World

#Japan में 60 सालों में सबसे भयंकर #TyphoonHagibis, 14 की मौत, तेज बारिश ने कहर बरपाया

Tokyo :   जापान में भीषण तूफान हेजिबीस ने शनिवार को दस्तक दे दी. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो यह जापान में आने वाला 6 दशक का संभवतः सबसे खराब तूफान है. मौसम विभाग की भविष्यवाणी के बाद ही जापान में इसका सामना करने के लिए कदम उठाये गये, बावजूद इसके अभी तक इस तूफान की चपेट में आने से 14 लोग मारे गये हैं और सैकड़ों घायल हो गये.

Jharkhand Rai

तूफान के चलते 73 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है. तूफान के डर से जापान के रेलवे स्टेशन ठप हो गये, गलियां सुनसान हो गयीं और लोग अपने घरों में दुबक गये. जापान के मौसम विभाग के मुताबिक शनिवार शाम वहां 144 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चल रही थीं.

एक 43 वर्षीय शख्स पर कार का हिस्सा गिरने से मौत हो गयी.   प्रशासन ने  रग्बी विश्व कप के दो मैच  रद्द कर दिये हैं.  जानकारी के  अनुसार  तूफान का प्रभाव इलाके में दस्तक देने से पहले ही दिखने लगा था. इस कारण पहले से ही देश में तेज बारिश का कहर बरपा हो रहा था.

इसे भी पढ़ें : #EconomicSlowdown  : अब World Bank ने 2019-20 में भारत का GDP अनुमान घटा कर 6 फीसदी किया

Samford

 चिबा में 5.7 तीव्रता के भूकंप का झटका  

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार तूफान के टकराने से ठीक पहले चिबा में 5.7 तीव्रता के भूकंप का झटका भी महसूस किया गया.  चूंकि इसका केंद्र जमीन में काफी गहराई में था इसलिए कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है. कई जगह भूस्खलन हुए हैं.  तूफान के कारण देश के प्रमुख द्वीप होंशू में भूस्खलन की आशंका जताई जा रही है. रिपोर्ट के अनुसार होंशू द्वीप के शहर चिबा में इसका उपद्रव जारी है, जहां हवा के तेज झोंकों के चलते यहां के कई घरों की छतें उड़ गई है, जिससे कई लोग घायल हो गये हैं.

इसे भी पढ़ें : #Turkey समर्थक विद्रोहियों का #Syria पर हमला, नौ लोगों को मौत के घाट उतारा, तीन दिन से हो रही है जंग

1,600 से अधिक विमान उड़ान नहीं भर पाये

जापान की दो बड़ी एयरलाइनों एनए और जेएएल ने दो हवाई अड्डों (हनेदा और नरिता) से निर्धारित सभी घरेलू उड़ानें रद्द कर दी हैं. सेंट्रल जापान रेलवे कंपनी ने शुक्रवार को ऐलान किया कि टोक्यो और नागोया के बीच शिनकानसेन बुलेट ट्रेन सेवाओं को निलंबित कर दिया है. तूफान के कारण सुजुका ग्रैंड प्रिक्स में भी खलल पड़ा और 1,600 से अधिक विमान उड़ान नहीं भर पाये हैं. .

आशंका जताई जा रही थी कि हेजिबीस साल 1958 में कान्टो और इजू क्षेत्र में तबाही मचाकर 1,200 से अधिक लोगों की जान लेने वाली तूफान की बराबरी कर सकता है. जापान के मौसम विभाग ने टोक्यो, इजू और शिलुओका प्रांत में भूस्खलन के लिए एक आपातकालीन चेतावनी जारी की है. इसके साथ ही जापान सरकार ने निवारक उपायों के लिए एक आपातकालीन बैठक बुलाई है और मध्य, दक्षिण व पश्चिमी जापान के निवासियों को  सतर्क रहने की सलाह दी है.

इसे भी पढ़ें : #PopeFrancis 13 अक्टूबर को वेटिकन सिटी में केरल की नन #MariamThresia को संत घोषित करेंगे

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: