उल्लेख किया था. जिसमें बिलिंग सिस्टम में बदलाव करते हुए किलो वाट हॉवर से किलो वोल्ट एंपियर करने का जिक्र है. लेकिन फिर जेबीवीएनएल ने इस पर काम नहीं किया. और न ही इस सिस्टम में बदलाव किया गया.

adv

इसे भी पढ़ेंः Corona नहीं रोक पाया कोर्ट कार्रवाई की रफ्तार, लॉकडाउन में HC ने सुने 18 हजार से ज्यादा केस

साल 2020-21 के टैरिफ पिटिशन में भी इस बात का जिक्र है. हालांकि टैरिफ पिटिशन पर अब तक सहमति बनी नहीं है. नियामक आयोग की ओर से जेबीवीएनएल के पिटिशन पर जनसुनवाई की गयी है. जिसमें उपभोक्ताओं ने बिलिंग में बदलाव के प्रस्ताव के बाद भी बदलाव नहीं करने का विरोध जताया.

मीटर खरीद में होगा बदलाव

नियामक आयोग की ओर से टैरिफ दरों के साथ इस पर सहमति दी जायेगी. जिसके बाद जेबीवीएनएल मीटर खरीद में ही बदलाव करेगा. बता दें पहले से ही जेबीवीएनएल स्मार्ट मीटर पर काम कर रही है. इसके लिये फिर से टेंडर निकाला जायेगा. संभावना है कि स्मार्ट मीटर के साथ ही इस व्यवस्था को लागू किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः Corona Update: देश में 76,472 नये केस, मरीजों की संख्या 34 लाख के पार

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button