NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जतपुरा गोलीकांड : प्रमुख अभियुक्त संजीत सिंह समेत सात अभियुक्तों को उम्रकैद की सजा  

बहुचर्चित जतपुरा गोलीकांड के प्रमुख अभियुक्त संजीत सिंह समेत सात अभियुक्तों को उम्रकैद

449

Garhwa : अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश तृतीय शंभू लाल साव कोर्ट ने बहुचर्चित जतपुरा गोलीकांड के प्रमुख अभियुक्त संजीत सिंह समेत सात अभियुक्तों को उम्रकैद एवं आर्थिक जुर्माने की सजा सुनाई है. इससे पूर्व कोर्ट ने जतपुरा गोलीकांड से संबंधित एसटी 207/17 की सुनवाई पूरी होने के बाद  2 अगस्त को इस कांड के प्रमुख अभियुक्त संजीत सिंह समेत सभी सातों अभियुक्तों को दोषी करार दिया था तथा 9 अगस्त को सजा सुनाने की तिथि मुकर्रर की थी. आज 9 अगस्त को सातों अभियुक्तों के खिलाफ सजा के बिंदु पर सुनवाई हुई और उम्रकैद के साथ साथ आर्थिक जुर्माने की सजा सुनाई गयी.

इसे भी पढ़ेंः125 वोटों के साथ हरिवंश बने उपसभापति, हरिप्रसाद को मिले 105 वोट

जुर्माना नहीं देने पर तीनों को तीन-तीन साल अतिरिक्त सजा काटनी होगी

कोर्ट ने अभियुक्त संजीत सिंह, गुड्डू सिंह, यशवंत सिंह को उम्रकैद के साथ साथ एक एक लाख जुर्माना की सजा सुनाई है. जुर्माना नहीं देने पर तीनों को तीन-तीन साल अतिरिक्त सजा काटनी होगी. जबकि चार अन्य अभियुक्तों रमेश सिंह, धर्मेंद्र सिंह, गुड्डू मेहता, सुरेंद्र पाल को कोर्ट ने उम्रकैद के साथ साथ पचास पचास हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई है. जुर्माना नहीं देने पर चारो को दो दो साल अतिरिक्त सजा काटनी होगी. कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि जुर्माने की जमा की गयी राशि में से मृतक निरंजन यादव व बिमलेश यादव की पत्नी को 40-40 प्रतिशत एवं उदय यादव की पत्नी को 20 प्रतिशत राशि देय होगा. कोर्ट ने पीड़ित परिवारों को मुआवजे की राशि के लिए डीएलएसए गढ़वा को आवेदन देने को कहा है.

जिनको सजा सुनाई गई : संजीत सिंह, गुड्डू सिंह, यशवंत सिंह, रमेश सिंह, धर्मेंद्र सिंह, गुड्डू मेहता, सुरेंद्र पाल

इसे भी पढ़ेंःहॉरर किलिंग ! दलित से शादी करने वाली लड़की और सुरक्षा में लगे सब इंस्पेक्टर की हत्या

ग्रामीण और बालू घाट के ठेकेदार आमने सामने आ गये और खूनी संघर्ष हुआ

madhuranjan_add

विशुनपुरा थाने के पिपरी-जतपुरा में बांकी नदी के बालूघाट पर स्थित श्मशान घाट से ग्रामीण बालू उठाव का विरोध कर रहे थे. जबकि ठेकेदार अपने लीज का हवाला देकर बालू का उठाव कर रहे थे. गत वर्ष 19 मई 2017 को जतपुरा के ग्रामीण और बालू घाट के ठेकेदार धर्मवीर सिंह के मौसेरे भाई आमने सामने आ गये और खूनी संघर्ष हुआ जिसमें तीन ग्रामीणों समेत चार लोगों की मौत हो गयी थी. संजीत सिंह एवं उनके सहयोगियों पर एक ही परिवार के तीन लोगों पिता उदय यादव (55 वर्ष) और उसके दो पुत्र निरंजन यादव (35 वर्ष) तथा विमलेश यादव (30 वर्ष) को गोली मारकर हत्या करने का आरोप है.

जबकि विमलेश का चचेरा भाई अरुण यादव इस हमले में गोली लगने से घायल हुआ था. उधर प्रतिक्रिया में आक्रोशित ग्रामीणों द्वारा ठीकेदार धर्मवीर सिंह के मैनेजर बिहार के औरंगाबाद जिला के नवीनगर निवासी सत्येन्द्र सिंह (40 वर्ष) की लाठी डंडे व पत्थर से पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी थी एवं बालू घाट पर खड़े पन्द्रह ट्रक, दो पोकलेन मशीन, एक मोटरसाईकिल तथा एक बोलेरो को आग के हवाले कर दिया था.

जतपुरा गोलीकांड में मारे गए लोगों के परिवार के सदस्य सत्यदेव यादव ने विशुनपुरा थाने में पिपरी निवासी संजीत सिंह एवं अन्य लोगों के विरुद्ध नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई थी. इस मामले की स्पीडी ट्रायल के दौरान 28 लोगों का साक्ष्य रिकॉर्ड किया गया था. सजा के एलान को लेकर गढ़वा कोर्ट में पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई थी.

इसे भी पढ़ें- नेतरहाट एवं इंदिरा गांधी आवासीय विद्यालय होगा सीबीएसई, राज्य के हर पंचायत में प्लस टू स्कूल खोलेगी सरकार 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: