JamtaraJharkhand

जामताड़ा :  लॉकडाउन में नाला का काजू कारोबार हुआ ठप, फलों की हो रही चोरी, नहीं मिल रहे मजदूर

Jamtara :  जामताड़ा का नाला प्रखंड काजू फल के लिए मशहूर है. नाला के काजू फल अच्छी क्वालिटी के माने जाते हैं. 50 हेक्टेयर में बगान फैला हुआ है. जिसमें 25000 से अधिक पेड़ फल से लदे हुए हैं. इस वर्ष काजू की अच्छी उपज भी हुई है. लेकिन लॉकडाउन के कारण फल को तोड़ने के लिए मजदूर नहीं मिल रहे हैं.

जमीन पर फल गिर कर नष्ट हो रहे हैं. बंदोबस्ती लेने वाले ठेकेदार को मजदूर नहीं मिलने से निराशा है. साथ ही काजू फल की चोरी होने से भी चिंतित हैं. ठेकेदार के अनुसार चोरी की रोकथाम के लिए प्रशासन से कोई मदद नहीं मिलती है.

इसे भी पढ़ेंः 2013 उग्रवादी हिंसा में जख्मी हुए CRPF के 8 जवानों को मिलेगी अनुदान राशि, सीएम ने दी मंजूरी

बंगाल के ठेकेदार ने ली है बंदोबस्ती

बंगाल के बीरभूम जिला के असित दे के नाम से बंदोबस्ती की गई है. सालाना 88 हजार 125 रुपये में तीन साल के लिए बंदोबस्ती की गई है. बता दें कि नाला का काजू बगान 25 वर्षों से उपेक्षित है. नाला में प्रोसेसिंग प्लांट नहीं है. फल की प्रोसेसिंग के लिए बंगाल ले जाया जाता है. इससे ठेकेदार का खर्च तीन गुना बढ़ जाता है. बता दें कि काजू उत्पादन में राज्य में नाला का दूसरा स्थान है.

इसे भी पढ़ेंः चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने कहा-  चीन सीमा पर हालात ‘सामान्य’ बनाने के लिए उठा रहा कदम

बंदोबस्ती के ठेकेदार ने बताई पीड़ा

काजू बगान की बंदोबस्ती के ठेकेदार असित दे ने कहा काजू फल की चोरी दिनों दिन हो रही है. प्रशासन की ओर से सुरक्षा की व्यवस्था नहीं है. इस साल निवेश की पूंजी भी लौटना मुश्किल है. मजदूर मिल नहीं रहे हैं. पके फल को प्रोसेसिंग प्लांट तक पहुंचाने की चुनौती है. तत्कालीन डीसी रमेश कुमार दुबे ने प्लांट लगाने का आश्वासन दिया था. लेकिन इस दिशा में अब तक कोई काम नहीं हुआ है.

ग्रामीण औनेपौने दाम में बेच देते हैं फल

ग्रामीण फल को औनेपौने दाम में बेच देते हैं. फल सहित बीज को ग्रामीण 10 से 15 रुपये किलो की दर से बेच देते हैं. नाला में प्रोसेसिंग प्लांट होता तो काजू के फल औनेपौने दाम में नहीं बिकते. ग्रामीणों को उचित मूल्य भी मिलता.

इसे भी पढ़ेंः पलामू: होम क्वारेंटाइन बेटे के अंतिम संस्कार के बाद पिता की मौत, 24 घंटे में दो मौत से गांव में हड़कंप  

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close