न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JAP: जैप वन, जहां नवरात्रि में पंडाल तो बनता है लेकिन प्रतिमा नहीं बैठाई जाती, जानें क्‍या है मान्‍यता

1,549

Ranchi:   झारखंड सशस्त्र पुलिस (जैप वन) में सैनिक सम्मान के साथ कलश स्थापना की गयी. यहां सबसे बड़ी खासियत है कि मां भवानी की प्रतिमा की जगह कलश स्थापित किया जाता है.

इसी कलश पर मां का आह्वान किया जाता है. पूरे नौ दिनों तक कलश की रक्षा के लिए जैप की एक कंपनी तैनात रहती है़. रविवार को यहां 70 महिलाओं ने कलश की स्थापना की. बीच घेरे में मां भगवती का कलश बैठाया गया है. नवरात्र तक दुर्गा सप्तशती का पाठ करेंगी और उपवास रखेंगी़.

यहां 78 किलो जावा का रोपण किया गया. 70 कलश पर अखंड दीप प्रज्ज्वलित रहेगा. यहां बलि देने की परंपरा आज भी कायम है़.

इसे भी पढ़ेंः #BajrangDal का फरमान – गरबा में गैर-हिंदू करते हैं महिलाओं को परेशान, आधार कार्ड जांचकर रोकें एंट्री

गोलियों की सलामी के साथ की जाती है देवी की आराधना

नवरात्रि के मौके पर यहां गोलियों की सलामी के साथ देवी की आराधना की जाती है. यहां मूर्ति की जगह कलश की स्थापना की जाती है. सिटी की दुर्गा बाड़ी की तरह परंपराओं को सैकड़ों साल से सहेजती आ रही जैप वन की यह परंपरा अनोखी और आकर्षक है. यह परंपरा 150 साल पुरानी है.

और परंपराओं को उसी निष्ठा और श्रद्धा के साथ निभाया जा रहा है. इस बार जैप वन की पूजा में पहले दिन कलश स्थापना में 100 से ज्यादा महिलाओं ने हिस्सा लिया. यहां वाहिनी के सैनिकों ने बैंड बाजे बजाये. कल्श स्थापना में हिस्सा लेने वाली महिलाएं व्रतधारी है. और ये पूरे नवरात्र व्रत रखेंगी.

Related Posts

#TTPS नियुक्ति घोटाले के साक्ष्य न्यूज विंग के पास, पूर्व एमडी के खिलाफ जांच समिति ने नहीं सौंपी तय समय पर अपनी रिपोर्ट

विभाग की सचिव वंदना डाडेल ने समिति को जांच कर रिपोर्ट दो महीने में सौंपने को कहा था. लेकिन अभी तक समिति ने जांच रिपोर्ट विभाग को नहीं सौंपी है.

WH MART 1

लोगों का कहना है कि मां दुर्गा की पूजा का ही कमाल है कि हमारी वाहिनी के जवान नक्सल प्रभावित इलाकों में पोस्टिंग पर भी सुरक्षित रहते हैं.

इसे भी पढ़ेंः #KasturbaSchools में सत्र 2019-20 के लिए घटायी गयीं #seats, फिर भी 14,127 रह गयीं खाली

वर्षों से चली आ रही है प्रथा

1880 बटालियन रिजर्व पुलिस फोर्स के गठन के साथ ही यहां लगातार पूजा का आयोजन किया जा रहा है. विभिन्न रेजिमेंट से आये जवान भी यहां आकर इस पूजा की परंपरा को सीख गये हैं. जिसे यंग जेनरेशन भी फॉलो करता है.

1905 में गोरखा मिलिट्री के बाद 1948 बिहार मिलिट्री के बाद झारखंड स्थापना के साथ यहां झारखंड आर्म्ड फोर्स का गठन हुआ. अलग – अलग फोर्स के गठन के साथ ये परंपरा भी निरंतर चलती रही.

इसे भी पढ़ेंः #PMModi के मन की बात : बेटियों के सम्मान में #SelfieWithDaughter की तर्ज पर भारत की लक्ष्मी अभियान चलायें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like