National

चीन से जापान भी नाराज, रद्द कर सकता है चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का दौरा

विज्ञापन
Advertisement

Tokyo : भारत और तीन के बीच चल रहे तनाव के बीच ही जापान भी चीन को तगड़ा झटका देगा. जापान चीन की विस्‍तारवादी नीतियों का बहुत पहले से शिकार रहा है. चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग करीब 12 साल जापान के दौरे पर जानेवाले हैं. लेकिन अब खबरें मिल रही हैं कि जापान इस यात्रा को रद्द कर सकता है.

यह राजकीय यात्रा इससे पहले अप्रैल में होनी थी लेकिन कोरोना वायरस को देखते हुए इसे स्‍थगित कर दिया गया था. अब शी जिनपिंग की यात्रा को लेकर जापान में सत्‍तारूढ़ लिबरल डेमोक्रैटिक पार्टी के अंदर ही भारी विरोध हो रहा है.

चीन और जापान के बीच पिछले कुछ समय से तनाव चल रहा है. अब जापान में पार्टी के सांसदों ने औपचारिक रूप से अनुरोध किया है कि हॉन्‍ग कॉन्‍ग में राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून लागू करने को देखते हुए शी जिनपिंग की जापान यात्रा को रद्द किया जाये. हॉन्‍ग कॉन्‍ग में चीन की कार्रवाई से जापान के सांसद काफी नाराज हैं. उन्‍हें यह डर सता रहा है कि इस कानून से हॉन्‍ग कॉन्‍ग में काम कर रहे जापान के लोगों के अधिकारों का उल्‍लंघन होगा.

advt

इसे भी पढ़ें – राज्य में कोरोना से 16वीं मौत, 71 वर्षीय बुजुर्ग ने गंवाई जान

जापान के कृषि उत्‍पादों का सबसे बड़ा आयातक है हॉन्‍ग कॉन्‍ग

जापान ने आरोप लगाया है कि चीन कोरोना वायरस महामारी का इस्‍तेमाल आक्रामक कूटनीति को आगे बढ़ाने के लिए कर रहा है. उसका कहना है कि चीन ने हॉन्‍ग कॉन्‍ग पर अपनी पकड़ को मजबूत कर लिया है. हॉन्ग कॉन्ग दुनिया का वित्‍तीय केंद्र है और इससे जापान के हित भी जुड़े हुए हैं. हॉन्‍ग कॉन्‍ग में जापान की 1400 कंपनियां काम कर रही हैं. हॉन्‍ग कॉन्‍ग जापान के कृषि उत्‍पादों का सबसे बड़ा आयातक है.

हाल के दिनों में जापान और चीन के बीच सेनकाकू द्वीप समूहों को लेकर भी टकराव बढ़ता जा रहा है. चीन के जंगी जहाज लगातार जापानी इलाके में प्रवेश कर रहे हैं. इससे जापान काफी नाराज है.

इसे भी पढ़ें – ढह गई विकास दुबे की ‘लंका’, सबकुछ जमींदोज, देखें Photos

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: