Education & CareerJharkhand

रांची विश्वविद्यालय में इस सत्र से होगी जापानी भाषा की पढ़ाई, 3 अक्टूबर से मिलेगा नामांकन फॉर्म

विज्ञापन

Ranchi : रांची विश्वविद्यालय में इसी शैक्षणिक सत्र से जापानी भाषा की पढ़ाई होगी. यह एक वोकेशनल कोर्स होगा. नामांकन के साथ ही अक्तूबर के अंतिम सप्ताह से क्लासेस शुरू किए जाने की संभावना है.  यह कोर्स विश्वविद्यालय का सेल्फ फिनांस कोर्स होगा. इसका संचालन डिपार्टमेंट ऑफ फॉरेन लैंग्वेजेज के तहत किया जाएगा. शुरुआत छह माह के सर्टिफिकेट कोर्स से होगी. इसके लिए मंगलवार को रांची विश्वविद्यालय और तमाई वनओप्पो इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के बीच एमओयू हुआ. रांची विश्वविद्यालय की ओर से रजिस्ट्रार डॉ अमर कुमार चौधरी और तमाई वनओप्पो इंडिया प्राइवेट लिमिटेड की ओर से मैनेजर हिमा कुमारी ने करार पर हस्ताक्षर किये.

इसे भी पढ़ें :अयोध्या : विवादित ढांचा विध्वंस मामले में आज आएगा फैसला

कुल 80 कक्षाएं होंगी

छह माह सर्टिफिकेट कोर्स में न्यूनतम 30 और अधिकतम 35 सीटों पर नामांकन होगा. सप्ताह में 4 दिन कक्षाएं होंगी और पूरे पाठ्यक्रम में कुल 80 कक्षाएं होंगी. एक क्लास की अवधि 2 घंटे होगी. शिक्षक तमाई वनओप्पो इंडिया प्राइवेट लिमिटेड उपलब्ध् कराएगी. एमओयू के दौरान प्रोवीसी एवं प्रभारी कुलपति डॉ कामिनी कुमार, वित्त परामर्शी सुविमल मुखोपाध्याय, डीएसडब्ल्यू डॉ पीके वर्मा, वोकेशनल पाठ्यक्रमों के निदेशक डॉ मुकुंद चंद्र मेहता, डिप्टी रजिस्ट्रार डॉ प्रीतम कुमार और फॉरेन लैंग्वेज विभाग की समन्वयक  डॉ स्मृति सिंह समेत अन्य मौजूद थे.

advt

इसे भी पढ़ें :यूपी पुलिस ने दरिंदगी की शिकार युवती के शव का जबरन अंतिम संस्कार किया, कांग्रेस ने मुख्यमंत्री से मांगा इस्तीफा

3 अक्टूबर से मिलेगा फॉर्म 

जापानी भाषा की पढ़ाई के लिए फार्म 3 अक्तूबर से मिलेगा. फॉर्म 3 अक्टूबर से विश्वविद्यालय के मोरहाबादी स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ लीगल स्ट्डीज से लिया जा सकता है. कोर्स में नामांकन के लिए न्यूनतम योग्यता किसी भी संकाय से 12वीं उत्तीर्ण होना है. इसमें उम्र की कोई बाध्यता नहीं है. सामान्य श्रेणी के विद्यार्थियों के लिए फीस लगभग 11000 रुपए और एससी एसटी विद्यार्थियों के लिए लगभग 9000 रुपए है. जापानी भाषा पाठ्यक्रम का संचालन इंस्टीट्यूट ऑफ लीगल स्टडीज कैंपस से ही किया जाएगा.

स्पेनिश एवं जर्मन भाषा की भी होगी पढ़ाई 

वोकेशनल पाठ्यक्रमों के निदेशक डॉ मुकुल चंद्र मेहता ने बताया कि जापानी भाषा में सर्टिफिकेट कोर्स के बाद डिप्लोमा और एडवांस डिप्लोमा कोर्स भी शुरू किए जाएंगे. आने वाले समय में स्पेनिश और जर्मन जैसी अन्य विदेशी भाषाओं की भी पढ़ाई शुरू होगी.

इसे भी पढ़ें :उपचुनावः लोकसभा और विधानसभा की 56 सीटों के लिए तीन और सात नवंबर को वोटिंग

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button